पाकिस्तान में आत्मघाती हमला, 128 की मौत 150 से अधिक घायल

Pakistan attack: Suicide bomber 'kills at least 128 and leaves more than 150 injured' at election rally
Pakistan attack: Suicide bomber ‘kills at least 128 and leaves more than 150 injured’ at election rally

क्वेटा। दक्षिण-पश्चिम पाकिस्तान में एक चुनावी रैली में हुए आत्मघाती विस्फोट में बलूचिस्तान अवामी पार्टी के उम्मीदवार नवाबजादा सिराज रायसानी सहित 128 लोगों की मौत हो गयी और 150 से अधिक घायल हो गए।

बलूचिस्तान के गृहमंत्री आगा उमर बंगुलजाई ने बताया है कि हमले में मरने वालों की संख्या बढ़कर 128 हो गई है तथा 150 से अधिक लोग घायल हुए हैं।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी कैमी लशरी ने इससे पहले बताया कि हिंसाग्रस्त बलूचिस्तान के मस्तुंग शहर में हुई रैली में एक हजार से अधिक लोग शामिल हुए थे।

आत्मघाती विस्फोट मस्तुंग से बीएपी के उम्मीदवार सिराज रायसनी को लक्ष्य बनाकर किया गया। सिराज बलूचिस्तान के पूर्व मुख्यमंत्री नवाब असलम रायसानी के छोटे भाई थे।

हमले में गंभीर रूप से घायल सिराज को चिकित्सकों ने क्वेटा भेजा जहां अस्पताल में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। शेष घायलों काे जिला मुख्यालय के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सिराज के एक अन्य भाई हाजी लशकरी रायसानी ने कहा कि मेरा भाई सिराज रायसनी शहीद हो गया। वह बलूचिस्तान से चुनाव लड़ रहा था।

उल्लेखनीय है कि तालिबान, अल कायदा और इस्लामी स्टेट से जुड़े आतंकवादी ईरान तथा अफगानिस्तान की सीमा से सटे इस प्रांत में सक्रिय हैं। इसके साथ इस क्षेत्र में पाकिस्तान सरकार के खिलाफ स्वदेशी बलूच समुदाय के लोग भी विद्रोह कर रहे हैं।

आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट ने अपनी संवाद एजेंसी ‘अमाक’ इस हमले की जिम्मदारी ली है लेकिन इस दावे के लिए विस्फोट से संबंधित अधिक विवरण एवं साक्ष्य नहीं दिया।

अपदस्थ प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के स्वदेश की भूमि पर कदम रखने से पहले हुए इस विस्फोट से लोगों में भय का माहौल है। आगामी 25 जुलाई को देश में आम चुनाव के बीच भ्रष्टाचार के मामले में श्री शरीफ और उनकी बेटी मरियम को मिली क्रमश:10 और सात साल की सजा से उनके के समर्थकों में रोष व्याप्त और देश में तनाव की स्थिति बनी हुई है।

पाकिस्तान में गत तीन वर्षों में यह सबसे घातक तथा एक सप्ताह में चुनावी रैली पर यह तीसरा हमला है। इससे पहले बननू में खैबर पख्तुन्खवा के पूर्व मुख्यमंत्री अकरम खान दुर्रानी के काफिले पर भी हमला किया गया। हालांकि वह सुरक्षित बच गए।

इस हमले में चार लोगाें की मौत हो गई थी और 32 अन्य घायल हो गए थे। इसी तरह गुरुवार की रात खुजदार में भी पीएपी की चुनाव कार्यालय के पास विस्फोट में दो लोग घायल हो गए।