नितीन गडकरी ने कहा, नौसेना विकास में डाल रही रोड़ा

Nitin Gadkari Slams Navy For Opposing Jetty Construction In Mumbai

मुंबई। केंद्रीय पोत परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने एक अभूतपूर्व ‘हमले’ में गुरुवार को भारतीय नौसेना की आलोचना करते हुए कहा कि वह मुंबई के विकास की परियोजनाओं में रोड़ा अटका रही है, जिसमें नरीमन प्वाइंट पर फ्लोटिंग जेट्टी परियोजना का विरोध भी शामिल है।

हाल ही में बंबई उच्च न्यायालय ने एक निजी ऑपरेटर को सीप्लेन सेवा लांच करने के लिए फ्लोटल जेट्टी बनाने की अनुमति देने से इनकार कर दिया था, क्योंकि निजी कंपनी को भारतीय नौसेना के पश्चिमी नौसेना कमांड ने सुरक्षा कारणों से अनुमति नहीं दी थी।

गडकरी ने यहां महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के साथ अंतरराष्ट्रीय क्रूज टर्मिनल की आधारशिला रखते हुए कहा कि वास्तव में, मालाबार हिल (दक्षिण मुंबई) में नौसेना को क्या करना है. उन्हें देश की सीमा पर जाकर सुरक्षा करनी चाहिए।

भारतीय नौसेना पर विकास कार्य में बाधा डालने का आरोप लगाते हुए गडकरी ने कहा कि नौसेना के लोग दक्षिण मुंबई में क्यों रहना चाहते हैं।

गडकरी ने पश्चिमी कमांड के प्रमुख वाइस एडमिरल गिरिश लूथरा समेत शीर्ष नौसेना अधिकारियों की उपस्थिति में कहा कि वे मेरे पास जमीन का एक टुकड़ा मांगने आए थे, मैं उन्हें एक इंच जमीन का टुकड़ा नहीं दूंगा। कृपया मेरे पास दोबारा मत आना।

उन्होंने कहा कि हर कोई दक्षिण मुंबई की महंगी जमीन पर घर बनाना चाहता है, जबकि यहां केवल वरिष्ठ और महत्वपूर्ण अधिकारियों को ही रहना चाहिए।

गडकरी ने कहा कि हम आपकी इज्जत करते हैं, लेकिन आपको पाकिस्तान सीमा पर जाना चाहिए। पूर्वी समुद्री किनारों की भूमि राज्य सरकार और मुंबई पोर्ट ट्रस्ट द्वारा विकसित की जा रही है, जिससे स्थानीय नागरिकों को फायदा होगा। उन्होंने कहा कि हम सरकार हैं। यह नौसेना और रक्षा मंत्रालय सरकार नहीं है।

गडकरी ने भारतीय नौसेना पर विकास परियोजनाओं में अड़ंगा डालने की आदत बनाने का आरोप लगाया और कहा कि सुरक्षा बल को मालाबार हिल क्षेत्र की चिंता क्यों है, जो कि एक आवासीय क्षेत्र है, जहां राज भवन और मुख्यमंत्री के अधिकारियों का निवास है।

पोत परिवहन मंत्री ने नौसेना से अपील की कि वह मुद्दों का समाधान करें, और कहा कि वे रुकी हुई अवसंरचना परियोजनाओं का रास्ता जल्द से जल्द साफ करने के लिए बनाई गई समिति के अध्यक्ष हैं।