प्रधानमंत्री मोदी ने किया हरियाणा से स्वच्छ शक्ति-2019 कार्यक्रम का आगाज़

PM Modi launches Clean Energy-2019 program from Haryana
PM Modi launches Clean Energy-2019 program from Haryana

कुरूक्षेत्र । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हरियाणा से “स्वच्छ शक्ति-2019“ राष्ट्रीय कार्यक्रम की शुरूआत करने के साथ देश की जनता को स्वास्थ्य एवं चिकित्सा क्षेत्रों में आज बड़े तोहफे प्रदान करते हुये राज्य में ‘राष्ट्रीय कैंसर संस्थान‘ और फरीदाबाद में ईएसआईसी मैडिकल कॉलेज एवं अस्पताल राष्ट्र भी राष्ट्र को स्मर्पित किया।

मोदी ने यहां ब्रह्म सरोवर के मेला मैदान से स्वच्छ शक्ति राष्ट्रीय कार्यक्रम की शुरूआत की जिसमें प्रदेश भर से ग्राम पंचायतों में निर्वाचित महिला प्रतिनिधियों ने भाग लिया। उल्लेखनीय है कि राज्य में शिक्षित पंचायत अधिनियम लागू किये जाने के राज्य सरकार के देश में अपनी तरह के इस अनूठे कार्यक्रम से प्रदेश में महिला प्रतिनिधियों की संख्या लगभग 43 प्रतिशत तक पहुंच गई है। इस अवसर पर केंद्रीय पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री उमा भारती, हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य, मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, राष्ट्रीय महिला आयोग की अघ्यक्ष रेखा शर्मा तथा अन्य गणमान्य अतिथि उपस्थित थे।

प्रधानमंत्री ने इस मौके पर यहीं से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से राज्य के झज्जर जिले के बाढसा में स्थापित सार्वजनिक क्षेत्र स्थापित देश के सबसे बड़े कैंसर अस्पताल ‘राष्ट्रीय कैंसर संस्थान‘ तथा फरीदाबाद में ईएसआईसी मैडीकल कॉलेज एवं अस्पताल का भी उद्घाटन किया। उन्होंने कुरुक्षेत्र में विश्व की अपनी तरह के पहले श्रीकृष्णा आयुष विश्वविद्यालय, करनाल में पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय, पंचकूला में राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान तथा पानीपत के युद्धों के संग्रहालय का भी शिलान्यास किया।

बाढसा में राष्ट्रीय कैंसर संस्थान का निर्माण लगभग 2035 करोड़ रुपए की लागत से किया गया है जिसमें 710 बिस्तरों की सुविधा है। इस संस्थान में कैंसर के सभी स्तरों पर उपचार किया जाएगा। इसमें चिकित्सकों के आवसीय सुविधाओं के अलावा मरीजों के तिमारदारों के लिए भी 800 कमरों का भी निर्माण किया गया है। परियोजना का निर्माण कार्य राज्य की भाजपा सरकार के कार्यकाल में 12 दिसम्बर 2015 को भूमि पूजन के साथ शुरू किया गया था तथा इसे रिकार्ड समय में पूरा कर अब राष्ट्र को स्मर्पित किया गया है। इस अवसर पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जगत प्रकाश नड्डा, राज्य के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज, राज्य के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ओम प्रकाश धनकड़ और रोहतक से सांसद दीपेंद्र हुड्डा भी उपस्थित थे।

वहीं फरीदाबाद में ईएसआईसी मैडीकल कॉलेज एवं अस्पताल के उद्घाटन के मौके पर फरीदाबाद में केंद्रीय श्रम एवं रोजगार राज्यमंत्री संतोष कुमार गंगवार, केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर, राज्य के श्रम एवं रोजगार राज्यमंत्री नायब सिंह और बडखल की विधायक सीमा त्रिखा उपस्थित थीं।

कुरुक्षेत्र में बनने वाले श्रीकृष्णा आयुष विश्वविद्यालय के शिलान्यास के मौके पर राज्य के स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान तथा आयुष मंत्री अनिल विज और थानेसर के विधायक सुभाष सुधा उपस्थित थे। यह विश्व में अपनी तरह का

पहला विश्वविद्यालय होगा जिसमें आयुर्वेद, योग, युनानी, सिद्घा तथा होम्योपैथी चिकित्सा पद्धतियों की शिक्षा एवं उपचार की सुविधा एक जगह उपलब्ध होगी। इसका निर्माण करीब 94.5 एकड़ भूमि पर किया जाएगा जिस पर करीब 475 करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान है।

करनाल के कुटेल में प्रस्तावित पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय एक सैंटर ऑफ एक्सीलेंस होगा। प्रधानमंत्री द्वारा इसका शिलान्यास करने के मौके पर करनाल में राज्य के स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान तथा आयुष मंत्री अनिल विज, करनाल के सांसद अश्विनी चोपड़ा और घरौंडा के विधायक हरविंद्र कल्याण तथा अन्य अतिथिगण उपस्थित थे। विश्वविद्यालय ट्रामा सैंटर से युक्त सुपरस्पैशिलिटी अस्पताल होगा तथा इसमें स्नातकोतर एवं पोस्ट डॉक्टरल पाठ्यक्रम की सुविधा होगी। इस विश्वविद्यालय का निर्माण लगभग 144 एकड़ क्षेत्र में किया जाएगा जिस पर करीब 750 करोड़ रुपए खर्च आने का अनुमान है।

इसी तरह राज्य में आयुर्वेद के क्षेत्र में चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराने हेतु पंचकूला में बनने वाले राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान के शिलान्यास कार्यक्रम में पंचकूला केंद्रीय आयुष राज्यमंत्री श्रीपद येसो नाईक, राज्य के स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान तथा आयुष मंत्री अनिल विज और अम्बाला के सांसद रतन लाल कटारिया मौजूद थे। इस संस्थान का निर्माण केंद्र के सहयोग से 19.87 एकड़ भूमि पर किया जाएगा जिस पर करीब 270.50 करोड़ रुपए खर्च होंगे। इसमें 250 बिस्तरों की आईपीडी तथा करीब 500 विद्यार्थियों के लिये स्नातक, स्नातकोतर तथा पीएचडी तक की शिक्षा की सुविधा होगी।

प्रधानमंत्री के पानीपत के युद्धों के संग्रहालय का यहीं से शिलान्यास किये जाने के माके पर पानीपत में राज्य के शिक्षामंत्री राम बिलास शर्मा, करनाल के सांसद अश्विनी चौपड़ा, पानीपत ग्रामीण के विधायक महिपाल ढांडा और पानीपत शहरी विधायक रोहिता रेवड़ी उपस्थित थीं।