सिरोही नगर परिषद : सत्ता के ‘ठेके’ पर तो नहीं विपक्ष!

सिरोही नगर परिषद

    सिरोही नगर परिषद

सबगुरु न्यूज-सिरोही। सिरोही शहर अव्यवस्थित सफाई व्यवस्था समेत पूर्ववर्ती बोर्डों वाली अनदेखी अब भी जारी। इसके बावजूद विपक्ष में बैठी भाजपा का कोई रोल नगर परिषद में नजर नहीं आ रहा है।

कांग्रेस भले ही भाजपा के पूर्ववर्ती बोर्ड की नाक में दम किये हुई थी, लेकिन अब कांग्रेस के सिरोही नगर परिषद में सत्ता में बैठने पर भाजपा की खामोशी देखकर लग रहा है कि कांग्रेस बोर्ड ने उसे संरक्षण देने के ‘ठेके’ पर रख लिया है।

लंबे समय से नेता प्रतिपक्ष पर खींचतान

भाजपा सिरोही में अंदरूनी खींचातानी दूसरे पदों के साथ यहां भी चलती दिखी। नेता प्रतिपक्ष के पद पर डेढ़ साल तक किसी को काबिज नहीं किया गया। हाल ही में इस पद को भरा है। सिरोही नगर परिषद में भाजपा के 9 पार्षद हैं।

ये सब रामझरोखा क्षेत्र स्थित आरएसएस के प्रकल्प सेवा भारती के लिये जमीन की नीलामी के विरोध के अलावा जनता के हित में कभी एकसाथ विरोध करते नहीं दिखे। पैलेस रोड की बदहाली को लेकर भाजपा सिरोही मंडल के साथ जरूर भाजपा पार्षद गोपाल माली की सक्रिय दिखी थी।

एक ही साथ घोषणा फिर भी 2-0 का अंतर

सिरोही के भाजपा पार्षद गोपाल माली को भाजयुमो जिलाध्यक्ष भी बनाया गया है। इन्ही के आगे पीछे भाजपा पार्षद मगन मीना को नेता प्रतिपक्ष बनाया गया था।

भाजयुमो जिलाध्यक्ष के रूप में माली के दो प्रदर्शन हो गए, लेकिन नेता प्रतिपक्ष के रूप में मगन मीणा फिलहाल कांग्रेस बोर्ड को घेरने में उनसे 2-0 से पीछे रहे।  ऐसे में युवा जोश के आगे चुनावी अनुभव ठंडा दिखाई दे रहा है।