वसुंधरा राजे के प्रति एकजुटता जताने को केशवरायपाटन में उमड़ा जनसैलाब

केशवरायपाटन। राजस्थान में बूंदी जिले के केशवरायपाटन में आज अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के प्रति अपना समर्थन एवं एकजूटता व्यक्त करने के लिए जनसैलाब उमड पडा।

भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजे के जन्मोत्सव पर उनके प्रति अपनी निष्ठाव्यक्त करने और उनकी कल से शुरू हो रही देव-दर्शन यात्रा के दूसरे चरण के मौके पर जुटे ज्यादातर लोग पार्टी के बैनर तले रहते हुए भाजपा में राजे की की जा रही उपेक्षा के प्रति अपनी नाराजगी लिए इस पावन नगरी में पहुंचे थे। इन लोगों का अति उत्साह देखते ही बनता था।

असल में आज का आयोजन राजे का शक्ति परीक्षण था। उनके जन्मोत्सव और देव-दर्शन यात्रा के दूसरे चरण की शुरुआत के बहाने हाडोती अंचल के केशवरायपाटन नगर में चंबल नदी के तट पर स्थित भगवान केशवराय की पूजा अर्चना के साथ अपार भीड़ जुटाकर वर्ष 2018 में राजे के नेतृत्व में लड़े गए पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा की हार के बाद उनकी लीडरशिप को लगातार चुनौती दे रहे कुछ वरिष्ठ नेताओं को इस व्यापक जनसमर्थन के जरिए अपनी ताकत का एहसास करवाना था। इसमें वे काफी हद तक कामयाब भी रही।

इस कार्यक्रम को अभूतपूर्व सफलता दिलाने के लिए भाजपा में अब हाशिये पर धकेल जा चुके कई नेता पिछले काफी दिनों से कड़ी मेहनत कर रहे थे जिनमें कभी राजे के समर्थन से पार्टी में प्रदेश अध्यक्ष बने अशोक परनामी सहित उनकी पिछली सरकार में मंत्री रहे राजपाल सिंह शेखावत, मोहम्मद यूनुस, कालीचरण सर्राफ आदि सहित टोंक-सवाई माधोपुर लोकसभा सीट से सांसद सुखबीर सिंह जौनपुरिया, जयपुर शहर के सांसद रामचरण बोहरा, पूर्व में टोंक से सांसद रह चुके राज्य सफाई आयोग के पूर्व अध्यक्ष गोपाल पचेरवाल आदि शामिल थे।

इस आयोजन को सफलता की नई ऊंचाई तक पहुंचाने में जिन भाजपा नेताओं- कार्यकर्ताओं की मेहनत रंग लाई, उनमें पूर्व विधायक प्रहलाद गुंजल, लाडपुरा की मौजूदा विधायक कल्पना देवी, पूर्व विधायक भवानी सिंह राजावत, विद्याशंकर नंदवाना प्रमुख थे जो राजे राज्य के समर्थन में भारी भीड़ जुटाने के लिए दिन-रात एक किए हुए थे।

कोटा जिले में इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए की जा रही तैयारियों में इन नेताओं का हाथ था, वही झालावाड़ जिले में कमान वहां के मौजूदा सांसद दुष्यंत सिंह, जिला भाजपा अध्यक्ष संजय ताऊ, जन अभाव-अभियोग समिति के पूर्व अध्यक्ष श्रीकिशन पाटीदार, खानपुर से विधायक नरेंद्र नागर, बारां जिले में पूर्व मंत्री और वर्तमान में छबड़ा-छीपाबड़ौद सीट से विधायक प्रतापसिंह सिंघवी संभाले हुए थे तो बूंदी जिले में पूर्व भाजपा जिला अध्यक्ष महिपत सिंह हाडा, पूर्व मंत्री बाबूलाल वर्मा के पास कमान थी और इन सभी के कुशल नेतृत्व का नतीजा था कि राजे के हाथों को मजबूत करने के लिए बूंदी जिले के केशवरायपाटन में अपार जनसमूह उमड़ पड़ा। कोटा, बूंदी तथा झालावाड़-बारां की ओर से कोटा होते हुए जाने वाला रास्ता केशवरायपाटन की ओर ही जाता हुआ आज नजर आया।