प्रधानमंत्री की ‘मन की बात’ से आम जनता को कराया रूबरू

अजमेर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा प्रत्येक माह के अंतिम रविवार को सुबह 11 बजे ‘मन की बात’ का प्रसारण आकाशवाणी और दूरदर्शन पर किया जाता है। भारतीय जनता पार्टी राष्ट्रीय और प्रदेश के नेतृत्व के निर्देश पर देशभर में बूथ स्तर पर इस प्रसारण को जनता को सुनवाने की व्यवस्था बीजेपी कार्यकर्ता करते हैं।

अजमेर शहर के संयोजक धर्मेश जैन, उत्तर विधानसभा क्षेत्र का प्रभारी पूर्व महामंत्री तुलसी सोनी एवं दक्षिण विधानसभा क्षेत्र के प्रभारी प्रदेश कार्यसमिति सदस्य कंवल प्रकाश किशनानी इसका बीडा उठाए हुए हैं।

उन्होंने बताया कि 31 दिसंबर को बूथ स्तर धानमण्डी और पुलिस लाईन चौराहे सहित अनेक जगहों पर कार्यकर्ताओं द्वारा आम जन को प्रधानमंत्री की ‘मन की बात’ से रूबरू कराया गया।

बूथ लेवल पर स्थानीय पार्षद, विस्तारकों व बूथ अध्यक्षों व उस क्षेत्र में रहने वाले मण्डल, जिला व पूर्व के सभी वरिष्ठ कार्यकर्ताओं को साथ लेकर इसकी व्यवस्था चौपालों, चाय की दुकानों व सार्वजनिक स्थलों पर ‘मन की बात’ को जन-जन तक पहुंचा रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मन की बात में कहा

मन की बात में देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि 26 जनवरी के समारोह में दस देशों के नेता हिस्सा लेंगे। उन्होंने स्वच्छता और 21वीं सदी के वोटरों पर चर्चा की। उन्होंने कहा कि पूरे देश में स्वच्छता अभियान पर सर्वे शुरू होने जा रहा है। 1 जनवरी का दिन विशेष है जो लोग 21वीं सदी में जन्मे हैं वे वोटर बन जाएंगे।

भारतीय लोकतंत्र 21वीं सदी के वोटरों का स्वागत करता है। यह इंडिया यूथ आगे आएं और तय करें कि कैसा हो यह भारत, आप भी आगे बढ़ें और देश आगे बढ़े। हम चिंतन करें कि कैसे हम उस भारत का निर्माण करें जिसका सपना महापुरुषों ने देखा है। युवा नए भारत के निर्माण के लिए मंथन करें और नए रास्ते खोजें। नया भारत सांप्रदयिकता, जातिवाद से पूरी तरह से मुक्त हो।

गुरु गोविंद सिंह ने भी महान शिक्षाएं दी हैं, उन्होंने लोगों को जाति और धर्म को तोड़ने की शिक्षा दी। जीवन के हर पल में त्याग और कर्म का संदेश दिया है। मोदी ने कहा कि तीन तलाक की प्रथा से मुस्लिम महिलाओं को खुद को आजाद कराने का रास्ता मिल गया है।

पीएम मोदी ने ‘मन की बात’ ने एक बार में तीन तलाक को प्रतिबंधित करने वाले विधेयक के लोकसभा में पारित होने के बाद इस मुद्दे पर आज अपनी पहली टिप्पणी में कहा कि कई वर्ष तक पीड़ा झेलने के बाद, मुस्लिम समुदाय की महिलाओं को आखिरकार खुद को इस प्रथा से आजाद कराने का रास्ता मिल गया है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अगले माह 28 जनवरी 2018 को आकाशवाणी व दूरदर्शन पर जनता से अपने ‘मन की बात’ करेंगे।