राजस्थान के सरकारी स्कूलों में शनिवार को नो बैग डे प्रस्तावित

जयपुर। राजस्थान में राजकीय विद्यालयों में शनिवार को ‘नो बैग डे’ घोषित किया जाने का प्रस्ताव किया गया है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज विधानसभा में वर्ष 2020-21 के लिए अनुमानित बजट पेश करते हुए कहा कि सरकारी विद्यालयों में शनिवार को किसी तरह का अध्यापन कार्य नहीं होगा। इस दिन अभिभावक – अध्यापक मीटिंग के अलावा साहित्यिक, एवं सांस्कृतिक गतिविधियां, खेलकूद, व्यक्तित्व विकास, स्काऊट, जीवनमूल्य बालसभायें एवं अन्य क्रियायें आयोजित की जाएंगी।

उन्होंने कहा कि राज्य के माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक विद्यालयों में कम्प्यूटर शिक्षा के लिए नये कम्प्यूटर शिक्षक कैडर का सूृजन करने के प्रावधान करने का प्रस्ताव है। गहलोत ने कहा कि राज्य में 33 जिला मुख्यालयों पर महात्मा गांधी के नाम से अंग्रेजी माध्यम के विद्यालयों का प्रयोग काफी सफल रहा है।

राज्य के 301 शैक्षणिक ब्लॉक में से 134 ब्लॉक पर अंग्रेजी माध्यम के विवेकानंद मॉडल स्कूल स्थापित हो चुके हैं। शेष 167 ब्लॉक में भी अंग्रेजी माध्यम के एक एक महात्मा गांधी राजकीय विद्यालय की स्थापना किया जाना प्रस्तावित है।

उन्होंने बताया कि 200 उच्च माध्यमिक विद्यालयों में अतिरिक्त संकाय एवं 300 उच्च माध्यमिक विद्यालयों में अतिरिक्त विषय जरूरत के मुताबिक खोले जाने प्रस्तावित हैं।

गहलोत ने बताया कि शिक्षा के अधिकार के तहत आवश्यकतानुसार उच्च प्राथमिक, माध्यमिक एवं सीनियर हायर सैंकंडरी विद्यालय खोले जाने प्रस्तावित हैं। अगले तीन वर्षों में 66 कस्तुरबा गांधी आवासीय विद्यालयों की स्थापना प्रस्तावित है।

उन्होंने बताया कि महाविद्यालयों में युवाओं में कौशल विकास के लिये कौशल वृद्धि रोजगारपरक प्रशिक्षण (सीट) कार्यक्रम शुरु किया जाएगा, जिसके जरिए हर वर्ष 10 हजार विद्यार्थियों को प्रशिक्षित किया जाएगा। महाविद्यालयों में विद्यार्थियों को इंटरनेट के जरिए वीडियो व्याख्यान की सुविधा के लिए राजीव गांधी ई-कन्टेंट बैंक की स्थापना किया जाना प्रस्तावित है।