पगली तेरे लिये ही लिखता हूँ, मेरी जानू

मोहन स्कूल आता है…!!
1 काला और 1 सफेद जूता पहनकर…!
टीचर – घर जाओ और जूते बदल कर आओ..!
.
.
मोहन- कोई फायदा नहीं,
वहां भी एक काला और एक सफेद जूता ही रखा है…!!!

—————

टीचरः एक तरफ पैसा और दूसरी तरफ अकल रहेगी तो क्या चुनोगे?

टीटूः पैसा

टीचरः गलत, मैं अकल चुनती

टीटूः आप सही कह रहे हो। जिसके पास जिस चीज की कमी होती है वो वही चुनता है…

उसके बाद टीटू दो घंटे तक मुर्गा बना रहा…

———————–

पत्नी: ये जो तुम रोज फेसबुक पर रोमांटिक शायरियां लिखते हो कि, ये तेरी जुल्फें है जैसे रेशम की डोर, ये किसके लिये लिखते हो ?
पति: पगली तेरे लिये ही लिखता हूँ, मेरी जानू !
पत्नी: तो फिर वो ही रेशम की डोर कभी दाल में आ जाती है तो इतना चिल्लाते क्यों हो!