रायबरेली में जहरीली शराब पीने से नौ लोगों की मौत

रायबरेली/लखनऊ। उत्तर प्रदेश में रायबरेली जिले के महाराजगंज स्थित पहाड़पुर गांव में मंगलवार की रात में जहरीली शराब पीने से अब तक नौ लोगों की मौत हो गई है। राज्य सरकार ने इस मामले में बुधवार को सख्त कार्रवाई करते हुये आबकारी विभाग के तीन अधिकारियों और छह पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है।

अपर मुख्य सचिव (आबकारी) संजय भूसरेड्डी ने लखनऊ में यह जानकारी देते हुए बताया कि सरकार ने इस घटना को गंभीरता से लेते हुये जिला प्रशासन को सख्त निर्देश दिये गये हैं कि जो भी जहरीली शराब की सप्लाई में शामिल हैं, उनके खिलाफ रासुका और गेंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की जाये। उन्होंने कहा कि सरकार ने स्पष्ट किया है कि इस मामले में शामिल कोई भी व्यक्ति कितना भी रसूख वाला क्यों न हो, बख्शा नहीं जाएगा।

रेड्डी ने बताया कि निलंबित होने वालों में छह पुलिसकर्मी और तीन आबकारी विभाग के अधिकारी कर्मचारी शामिल हैं। इनमें रायबरेली के जिला आबकारी अधिकारी राजेश्वर मौर्य, आबकारी निरीक्षक अजय कुमार और कांस्टेबल धीरेंद्र श्रीवास्तव को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। इनके अलावा महाराजगंज के थाना अध्यक्ष नारायण कुमार कुशवाहा, चौकी प्रभारी धुलवासा राजकुमार, सिपाही रत्नेश कुमार राय, बृजेश कुमार यादव, शिवनारायण पाल और विजय राम को भी निलंबित किया गया है।

उन्होंने स्पष्ट किया कि अग्रिम आदेश तक रायबरेली और आसपास के जिलों में टेट्रापैक वाली देशी शराब ही बिकेगी। साथ ही विंडीज ब्रांड के नाम वाली जिस शराब को पीने से यह घटना हुयी उसकी आपूर्ति के स्रोत का भी पता लगाया जा रहा है।

इससे पहले रायबरेली के एडीएम (प्रशासन) अमित कुमार ने बताया कि जिले के पहाड़पुर गांव में स्थित सरकारी शराब के ठेके पर जहरीली शराब पीने से अब तक नौ लोगों की मौत हो गयी है और दो दर्जन से अधिक लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा है। इनमें से कुछ की हालत गंभीर है।

रायबरेली के पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार ने बताया कि घटना से जुड़े शराब के ठेके का लाइसेंस धारक धीरेंद्र सिंह है। उन्होंने बताया कि ठेके पर मंगलवार देर शाम कुछ लोगों ने शराब खरीद कर पी थी।

कुमार ने बताया कि देर रात पुलिस को सूचना मिली कि दो व्यक्तियों को महाराजगंज स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती कराया गया है। शराब पीने वाले कुछ अन्य लोगों की हालत बाद में बिगड़ने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया। उन्होंने बताया अब तक नौ लोग की मौत हो चुकी है जब कि कुछ अन्य की हालत गंभीर बनी हुई है।

जहरीली शराब पीकर मरने वालों में पंकज (28), सरोज (40), रामसुमेर (40), गजोधर (46), वंशिलाल (50), सुखरानी (60) और चंद्रपाल (50) के अलावा कासिम और कल्लू भी शामिल हैं। जबकि कुछ अन्य लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है। इनका अस्पताल में इलाज चल रहा है। कुमार ने बताया कि ठेके का लाइसेंस धारक फरार है। उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस उसकी तलाश कर रही है।

वहीं, महाराजगंज स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के सूत्रों से जानकारी मिली है कि मंगलवार को देर रात जहरीली शराब पीने वाले जो लोग इलाज के लिये लाये गये थे उनमें से तीन मृत अवस्था में थे। शराब पीने वालों की संख्या 30-35 तक बतायी गयी है।

एक कर्मचारी ने बताया कि इन सभी की हालत गंभीर थी, जिन्हें प्राथमिक चिकित्सा के बाद जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। इन सभी का इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है।

जिला प्रशासन ने सरकारी ठेके या किसी भी स्थल से ‘विंडीज़’ नामक ब्रांड की देशी शराब के सेवन पर रोक लगाते हुए जिला कंट्रोल रूम से एक हेल्पलाइन नम्बर भी जारी किया है। इसमें कहा गया है कि अगर किसी ने विंडीज ब्रांड की देशी शराब का सेवन किया है तो वह तत्काल नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र जाकर अपनी स्वास्थ्य जांच करा ले।