ऑस्ट्रेलिया T20 में पहली बार बना नया विश्व चैंपियन

दुबई। मिशेल मार्श (नाबाद 77) और डेविड वार्नर (53) के शानदार अर्धशतकों से ऑस्ट्रेलिया ने न्यूज़ीलैंड को रविवार को एकतरफाअंदाज में आठ विकेट से पराजित कर पहली बार टी 20 विश्व कप का चैंपियन बनाने का गौरव हासिल कर लिया।

न्यूज़ीलैंड ने कप्तान केन विलियम्सन की 85 रन की कप्तानी पारी से टी 20 विश्व कप के फाइनल में रविवार को 20 ओवर में चार विकेट पर 172 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर बनाया जबकि ऑस्ट्रेलिया ने 18.5 ओवर में दो विकेट पर 173 रन बनाकर खिताब अपने नाम कर लिया।

ऑस्ट्रेलिया टी 20 विश्व कप को जीतने वाली छठी टीम बना है। न्यूज़ीलैंड को 2019 के वनडे विश्व कप के फ़ाइनल में इंग्लैंड से बॉउंड्री कॉउंटबैक पर हार का सामना करना पड़ा था लेकिन कीवी टीम ने आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फ़ाइनल में भारत को हराकर खिताब जीता। अब टी 20 विश्व कप के फ़ाइनल में उसका पहली बार चैंपियन बनने का सपना ऑस्ट्रेलिया ने तोड़ दिया।

लक्ष्य का पीछा करते हुए ऑस्ट्रेलिया ने अपने कप्तान आरोन फिंच को 15 रन के स्कोर पर गंवा दिया। फिंच मात्र पांच रन ही बना सके, लेकिन इसके बाद वार्नर और मार्श ने दूसरे विकेट के लिए 92 रन की साझेदारी कर टीम को जीत की तरफ अग्रसर कर दिया।

वार्नर 38 गेंदों पर चार चौकों और तीन छक्कों की मदद से 53 रन बनाकर टीम के 107 के स्कोर पर आउट हुए। लेकिन मार्श ने ग्लेन मैक्सवेल के साथ टीम को जीत की मंजिल पर पहुंचा दिया। मार्श ने 50 गेंदों पर नाबाद 77 रन में छह चौके और चार छक्के लगाए जबकि मैक्सवेल में 18 गेंदों पर नाबाद 28 रन में चार चौके और एक छक्का लगाया।

इससे पहले टॉस गंवाने के बाद पहले खेलते हुए विलियम्सन ने एक छोर पर टिके रहकर 48 गेंदों पर 10 चौकों और तीन छक्कों की मदद से 85 रन की सर्वश्रेष्ठ पारी खेली और वेस्ट इंडीज के मार्लोन सैमुअल्स के 2016 के टी 20 विश्व कप के फ़ाइनल में नाबाद 85 रन बनाने के सर्वश्रेष्ठ स्कोर की बराबरी की।

कीवी कप्तान ने पहले 10 ओवरों में 19 गेंदों पर मात्र 18 रन बनाये लेकिन उसके बाद उन्होंने अपने तेवर तीखे करते हुए 29 गेंदों में 67 रन ठोक डाले। विलियम्सन ने मिशेल स्टार्क के पारी के 16वें ओवर में चार चौके और एक छक्का उड़ाते हुए 22 रन बटोरे। वह चौथे बल्लेबाज के रूप में 18वें ओवर की पांचवीं गेंद पर जोश हेजलवुड के हाथों आउट हुए। हेजलवुड ने चार ओवर में मात्र 16 रन देकर तीन विकेट हासिल किये।

ओपनर मार्टिन गुप्तिल ने 35 गेंदों में तीन चौकों की मदद से 28 रन, डेरिल मिशेल ने आठ गेंदों पर एक छक्के के सहारे 11 रन, ग्लेन फिलिप्स ने 17 गेंदों पर एक चौके और एक छक्के के सहारे 18 रन, जेम्स नीशम ने सात गेंदों में एक छक्के के सहारे नाबाद 13 और टिम सिफर्ट ने छह गेंदों पर एक चौके की मदद से नाबाद आठ रन बनाए।

खिलाड़ियों ने कमाल का प्रदर्शन किया: लैंगर

पहली बार टी 20 विश्व कप की चैंपियन बनी ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के कोच जस्टिन लैंगर ने फ़ाइनल के बाद कहा कि मैं जानता हूं कि इस वक़्त सभी कप्तान या कोच यही कहते कि ये शानदार लम्हा है लेकिन मैं सच बता रहा हूं इन खिलाड़ियों ने कमाल का प्रदर्शन किया है और हमने बहुत मज़ा किया। यही हमारी क़ामयाबी की सबसे बड़ी कुंजी है। ज़म्पा और हेज़लवुड ने जैसा प्रदर्शन किया है वह बेहद ख़ास है।

फ़ाइनल में 16 रन पर तीन विकेट लेने वाले जोश हेज़लवुड ने कहा कि केन ने जो पारी खेली वह बेहद ख़ास थी और जिस चीज़ के लिए वह जाने जाते हैं उन्होंने ठीक वही किया लेकिन हमारे लिए अच्छा रहा कि इसके बाद भी जीत हमारे पक्ष में आई।

एडम ज़म्पा ने कहा कि यहां कि पिचों पर ज़्यादा उछाल नहीं थी और सूखी पिचें थीं, मेरी कोशिश थी कि अपनी प्रतिभा के अनुरुप इसका फ़ायदा उठाऊं और मैंने वही किया। ख़ासतौर से सभी सपोर्ट स्टाफ़ के साथ-साथ उन्हें भी इसका श्रेय जाता है जो कठिन हालातों में और बायो-बबल के दौरान भी टीम के साथ खड़े थे।

पैट कमिंस और मिचेल स्टार्क भी बहुत ज़्यादा ख़ुश हैं और कह रहे हैं कि हमारे कंधों पर नई गेंद की ज़िम्मेदारी ज़रूर थी लेकिन यहां कि पिचों पर एडम ज़ैम्पा ने कमाल का प्रदर्शन किया और बेहद अहम भूमिका इस जीत में निभाई है।