पी एन बी के बाद 4 और बैंक घोटाले सामने आये, जानिए किस घोटाले में क्या हुआ

Another bank scam came to light after the PNB, three frauds came in front

SABGURU NEWS | देश में इस समय एक के बाद एक बैंक घोटाले उजागर हो रहे हैं| सबसे पहले नीरव मोदी और मेहुल चोकसी का पीएनबी के साथ किया हुआ हजारों करोड़ रुपये का महाघोटाला सामने आया| इसके बाद तो मानो घोटालों की बाढ़ सी आ गई| रोटोमैक पैन के मालिक विक्रम कोठारी का सात सरकारी बैंकों के साथ किया घोटाला, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स का घोटाला और राजस्थान के बाड़मेर में पीएनबी की शाखा में प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के नाम पर किया घोटाला भी सामने आया है| इसके अलावा एक चीनी मिल के ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स के साथ किए घोटाले का खुलासा हुआ है| आइए जानते हैं कि कौन सा घोटाला किस ने किया और किस केस में अब तक क्या हुआ|

पहला घोटाला- हाल में सामने आए घोटालों में पहला घोटाला गुजरात के हीरा कारोबारियों नीरव मोदी और मेहुल चोकसी का है| इन पर पीएनबी के साथ करीब 11 हजार 400 करोड़ रुपये का फ्रॉड करने के आरोप हैं| इस घोटाले के दोनों आरोपी फिलहाल देश से फरार हैं और देश भर में उनके विभिन्न ठिकानों पर छापे मारकर ईडी अबतक 6,393 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त कर चुका है|

अब ईडी नीरव मोदी और मेहुल चौकसी पर शिकंजा कसने के लिए करीब डेढ़ दर्जन देशों से जानकारी जुटाएगा| इन दोनों व्यापारियों के विदेशों में बिजनेस और संपत्तियों की जानकारी जमा करने के लिए ईडी 17 देशों की अदालत को मुंबई की अदालत से लेटर्स रॉगेटरीज (LR) दिलवाएगा| एलआर न्यायिक मदद हासिल करने के लिए दूसरे देश की अदालत को जारी किया जाता है| ये देश बेल्जियम, हांगकांग, स्विट्जरलैंड, अमेरिका, ब्रिटेन, दुबई, सिंगापुर और दक्षिण अफ्रीका आदि हैं|

दूसरा घोटाला- दूसरे घोटाले के मामले के आरोपी रोटोमैक पेन के मालिक विक्रम कोठारी हैं| कोठारी पर बैंक ऑफ बड़ौदा समेत सात बैंकों से 2919 करोड़ का कर्ज नहीं चुकाने का आरोप है| इस रकम पर ब्याज मिलाकर कोठारी पर सात बैंकों की देनदारी 3,695 करोड़ रुपये बनती है| कोठारी ने बैंक ऑफ बड़ौदा, इलाहाबाद बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन ओवरसीज बैंक और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया समेत 7 बैंकों से लोन लिया था| सीबीआई के मुताबिक ये घोटाला 2008 से चल रहा था|

कोठारी ने इंडियन ओरवसीज बैंक से 771|77 करोड़, बैंक ऑफ इंडिया से 754|77 करोड़, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया से 458|95 करोड़, बैंक ऑफ बड़ौदा से 456|63 करोड़, इलाहाबाद बैंक से 330|68 करोड़, ऑरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स से 97|47 करोड़, बैंक ऑफ महाराष्ट्र से 49|82 करोड़ रुपये का कर्ज लिया था| फिलहाल रोटोमैक पेन कंपनी के मालिक विक्रम कोठारी और उनके बेटे राहुल कोठारी को लखनऊ की विशेष सीबीआई अदालत ने 11 दिन की सीबीआई कस्टडी में भेजा है| आयकर विभाग ने रोटैमैक पेन के मालिकों के 14 खाते सीज कर दिए हैं|

तीसरा घोटाला- तीसरा घोटाला करीब 389 करोड़ 90 लाख रुपये का है और ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स में सामने आया| इस मामले में दिल्ली के हीरा निर्यातक कंपनी के खिलाफ केस दर्ज किया गया है| यह फर्जीवाड़ा हरियाणा स्थित गुरुग्राम के सेक्टर-32 स्थित ओबीसी बैंक की ब्रांच में हुआ| इस मामले में बैंकों से साल 2007 से  लगातार फर्जीवाड़ा करके लोन लेने का आरोप है| बैंक को पैसे नहीं चुकाने के बावजूद इस मामले में लापरवाही दिखाई गई|

बैंक ने 31 मार्च 2014 को कंपनी को NPA की लिस्ट में भी डाल दिया था, लेकिन उसके बाद भी यह खेल जारी रहा| NPA की लिस्ट में शामिल होने के बावजूद कंपनी को करोड़ों रुपये का लोन मिलता रहा| सीबीआई के अधिकारियों के मुताबिक दिल्ली की मेसर्स द्वारिका दास सेठ इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड और द्वारका दास सेठ सेज इनकॉरपोरेशन नाम की कंपनी के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है| कंपनी के मालिक सभ्य सेठ और रीता सेठ के अलावा कृष्ण कुमार सिंह, रवि कुमार सिंह समेत कई सरकारी अधिकारियों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है| सीबीआई जल्द ही इन आरोपियों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करने वाली है|

चौथा घोटाला- पंजाब नेशनल बैंक की बाड़मेर शाखा में भी एक घोटाला सामने आया है| इस बार इस बैंक में प्रधानमंत्री मुद्रा योजना में फर्जीवाड़े की बात सामने आई है| सीबीआई ने इस मामले में केस भी दर्ज किया है| सीबीआई के मुताबिक राजस्थान में पीएनबी की बाड़मेर शाखा में एक सीनियर ब्रांच मैनेजर ने सितंबर 2016 और मार्च 2017 के बीच ‘बेईमानी और धोखाधड़ी’ से 26 मुद्रा लोन’ बांटे| इसके कारण बैंक को करीब 62 लाख रुपये का नुकसान हुआ|

सीबीआई ने इस मामले में पीएनबी बाड़मेर शहर के तत्कालीन ब्रांच मैनेजर इंदर चन्द्र चंदावत के खिलाफ केस दर्ज किया है| अब इन 26 में से पांच लोन एनपीए हो गए हैं| बैंक अब 62 लाख रुपये वसूल भी नहीं सकता है, क्योंकि इन्होंने आवेदकों ने कोई संपत्ति भी अर्जित नहीं की|

पांचवां घोटाला- यह घोटाला भी ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स से जुड़ा है| इस मामले में सीबीआई ने सिंभौली शुगर्स लिमिटेड, उसके चेयरमैन गुरमीत सिंह मान, डिप्टी मैनेजिंग डायरेक्टर गुरपाल सिंह और अन्य के खिलाफ 97|85 करोड़ रुपए की कथित बैंक कर्ज धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है| यह देश की सबसे बड़ी चीनी मिलों में से एक है| गुरपाल सिंह पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के दामाद हैं|

पहला मामला 97|85 करोड़ रुपए का है जिसे 2015 में फ्रॉड घोषित कर दिया गया| दूसरा कॉरपोरेट लोन का मामला 110 करोड़ का है जिसे पिछला लोन चुकाने के लिए दोबारा पेमेंट किया गया| एफआईआर के मुताबिक ओबीसी ने 2011 में शुगर कंपनी को 148|60 करोड़ रुपए का लोन दिया| रिजर्व बैंक के एक स्कीम के तहत लोन 5,762 गन्ना किसानों को पैसा चुकाने के लिए दिया गया| सीबीआई के मुताबिक लोन का पैसा ‘बेइमानी और फर्जीवाड़ा करते हुए कंपनी ने अपनी जरूरतों पर खर्च किया|

VIDEO राशिफल 2018 पूरे वर्ष का राशिफल एक साथ || ग्रह नक्षत्रों का बारह राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा

आपको यह खबर अच्छी लगे तो SHARE जरुर कीजिये और  FACEBOOK पर PAGE LIKE  कीजिए, और खबरों के लिए पढते रहे Sabguru News और ख़ास VIDEO के लिए HOT NEWS UPDATE और वीडियो के लिए विजिट करे हमारा चैनल और सब्सक्राइब भी करे सबगुरु न्यूज़ वीडियो