विहिप के एजेंडे में सिर्फ राममंदिर : विजय शंकर तिवारी

कानपुर। विश्व हिन्दू परिषद के अखिल भारतीय प्रचार प्रसार प्रमुख विजय शंकर तिवारी ने रविवार को कहा कि अयोध्या में भव्य राम मंदिर काे देश को समर्पित करने से पहले विहिप कोई दूसरा काम हाथ में नहीं लेगी।

विहिप के रविवार से शुरू हुए राष्ट्रव्यापी हित चिंतक अभियान के सिलसिले में आए तिवारी ने कहा कि अयोध्या में श्रीरामजन्मभूमि पर भव्य मंदिर बन कर तैयार नहीं हो जाता तब तक दूसरा काम हाथ में नहीं लेंगे। यह हिन्दू समाज के एजेंडे में है और हम हिन्दू समाज के हर एजेंडे का समर्थन करेंगे।

उन्होंने कहा कि हिन्दू समाज के धर्म क्षेत्र में विहिप हर संभव योगदान देगी। मथुरा में कृष्ण जन्मभूमि और वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद मामले में संगठन की भूमिका को नकारते हुए उन्होंने कहा कि स्वतंत्र रूप से जो लोग मथुरा और काशी मामले में काम कर रहे हैं उन्हें पूरी तरह से हमारा समर्थन है मगर संगठन की इन मामलो में कोई भूमिका नहीं है।

संगठन में पूरा तंत्र लगता है जिसका ध्यान अभी सिर्फ अयोध्या में राम मंदिर निर्माण पर है। रामजन्मभूमि के लिए विहिप ने एक संगठन के तौर पर पूरा काम किया। संगठन के नाते सोच है कि जब तक अयोध्या में राम मंदिर जब तक देश को समर्पित नहीं कर देते तब तक दूसरे काम में हाथ नहीं डालेंगे।

उन्होंने कहा कि विश्व हिन्दू परिषद को कार्य करते हुए 58 वर्ष हो गए, जिसमें कई आंदोलन, अभियान तथा सृजनात्मक कार्य हमने हाथ में लिए। 1984 में श्रीराम जन्मभूमि मन्दिर निर्माण आंदोलन आरम्भ किया, आज अयोध्या में भव्य मन्दिर का निर्माण हो रहा है, ऐसे ही रामसेतु , धारा 370 तथा 35ए आदि विषयों पर भी हमने हिन्दू समाज की भागीदारी एवं सहयोग से सफलता अर्जित की।

विहिप नेता ने कहा कि आज से 10 वर्ष पूर्व तक लव जिहाद मानने के लिए लोग तैयार नहीं थे आज सरकारों ने धर्मांतरण पर कानून बना दिए, गौ सुरक्षा तथा गौ संवर्धन के लिए अनेकों कार्य प्रारंभ किए गए पंचगव्य से औषधियां बनाई जो काफी प्रचलित हुई, वेदों पर वैज्ञानिक तथा शास्त्रीय अध्ययन के लिए संस्थान स्थापित किए गए।

उन्होंने कहा कि 2024 में विश्व हिन्दू परिषद् की स्थापना के साठ वर्ष पूर्ण हो जाएंगे, इस हीरक जयन्ती के पावन अवसर पर विश्व हिंदू परिषद के इस देश व्यापी हितचिंतक अभियान को सर्वस्पर्शी बनाने के लिये छह नवंबर से 20 नवंबर तक हम समाज के हर जाति मत पंथ संप्रदाय से संपर्क कर उन्हें हिन्दू समाज व राष्ट्र हित के कार्यों से जोड़ेंगे।

अभियान में विशेष वर्ग के लोगों को जोड़ने हेतु विशेष संपर्क भी किया जाएगा। इसके अन्तर्गत शिक्षाविदों, डॉक्टरों, इंजीनियरों, चार्डर्ड अकाउंटेंटों, वकील, पूर्व जजों, गायकों, अभिनेताओं, खिलाड़ियों इत्यादि प्रतिभाओं को सभी तरह के सेलेब्रिटी को भी जोड़ेंगे।

तिवारी ने कहा कि हितचिंतक अभियान की टोलियों का लक्ष्य भारत के डेढ़ लाख गांवों तक जाकर एक करोड़ हितचिंतक बनाने का है। इसके अंतर्गत लोगों को विहिप के कार्यों के बारे में विस्तार से जानकारी भी दी जाएगी। घर वापसी के अभियान में और तेजी आए। अभियान का उद्देश्य विहिप के विभिन्न आयामों के कार्यों का जन सेवार्थ विस्तार करना है।

सेवा कार्यों से अधिकाधिक वंचित समाज को जोड़ना, नई पीढ़ी में सनातन संस्कारों का संचार करना, गौवंशों की रक्षा तथा गौपालन, सामाजिक समरसता, नारी सशक्तीकरण, कुटुंब प्रबोधन, पर्यावरण संरक्षण व मठ-मंदिरों की सुव्यवस्था के साथ ही हिंदू समाज को संगठित करते हुए उसकी सुरक्षा के संकल्प का भाव जगाना भी अभियान का उद्देश्य है।