राहुल गांधी ने मांगी कश्मीर के लोगों से मिलने की इजाजत

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के विमान भेजकर राज्य की स्थिति का मुआयना करने के आमंत्रण को ठुकराते हुए मंगलवार को कहा कि उन्हें विमान नहीं चाहिए बल्कि वह सिर्फ यह चाहते हैं कि उन्हें राज्य के लोगों से मिलने की इजाजत मिले।

गांधी ने कहा है कि वह विपक्ष के नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल के साथ जम्मू कश्मीर तथा लद्दाख के लोगों और वहां के प्रमुख नेताओं से मिलना चाहते हैं इसलिए राज्यपाल यह सुनश्चित करें के उन्हें स्वतंत्र रूप से वहां के लोगों के साथ बात करने का मौका मिले।

गौरतलब है कि गांधी ने शनिवार को कांग्रेस कार्य समिति की बैठक में शामिल होने के बाद पत्रकारों से कहा था कि जम्मू कश्मीर में हालात बहुत खराब होने की रिपोर्ट हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को वहां की वास्तविक स्थिति देश को बतानी चाहिए। उन्होंने कहा था कि नए कांग्रेस अध्यक्ष के चयन के लिए आयोजित कार्य समिति की बैठक में उन्हे इन्हीं रिपोर्टों के मद्देजनर बुलाया गया था और कार्य समिति ने इस बारे में विचार भी कर रही है।

मलिक ने सोमवार को गांधी की इस टिप्पणी पर तीखा प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि गांधी सिर्फ बयानबाजी नहीं करें बल्कि जम्मू कश्मीर आकर स्थिति को देंखे। कश्मीर घाटी के उनके दौरे के लिए विमान की व्यवस्था की जाएगी।

गांधी ने ट्वीट कर मंगलवार को मलिक को जवाब दिया और कहा कि प्रिय राज्यपाल मलिकजी, मैं और विपक्ष के नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल आपके निमंत्रण पर जम्मू कश्मीर तथा लद्दाख आना चाहेगा। हमको आपका विमान नहीं चाहिए बल्कि यह सुनिश्चित करें कि हम स्वतंत्र रूप से घूम सकें और वहां के लोगों, मुख्यधारा के नेताओं तथा वहां की सुरक्षा में तैनात हमारे जवानों से हम मिल सकें।