लालू के हुए नीतीश, थम गया बिहार का सियासी भूचाल

पटना। बिहार में पिछले लगातार तीन दिनों से जारी सियासी भूचाल आज लगभग थम गया।मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन से अपनी पार्टी जनता दल यूनाइटेड का सम्बन्ध तोड़ने की विधिवत घोषणा की है। इसके बाद वह राष्ट्रीय जनता दल नीत महागठबंधन के साथ मिलकर सरकार बनाएंगे।

मंडल की राजनीति से नेता बनकर उभरे नीतीश कुमार को बिहार को अच्छा शासन मुहैया कराने का श्रेय दिया जाता है। हालांकि उनके विरोधी उन पर अवसरवादी होने का आरोप लगाते रहे हैं। भले ही इसे राजनीतिक अवसरवादिता कहा जाए या उनकी बुद्धिमत्ता लेकिन राजनीतिक शतरंज की बिसात पर कुमार की चालों ने कई साल से सत्ता पर उनका दबदबा बनाए रखा है।

अब एक बार फिर कुमार आठवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री बनने जा रहे हैं। कुमार ने पहली बार बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ 3 मार्च 2000 को ली थी। हालांकि बहुमत नहीं होने के कारण महज सात दिनों के भीतर उनकी सरकार गिर गई थी। इसके बाद 24 नवंबर 2005 को कुमार दूसरी बार बिहार के मुख्यमंत्री बने। तब उनका कार्यकाल 24 नवंबर 2005 से 24 नवंबर 2010 तक पूरे पांच साल चला। वर्ष 2010 में बिहार विधानसभा चुनाव में भारी जीत के बाद श्री कुमार ने 26 नवंबर को बिहार के मुख्यमंत्री बने।

वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में हालांकि उनकी पार्टी को मिली करारी हार के बाद उन्होंने कार्यकाल पूरा होने से पहले ही इस्तीफा दे दिया और अपनी पार्टी के जीतनराम मांझी को मुख्यमंत्री का पद सौंप दिया। 22 फरवरी 2015 को कुमार ने चौथी बार एक बिहार के मुख्यमंत्री के तौर पर कमान संभाली। वर्ष 2015 में कुमार ने राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की पार्टी के साथ मिलकर महागठबंधन सरकार बनाई थी।

20 नवंबर 2015 को महागठबंधन सरकार की तरफ से कुमार ने पांचवी बार प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की कमान संभाली, जिसमें तेजस्वी प्रसाद यादव उपमुख्यमंत्री बने। लगभग डेढ़ वर्ष सरकार चलाने के बाद कुमार ने राजद से गठबंधन तोड़ने का फैसला किया और भारतीय जनता पार्टी के साथ गठबंधन कर सरकार बनाई।

इस तरह कुमार छठी बार 27 जुलाई 2017 को मुख्यमंत्री बने। इसके बाद वर्ष 2020 के बिहार विधानसभा चुनाव में सत्ता विरोधी लहर के बावजूद राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन को शानदार जीत मिली और कुमार सातवीं बार मुख्यमंत्री बनने में कामयाब रहे थे। अब कुमार एक बार फिर राजद से गठबंधन कर आठवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री बनने जा रहे हैं।

नीतीश कुमार राजद संग मिलकर बनाएंगे नई सरकार, फिर बनेंगे मुख्यमंत्री

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का इस्तीफा, एनडीए से तोडा नाता