गैर सरकारी स्कूलों में नि:शुल्क प्रवेश के लिए निकाली ऑनलाइन लॉटरी

जयपुर। राजस्थान के शिक्षा राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी ने गैर सरकारी विद्यालयों में बच्चों को मुफ्त एवं अनिवार्य शिक्षा का अधिकार (आरटीई) अधिनियम के तहत निःशुल्क प्रवेश के लिए आज यहां ऑनलाइन लॉटरी निकाली।

देवनानी ने शिक्षा संकुल स्थित सभागार में गैर सरकारी विद्यालयों में आरटीई के अन्तर्गत निःशुल्क सीट्स पर शैक्षिक सत्र 2018-19 में प्रवेश के लिए वरीयता सूची का निर्धारण करने के लिए यह लॉटरी निकाली। उन्होंने बताया कि लॉटरी द्वारा जारी वरीयता सूची को अभिभावक विद्यालयवार प्राईवेट स्कूल वेबपार्टल पर देख सकते हैं।

उन्होंने बताया कि अभिभावक अपने आवेदन कीे आईडी नम्बर एवं मोबाइल नम्बर से लॉगिन करके अपने बालक बालिका का वरीयता क्रमांक सभी आवेदित विद्यालयों में एक साथ देख सकते हैं। यह सुविधा मोबाइल एप पर भी उपलब्ध है।

उन्होंने बताया कि ऑनलाइन लॉटरी द्वारा वरीयता क्रम निर्धारण के बाद प्रवेश के इच्छुक अभिभावकों को 23 मार्च तक सम्बन्धित विद्यालय में आवेदन का प्रिंट मय संलग्नक एवं रिपोर्टिंग प्रपत्र उपस्थित होकर जमा कराना है। इसके बाद प्रवेश कार्य प्रारम्भ हो जाएगा।

उन्होंने बताया कि राज्य में निःशुल्क सीट्स पर प्रवेश के लिए आवेदकों की संख्या में पिछले वर्ष की तुलना में जागरूकता बढ़ी है। उन्होंने बताया कि लॉटरी के लिए ऑनलाइन 11 लाख 41 हजार 416 आवेदन प्राप्त हुए हैं। लॉटरी में शामिल बालकों के आवेदनों की संख्या 5 लाख 96 हजार 848 तथा बालिकाओं की संख्या 5 लाख 44 हजार 523 है। लाटरी में शामिल थर्ड जेन्डर बालकों के आवेदनों की संख्या 45 है।

उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष की तुलना में इस बार निःशुल्क सीट्स के तहत प्रवेश के लिए 4 हजार अधिक ऑनलाइन आवेदन प्राप्त हुए हैं। राज्य में निःशुल्क सीट्स पर प्रवेश के लिए पात्र विद्यालयों की संख्या 33 हजार 91 हैं जिनमें इस बार 28 हजार 525 विद्यालयों में प्रवेश के लिए ऑनलाइन आवेदन प्राप्त हुए हैं। उन्होंने बताया कि 4 हजार 566 विद्यालय ऐसे हैं जिनके लिए एक भी आवेदन पत्र प्राप्त नहीं हुआ है।