भारत ने कुलभूषण जाधव के वीडियो को ‘प्रोपेगेंडा अभ्यास’ बताया

 

Pakistan puts out new video on Kulbhushan Jadhav, India calls it a ‘propaganda stunt’

इस्लामाबाद। पाकिस्तान ने गुरुवार को अपनी जेल में बंद भारतीय कुलभूषण जाधव का एक वीडियो जारी किया। वीडियो में जाधव यह कहते दिख रहे हैं कि पाकिस्तान में हिरासत में उन्हें यातना नहीं दी गई और उन्होंने बीते महीने मुलाकात के बाद एक भारतीय राजनयिक को अपनी मां व पत्नी पर ‘चिल्लाते’ हुए देखा था। भारत ने साफ कहा है कि इस ‘वीडियो की कोई विश्वसनीयता नहीं है’ और यह महज पाकिस्तान का प्रोपेगेंडा अभ्यास है।

जाधव को पाकिस्तानी सैन्य अदालत ने जासूसी व आतंकवाद के आरोप में मौत की सजा सुनाई हुई है। जाधव वीडियो में कह रहे हैं कि उन्हें पाकिस्तान में किसी तरह की यातना नहीं दी गई।

जाधव ने पाकिस्तान सरकार को अपनी मां अवंती व पत्नी चेतनकुल से मुलाकात के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि यह रुख सकारात्मक था..मुझे खुशी हुई।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि उन्हें इस पर (वीडियो पर) कोई आश्चर्य नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने दबाव देकर दिलवाया गए बयान को वीडियो में डालने का अपना तरीका जारी रखा हुआ है।

उन्होंने कहा कि अब पाकिस्तान को यह समझ लेना चाहिए कि प्रोपेगेंडा के ऐसे अभ्यासों की कोई विश्वसनीयता नहीं है। कैद में एक व्यक्ति दबाव में आकर अपनी ही भलाई की बात कर रहा है और कैद करने वाले के आरोपों के बारे में बोल रहा है, इस बेतुकेपन पर टिप्पणी की जरूरत नहीं है।

कुमार ने कहा कि पाकिस्तान को बेहतरीन सलाह यह है कि वह अपनी अंतरराष्ट्रीय प्रतिबद्धताओं को पूरा करे, चाहे वह राजनयिक संबंधों पर हो या आतंकवाद पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का प्रस्ताव 1267 और 1373 हो। पाकिस्तान को साथ ही भारतीय नागरिक के मानवाधिकार के लगातार उल्लंघन से दूर रहना चाहिए।

पाकिस्तान के विदेश कार्यालय द्वारा जारी वीडियों में जाधव यह कहते दिख रहे हैं कि मेरी मां व पत्नी के साथ आने वाले भारतीय व्यक्ति या राजनयिक ने मुलाकात के बाद उनके बाहर निकलते ही उन पर चिल्लाना शुरू कर दिया।

पाकिस्तान के अधिकारियों ने 25 दिसम्बर को जाधव व उनके परिवार की मुलाकात कराई था जिस दौरान इनके बीच एक शीशे की दीवार थी। मुलाकात के दौरान आमने-सामने की निजी बातचीत की इजाजत नहीं दी गई। भारतीय उप उच्चायुक्त जेपी सिंह मुलाकात के समय मौजूद तो थे लेकिन परिवार के साथ नहीं बैठे थे, मुलाकात की जगह से दूर थे।

‘डॉन’ ऑनलाइन की रिपोर्ट के मुताबिक जाधव (47) वीडियों में कह रहे हैं कि इस्लामाबाद में उनसे मुलाकात के दौरान उन्होंने ‘अपनी मां व पत्नी की आंखों में डर देखा’ था।

जाधव ने कहा कि मैंने डर देखा.. उनमें डर क्यों था? जो भी होना था, हो चुका। उन्होंने कहा कि उनका परिवार ‘डरा’ हुआ था। उन्होंने कहा कि मैं भारतीय नौसेना का कमीशंड अधिकारी हूं। मेरा कमीशन खत्म नहीं हुआ है।

भारत ने जाधव की मां व पत्नी के साथ पाकिस्तान में हुए बुरे व्यवहार को लेकर 26 दिसम्बर को पाकिस्तान की निंदा की थी और कहा था कि जाधव की मां व पत्नी को परेशान किया गया व स्वतंत्र रूप से जाधव से बात करने से रोका गया।

भारत जाधव के जासूस होने से इनकार करता रहा है। भारत का कहना है कि जाधव को ईरान से अपहरण कर लाया गया, जहां वह व्यापार के लिए गए थे। पाकिस्तान, जाधव को बलूचिस्तान से गिरफ्तार करने का दावा करता है।