बंगाल में अधिकारी लोकतंत्र की सर्वोच्चता बनाये रखें : मोदी

PM Modi maintains the supremacy of official democracy in Bengal
PM Modi maintains the supremacy of official democracy in Bengal

पुरुलिया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पश्चिम बंगाल के प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों से संविधान तथा लोकतंत्र को सर्वोपरि रहने देने एवं कानून का शासन चलने देने का गुरुवार को अनुरोध किया।

मोदी ने यहां भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की ओर से आयोजित एक चुनावी सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि जनता हमारे लिए ईश्वर का रूप है और यह समय कुशासन से मुक्त होने का है। उन्होंने कहा कि राज्य में भाजपा के सत्ता में आने पर अत्याचारियों पर कानून के अनुसार कार्रवाई की जायेगी और कानून का शासन स्थापित किया जायेगा। उन्होंने कहा पश्चिम बंगाल में जगह-जगह बम विस्फोट किये जा रहे हैं और भाजपा कार्यकर्ताओं को निशाना बनाया जा रहा है।

प्रधानमंत्री ने ममता सरकार पर निर्मम होने का आरोप लगाते हुए कहा कि वह माओवादियों तथा आतंकवादियों का संरक्षण कर रही है। राजनीतिक लाभ के लिए माओवादियों को बढ़ावा दिया जा रहा है और वे तृणमूल के माध्यम से गरीब जनता का पैसा लूट रहे हैं। कोयला और बालू माफियाओं को संरक्षण दिया जा रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि घुसपैठ को वोट बैंक की राजनीति और तुष्टिकरण के कारण बढ़ावा दिया जा रहा है।

मोदी ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस दस साल से लोगों के साथ विश्वासघात कर रही है और जनता इस चुनाव में उसे सजा देगी। टीएमसी का अर्थ ट्रांसफर माई कमीशन की पार्टी है जो कमीशन एवं सौदेबाजी करती है। गरीबों के पक्के मकान देने में अड़गेबाजी करती है और राशन देने में भी सौदेबाजी की जाती है। आपदा के दौरान भी लाभान्वितों से पार्टी कोष में पैसा लिया जाता है।

उन्होंने कहा कि भाजपा के सत्ता में आने पर राज्य में रोजगार को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जायेगी और नियुक्ति में खेल को खत्म किया जायेगा। शिक्षक परीक्षा देने वालों की मुश्किलें दूर की जायेगी। अनुबंधित और नियमित कर्मचारियों की विसंगति दूर की जायेगी तथा उन्हें जरुरी सुविधायें दी जायेगी।

उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल से पलायन को रोका जायेगा और कृषि आधारित उद्योगों को बढावा दिया जायेगा जिससे अधिक से अधिक लोगों को रोजगार मिले सके। दलितों और आदिवासियों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए उनका कौशल विकास किया जायेगा।

मोदी ने कहा कि पुरुलिया में भारी जल संकट है और महिलाओं को पानी के लिए काफी दूर जाना पड़ता है। इस क्षेत्र में पानी की कमी के कारण खेती की समस्या है और पशुपालन भी इससे प्रभावित है। वाम दलों और तृणमूल के शासन काल में सिंचाई सुविधाओं के विकास के लिए कार्य नहीं किये गये। पुरुलिया देश के सबसे पिछड़े क्षेत्रों में है और यहां से लोगों का पलायन होता है। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में पर्यटन की असीम संभावना है और हस्तशिल्प विख्यात है।

उन्होंने कहा कि जल संकट देश के अन्य क्षेत्रों में भी है लेकिन भाजपा की सरकार बनने के बाद वहां पाइप लाइन का विस्तार किया गया है। तालाब बनवाये गये और जल की उपलब्धता बढ़ायी गयी। जल उपलब्ध होने पर यहां के किसान भी तरह-तरह की फसल उगा सकेंगे। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में विकास की असीम संभावनायें हैं। पश्चिम बंगाल को रेल सेवा से जोड़ा जा रहा है।

उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में विकास योजनाओं के लिए 50 हजार करोड़ रुपये की योजनाओं को मंजूरी दी गयी है। पुरुलिया को ईस्ट कॉरिडोर से जोड़ा जायेगा। बजट में राज्य राजमार्ग के निर्माण के लिए हजारों करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है।