पंजाब चुनाव: छिटपुट हिंसा की घटनाओं को छोड़कर मतदान पूरी तरह शांतिपूर्ण

चंडीगढ़। पंजाब विधानसभा के लिये आज हुए मतदान के दौरान कहीं कहीं छिटपुट हिंसा की घटनाओं को छोड़कर मतदान शांतिपूर्वक समाप्त हो गया।

जालंधर जिले में भाजपा तथा आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता एक दूसरे के आमने सामने आ डटे लेकिन पुलिस के हस्तक्षेप के बाद मामला सुलझा लिया गया। दीनानगर सीट पर रामनगर में कांग्रेसी सरपंच की ओर से कुछ बाहरी लोगों को लाये जाने के विरोध में आम आदमी पार्टी तथा कांग्रेसी कार्यकर्ता आपस में भिड़ गये जिस कारण मतदान रूका रहा।

बठिंडा शहरी सीट पर अकाली दल तथा कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हुई और कांग्रेसी नेता ने फायरिंग की तथा अकाली नेता की गाड़ी क्षतिग्रस्त कर दी। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

भदौड़ में मुख्यमंत्री चरनजीत चन्नी चुनाव मैदान में हैं। इस सीट पर आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार की गाड़ी के बोनट पर कुछ युवक चढ़ गए। आप उम्मीदवार का कहना है कि उस पर हमला करने की कोशिश की गई। यदि गाड़ी में इंटरलाक न होता तो वे कुछ भी कर सकते थे। उन्होंने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि ये कांग्रेस के कार्यकर्ता थे। कुल मिलाकर मतदान शांतिपूर्ण रहा।

मतगणना 10 मार्च को होगी। इस चुनाव में विभिन्न राष्ट्रीय दलों के 231, प्रांतीय दलों के 250, गैर मान्यता प्राप्त दलों के 362 और निर्दलीय 462 उम्मीदवार हैं। इनमें 1209 पुरूष, 93 महिलाएं और दो ट्रांस जेंडर हैं। राज्य में 14,684 स्थलों पर 24,740 मतदान केंद्र बनाए गए थे। इनमें से 1,051 जगहों पर 2,013 मतदान केंद्र संवेदनशील घोषित किए गए।

इस चुनाव में अनेक दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई। चुनाव में इस बार मुख्य रूप से चकोणीय मुकाबला हो रहा है। मैदान में सत्तारूढ़ कांग्रेस के अलावा विपक्षी आम आदमी पार्टी और संयुक्त समाज मोर्चा सभी 117 सीटों पर चुनाव मैदान में उतरे हैं।

इनके अलावा शिरोमणि अकाली दल(शिअद) 97 और उसकी गठबंधन सहयोगी 20, भारतीय जनता पार्टी 68 और उसकी गठबंधन सहयोगी पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह नेतृत्व वाली पंजाब लोक कांग्रेस 34 तथा शिअद(संयुक्त) ने 15 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे हैं। इस बार के चुनाव में शिअद ने भाजपा से नाता तोड़ कर बसपा से गठबंधन किया है। वहीं कैप्टन अमरिंदर भी कांग्रेस के अलग होकर भाजपा के साथ मिल कर चुनाव लड़ रहे हैं।

इस चुनाव में नौ हॉट सीट हैं जहां मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (चमकौर साहिब और भदौर), उप मुख्यमंत्री ओम प्रकाश सोनी (अमृतसर मध्य), उप मुख्यमंत्री सुखजिंदर रंधावा (डेरा बाबा नानक), पूर्व मुख्यमंत्री और शिअद नेता प्रकाश सिंह बादल(लम्बी), पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (पटियाला शहरी), आप के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार भगवंत सिंह मान(धूरी), सुखबीर सिंह बादल (जलालाबाद) और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू (अमृतसर पूर्व) मैदान में हैं।

इनके अलावा किसान नेता बलबीर राजेवाल जो किसानों के संयुक्त समाज मोर्चा के नेता हैं और समराला सीट से चुनाव मैदान में हैं। चन्नी चमकौर साहिब से तीन बार लगातार विधायक रहे हैं। कांग्रेस ने इस बार उन्हें भदौर (सुरक्षित) सीट से भी चुनाव में उतारा हैं।

वहीं अमृतसर(पूर्व) में सिद्धू के खिलाफ शिअद के तेज तर्रार नेता बिक्रम मजीठिया ने ताल ठोंकी है और यहां मुकाबला बेहद दिलचस्प होने जा रहा है। दोनों नेता अब तक कोई विधानसभा चुनाव नहीं हारे हैं लेकिन इस बार आमने सामने होने पर इनमें से एक ही हार निश्चित है। प्रकाश सिंह बादल(95) इस चुनाव में सबसे बुजुर्ग उम्मीदवार हैं।