संघर्ष और मेहनत करने वाले कार्यकर्ताओं को सरकारी में भागीदारी मिलनी चाहिए : सचिन पायलट

जयपुर। राजस्थान के पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा कि पार्टी में संघर्ष और मेहनत करने वाले कार्यकर्ताओं को सरकार में भागीदारी मिलनी चाहिए।

पायलट ने बुधवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा कि उन्होंने पार्टी आलाकमान के समक्ष भी यह बात रखी थीं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में जब कांग्रेस की सरकार बनी है तो उसके बाद हम उसे बरकरार नहीं रख पाए। यह नेताओं की कलेक्टिव रिस्पांसिबिलिटी होती है। हम दोबारा चुनाव जीते हैं, पिछली बार हम 21 पर रह गए, उससे पहले 50 पर आ गए थे। उस पर समय रहते फैसला हो जाना चाहिए।

पायलट ने कहा कि इसके पीछे पार्टी के जनाधार को व्यापक बनाने का सोच है। उन्होंने कहा कि कार्यकर्ताओं की बात केवल वह ही नहीं कह रहे है बल्कि वर्तमान प्रदेशाध्यक्ष भी कार्यकर्ताओं की बात करते हैं। उन्होंने कहा कि यहीं बात हमने आलाकमान के सामने रखी थी उसका हमें अधिकार हैं।

पायलट ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी को राष्ट्रीय स्तर पर कोई चुनौती दे सकता है और हरा सकता है तो वह कांग्रेस पार्टी ही है। कांग्रेस की देशभर में मौजूदगी है। आनेवाले समय में हम सब साथी दल मिलकर रणनीति बनाएंगे। पार्टी में चिंतन हो रहा है कि आने वाले पांच राज्यों में और भविष्य की चुनौतियों का सामना कैसे करेंगे।

पेगासस मामले पर पायलट ने कहा कि लोग जानना चाहते हैं कि किस संस्था या व्यक्ति के माध्यम से अवैध तरीके से फोन हैकिंग किया गया और सूचनाएं बटोरी गईं। कांग्रेस इसे लेकर देशभर में आंदोलन करेगी। कुछ छुपाने को नहीं है तो सरकार को विश्वसनीयता स्थापित करने के लिए जांच करानी चाहिए।