अजमेर में देवर्षि नारद पत्रकार सम्मान समारोह आयेाजित

अजमेर। राजस्थान में अजमेर स्थित महर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्यालय के स्वराज सभागार में आज देवर्षि नारद पत्रकार सम्मान समारोह आयोजित किया गया।

विश्वविद्यालय के पत्रकारिता विभाग और सम्मान समारोह समिति की ओर से आयोजित कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार श्रीपाल शक्तावत ने मुख्य वक्ता के रूप में कहा कि नारद जी स्वयं धर्म के प्रचार के साथ लोक कल्याण की बात किया करते थे। वर्तमान समय में लोक कल्याण पर फोकस करना ज्यादा जरूरी है।

उन्होंने कहा कि देश में चुनौतियां बहुत है लेकिन पत्रकारिता के क्षेत्र में भी चुनौतियां कम नहीं है। आज की पत्रकारिता को राजनीतिक एवं आर्थिक दबाव प्रभावित कर रहा है। उन्होंने पत्रकारों का आह्वान किया कि खबर असरकारक होनी चाहिए ताकि शासन को उस पर कार्यवाही करने के लिए मजबूर होना पड़े।

पत्रकारिता की दिशा टीआरपी की बजाय समाज के हित और समाज की उपयाेगिता के लिए हाेना जरूरी है, तभी यह सार्थक है। केवल घटनाओं का कवरेज मात्र ही पत्रकारिता नहीं है। लीक से अलग हटकर कुछ नया, कुछ अलग करने के साथ सकारात्मक पत्रकारिता करना, जिसका लाभ समाज काे मिले माैजूद समय में ये जरूरी है।

उन्हाेंने भ्रूण हत्या काे राेकने के लिए किए गए स्टिंग आपरेशन, बुजुर्ग माता-पिता के संरक्षण और पुलिस थानाें में थर्ड डिग्री से 47 माैत हाेने के बाद बनाए गए कानूनाें का उल्लेख करते हुए कहा कि इससे समाज के एक बड़े वर्ग काे लाभ हुआ है। शक्तावत ने कहा कि वर्तमान समय में साेशल मीडिया की भूमिका महत्वपूर्ण है। हालांकि इससे कई बार भ्रम भी फैलता है। इस भ्रम काे दूर करने की जिम्मेदारी प्रिंट और इलेक्ट्राॅनिक मीडिया की है।

छह पत्रकाराें का सम्मान

आयोजन समिति की ओर से वर्ष 2022 का देवर्षि नारद सम्मान पत्रकारिता की पांच विधाओं के लिए दिया गया जिनमें स्टोरी कवरेज के लिए दैनिक भास्कर के सैयद सादिक अली, फोटो कवरेज के लिए आनंद शर्मा, ब्लॉग लेखन के लिए पुष्कर के राकेश भट्ट, कार्टूनिस्ट विधा में किशनगढ़ के जसवंत सिंह दारा, डिजिटल व केबल मीडिया के लिए ब्यावर के कुलभूषण उपाध्याय के अलावा अजमेर के बहुचर्चित ब्लैकमेल कांड को उजागर करने वाले संतोष गुप्ता को सम्मानित किया गया। सभी पत्रकाराें काे सम्मान स्वरूप उपर्णा, स्मृति चिन्ह और श्रीफल प्रदान किया गया।

विभाग प्रचार प्रमुख भूपेंद्र उबाना ने देवर्षि नारद जयंती समाराेह के विषय के बारे में बताते हुए कहा कि हमारे देश में प्रत्येक क्षेत्र में एक राेल माॅडल हैं। शारीरिक क्षेत्र में हनुमान जी, ज्ञान के क्षेत्र में मां सरस्वती, पत्रकारिता के क्षेत्र में देवर्षि नारद। देवर्षि नारद जयंती समाराेह का उद्देश्य समाज और राष्ट्र हित में पत्रकारिता का जागरण करते हुए लाेक कल्याण की भावना काे साकार करना है। हमें देवर्षि के जीवन, उनके आचरण से प्रेरणा प्राप्त हाे इसलिए समाराेह का आयाेजन देश के सभी जिलाें में दस साल से किया जा रहा है।

इस मौके पर वरिष्ठ पत्रकार ओम माथुर, चित्ताैड़ प्रांत के प्रचार प्रमुख राजेंद्र लालवानी, संघ के निरंजन शर्मा, सुनील दत्त जैन, उमरदान लखावत, शिक्षाविद् सुरेंद्र अराेड़ा, स्वामी न्यूज के कंवल प्रकाश किशनानी, दैनिक नवज्योति के पत्रकार संतोष खाचरियावास, सबगुरु न्यूज के संपादक विजय मौर्य, अजमेर मुस्कान के संपादक विजय हंसराजानी, वरिष्ठ पत्रकार प्रेम आनंदकर, जी टीवी के नरवीर सिंह समेत बडी संख्या में मीडिया जगत से जुझे गणमान्यजन भी उपस्थित रहे। संचालन भूपेंद्र उबाना ने किया। उल्लेखनीय है कि कोरोनाकाल के चलते गत दो वर्षों से आयोजन नहीं हो पा रहा था।