खालिस्तान समर्थक संगठन ने PM की यात्रा का विरोध करने को कहा था : खुफिया सूत्र

नई दिल्ली/चंडीगढ़। खुफिया एजेन्सियों के सूत्रों ने कहा है कि खालिस्तान समर्थक संगठन ‘सिख फॉर जस्टिस’ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पंजाब में फिरोजपुर दौरे से कुछ दिन पहले ही लोगों से उनकी यात्रा का विरोध करने को कहा था।

मोदी बुधवार को फिरोजपुर में विकास परियोजनाओं का शिलान्यास करने के लिए जा रहे थे कि एक फ्लाईओवर पर लोगों द्वारा रास्ता रोके जाने के कारण उन्हें अपना कार्यक्रम स्थगित कर वापस लौटना पड़ा।

सिख फॉर जस्टिस संगठन के तथाकथित जनरल काउंसिल गुरूपतवंत सिंह पन्नून द्वारा जारी वीडियो में वह लोगों से 5 जनवरी को प्रधानमंत्री की यात्रा के विरोध में ‘शो द शू’ प्रदर्शन करने को कह रहे हैं।

वीडियो में पन्नून ने आरोप लगाया है कि प्रधानमंत्री 3700 से भी अधिक किसानों की मौत के जिम्मेदार हैं। पन्नून ने इस विरोध प्रदर्शन के लिए एक लाख अमेरिकी डॉलर तक देने की पेशकश भी की।

वीडियो में खालिस्तान समर्थक पन्नून ने पंजाब के लोगों से खालिस्तान जनमतसंग्रह के लिए अभियान चलाने और पंजाब से भारतीय सुरक्षा बलों को भगाने का अनुरोध किया है।

खालिस्तान समर्थक संगठन की इस घोषणा और लुधियाना विस्फोट के सिलसिले में जर्मनी में इस संगठन के सदस्य जसविंदर सिंह मुल्तानी की गिरफ्तारी के मद्देनजर केन्द्रीय सुरक्षा एजेन्सियां बेहद चौकन्नी तथा सर्तक थी और उन्होंने पंजाब पुलिस से प्रधानमंत्री के दौरे के लिए सुरक्षा के चाक चौबंद इंतजाम करने को कहा था।

सुरक्षा सूत्रों ने कहा कि प्रधानमंत्री के कार्यक्रम को रद्द किए जाने से इस बात के संकेत मिलते हैं कि राज्य पुलिस ने पर्याप्त सुरक्षा उपाय नहीं किए थे। केन्द्र ने आरोप लगाया है कि पंजाब सरकार ने प्रधानमंत्री की सुरक्षा में गंभीर चूक की है और इस बारे में राज्य सरकार से विस्तृत रिपोर्ट भी मांगी है।

अमरिंदर सिंह ने पंजाब सरकार को बर्खास्त करने की मांग की

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की फिरोजपुर रैली को लेकर हुई सुरक्षा चूक के मामले में पंजाब के मुख्यमंत्री चरनजीत चन्नी तथा गृह मंत्री सुखजिंदर रंधावा को तत्काल हटाकर प्रदेश सरकार को बर्खास्त किए जाने की मांग की है।

उन्होंने आज मोदी की सुरक्षा में हुई चूक पर हैरानी जताते हुए कहा कि कल तो मैं बठिंडा आया था और रास्ता एकदम साफ था लेकिन आज अचानक किसान प्रदर्शनकारी फ्लाईओवर पर कैसे पहुंच गए जिसके कारण प्रधानमंत्री का काफिला करीब बीस मिनट तक रूका रहा। यह तो सरासर पंजाब सरकार की जिम्मेदारी है।

उन्होंने कहा कि पंजाब सीमावर्ती राज्य होने के कारण क्या हम अपने पीएम की सुरक्षा तक नहीं कर सकते। यदि नहीं तो इससे शर्मनाक और क्या हो सकता है। पंजाब सरकार पूरी तरह फेल हो चुकी है। मैं मुख्यमंत्री था तो गृह विभाग का कामकाज मेरे पास था। मैं जो भी निर्देश पुलिस को दूं और उसमें चूक हो जाए ऐसा कैसे संभव है।कैसी हुकूमत कर रहे हैं ये कांग्रेसी। राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाकर इन्हें बाहर निकालने की मांग की।

पंजाब की कांग्रेस सरकार ने PM को नुकसान पहुंचाने का परिदृश्य बनाया : भाजपा

मोदी रैली : भाजपा और किसान संगठनों के कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज

गंभीर सुरक्षा चूक के कारण प्रधानमंत्री मोदी की पंजाब यात्रा रद्द