एक्प्रेसवे निर्माण में गुणवत्ता से समझौता बर्दास्त नहीं : नितिन गडकरी

सोहना/दौसा/सवाईमाधोपुर/रतलाम। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने दिल्ली और मुंबई के बीच बन रहे देश के सबसे लंबे एक्सप्रेसवे के कार्य स्थलों पर जाकर इसकी प्रगति की गुरुवार को समीक्षा की और निर्माण एजेंसियों को सख्त हिदायत दी कि निर्माण कार्य की गुणवत्ता से किसी भी तरह का समझौता नहीं किया जाएगा।

गडकरी ने हरियाणा के सोहना राजस्थान के दौसा और सवाई माधोपुर तथा मध्य प्रदेश के रतलाम में निर्माण कार्यों का जायजा लिया और निर्माण स्थलों पर अधिकारियों तथा ठेकेदारों से कहा कि यह राष्ट्र की संपत्ति और देश के विकास का आधार है इसलिए इस पर किसी भी तरह का भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि यह एक्सप्रेसवे देश की शान और विकास का आधार बनेगा तथा जिन राज्यों से यह सड़क मार्ग जा रहा है वहां पर बड़ी तादाद में स्थानीय लोगों के लिए रोजगार का माध्यम बनेगा। इससे स्थानीय लोगों को रोजगार के साथ ही काश्तकारों के उत्पादों के लिए आसानी से बाजार भी उपलब्ध हो सकेगा।

केंद्रीय केंद्रीय मंत्री ने कहा कि यह देश का सबसे बड़ा 1350 किलोमीटर लंबा एक्सप्रेसवे होगा जिसे एक लाख करोड़ रुपए की लागत से तैयार किया जा रहा है। एक्सप्रेसवे हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात तथा महाराष्ट्र से होकर जा रहा है जिससे दोनों महानगरों के बीच की दूरी कम होगी तथा दिल्ली से मुंबई का सड़क मार्ग से सफर 13 घंटे में पूरा किया जा सकेगा।