अब किसान की मर्जी के खिलाफ कोई फैसला नहीं होगा : राकेश टिकैत

जयपुर। भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि किसान और नौजवान अब जाग चुका है और अब किसान की मर्जी के खिलाफ कोई फैसला नहीं होगा

टिकैत आज पांचवे महाराजा सूरजमल अंतरराष्ट्रीय जाट प्रतिभा सम्मान समारोह में बोल रहे थे। उन्होंने पार्टी और सरकार को अलग अलग बताते हुए कहा कि कोई मुख्यमंत्री या प्रधानमंत्री अपनी पार्टी के बैनर पर लाभ देने की घोषणा करते हैं तो उसका विरोध किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि गलत काम का विरोध होगा और जो देश को बांटने का काम करेगा, हम उसका विरोध करेंगे। उन्होंने कहा कि उनका किसी पार्टी के प्रति कोई विरोध नहीं है, उनका जो विरोध था वह केन्द्र सरकार के खिलाफ था।

उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन के दौरान पिछले दिनों केन्द्र सरकार के खिलाफ तेरह महीने ट्रेनिंग की गई। उन्होंने कहा कि वे नहीं चाहते कि देश का प्रधानमंत्री माफी मांगे क्योंकि इससे देश की साख खराब होती है।

उन्होंने कहा कि अब किसान की मर्जी के खिलाफ कोई फैसला नहीं होगा। पूरे देश को बेचना चाह रहे हैं लेकिन बिकने नहीं दिया जायेगा। उन्होंने आंदोलन के दौरान देश के लोग वैचारिक रूप से किसान के साथ खड़े थे। देश का जवान भी किसान के साथ खड़ा था।

टिकैत ने कहा कि किसान संयुक्त मोर्चा देश में हर चीज पर नजर रख रहा है और देश की संपत्ति को बिकने नहीं दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि निजीकरण का भी विरोध किया जाएगा। उन्होंने कहा कि निजीकरण से बेरोजगारी बढ़ेगी, इसलिए इसका विरोध होगा। उन्होंने कहा कि गुजरात में तो पुलिस का भी निजीकरण कर दिया गया है। यह है गुजरात मॅाडल।