सुरेश सिंह रावत ने नसीम अख्तर के आरोपों को बताया झूठ का पुलिंदा


अजमेर/पुष्कर।
पुष्कर विधायक सुरेश सिंह रावत ने कांग्रेस प्रत्याशी रहीं नसीम अख्तर के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि झूठ के जुबानी औजार से विकास की सच्चाई नहीं झूठलाया नहीं जा सकता।

रावत ने कहा कि कांग्रेस सत्ता परिवर्तन के साथ ही प्रशासन को दबाकर, धमकाकर और प्रशासनिक मशीनरी का दुरुपयोग कर स्वीकृत विकास कार्यों को अटकाने या बेतरतीब ढंग से कराने का कार्य कर रही है।

ब्रह्मा मंदिर का एंट्री प्लाजा का काम अटकाना, बायोलॉजिकल पार्क के निर्माण व विकास का बजट रोककर निर्माण एजेंसी को राशि आवंटित नहीं करना, एडीए से पुष्कर सरोवर में गंदे पानी की रोकथाम हेतु नगर पालिका से राशि का भुगतान कर बनवाई गई डीपीआर को राज्य सरकार से अभी तक स्वीकृति नहीं मिलना, अजमेर पुष्कर सुरंग के लिए भाजपा कार्यकाल के अंतिम बजट में घोषणा करवा देने के बावजूद सत्ता परिवर्तन के साथ ही उक्त कार्य को किसी प्रकार का बजट आवंटन ना होने देना, पुष्कर की जनता को परेशान करने के लिए भूमिगत केबल बिछाने का कार्य अधिकारियों को निर्देशित करा बेतरतीब ढंग से करवाना, पुष्कर हॉस्पिटल के नवीन भवन निर्माण में कांग्रेस की गुटबाजी के तहत जन भावना अनुसार चिकित्सालय निर्माण में बाधा उत्पन्न करना जैसे अनेकों विकास व जन कल्याण के काम अटका कर कांग्रेस पुष्कर क्षेत्र की जनता को मात्र गुमराह और दुष्प्रचार करने का कार्य कर रही है।

प्रदेश में कांग्रेस की सरकार है, यदि आरोप लगाने वाले कांग्रेसी प्रत्याशी बेफिजूल की बयान बाजी को छोड़कर वास्तव में पुष्कर क्षेत्र के विकास के प्रति संवेदनशील है तो नए कार्य तो छोड़िए, मेरे द्वारा भाजपा सरकार में स्वीकृत कराए गए व प्रगतिरत कार्यों को समय पर पूरा करने के लिए आवश्यक बजट राशि कार्यकारी एजेंसियों को आवंटन कराने का प्रयास करें तो वह पुष्कर क्षेत्र की जनता के हित में होगा।

इसी के साथ विधायक रावत ने कहा कि झूठ के पुलिंदों से विकास के महल नहीं खड़े हुआ करते। कांग्रेस प्रत्याशी द्वारा आरोप लगाए गए हैं कि, विकास कार्यों की जांच होनी चाहिए, तो जनता सब जानती है। सरकार उनकी है अधिकारी उनके हैं, तो उन्हें जांच करने से रोक कौन रहा है?

पूर्व संसदीय सचिव राज्य मंत्री राजस्थान सरकार एवं विधायक पुष्कर सुरेश सिंह रावत के अथक प्रयासों से कराए गए विकास कार्य से पुष्कर क्षेत्र के गौरव को अन्तर्राष्ट्रीय दृष्टिपटल पर अनूठी पहचान दिलाने वाले प्रमुख-प्रमुख विकास कार्य निम्नानुसार हैं:-

1. मगरा विकास बोर्ड में पंचायत समिति श्रीनगर और पीसांगन को जुडवाया।

2. एडीए के अधीन आने वाले 118 गांवो में भूमि विस्तार कराकर आमजनों को पट्टे दिलवाए। लगभग 3000 बीघा जमीन ग्रामीणो को वापस दिलाई, जिसके फलस्वरूप कई पीढियों में पहली बार ग्रामीणों को हजारों पट्टे मिले।

3. पिछले 60 वर्षों से पुष्कर तहसील, अजमेर तहसील, पीसांगन व नसीराबाद तहसील कुल 04 तहसीलो के त्रुटिपूर्ण राजस्व रिकॉर्ड को सुधारने के आदेश जारी करा एवं कैम्प लगवाकर राजस्व रिकार्ड दुरूस्तीकरण करवाया जा रहा हैं।

4. कृषि भूमि पर मकान व चारा (पैराफेरी क्षेत्र को छोडकर) 500 वर्गगज के निःशुल्क पट्टे देने के आदेश जारी कराए।

5. गॉवों, मजरो व ढाणियो की सिवायचक भूमियो पर बसे परिवारों को पट्टे दिलवाए।

6. 28 ग्रामों को स्मार्ट विलेज घोषित कराया। वे ग्राम सोमलपुर, सराधना, दौराई, गनाहेडा, तबीजी, भांवता, हटूंडी, किशनपुरा, डूमाडा, देवनगर, बांसेली, बडलिया, घूघरा, गगवाना, बीर, उंटडा, नारेली, बबायचा, भूडोल, कायड, बडगांव, रामनेरढाणी, बूबानी, बलवंता, जाटिया, रूपनगढ, करकेडी व पनेर हैं।

7. राशि 24.06 करोड से अक्षरधाम की तर्ज पर ब्रह्मा मंदिर का भव्य विकास प्रगतिरत हैं।

8. राशि 1200 लाख से पुष्कर सावित्री माता के दर्शन हेतु जाने के लिए रोप-वे की स्थापना व मंदिर का सौन्दर्यकरण व विकास कराया।

9. राशि 3500 लाख से भारत सरकार की प्रसाद, हृदय व अटल योजनाओं में पुष्कर शहर, परिकमा मार्ग व घाटो का विकास प्रगतिरत हैं।

10. अजमेर पुष्कर सुरंग टनल स्वीकृति ऐतिहासिक उपलब्धि।

11. श्री सेन महाराज पेनोरमा का निर्माण स्वीकृत।

12. किशनगढ एयरपोर्ट हेतु विधानसभा क्षेत्र पुष्कर के ग्रामीणों की जमीनो का उचित मुआवजा दिलवाकर एवं आवश्यक संसाधन उपलब्ध कराकर एयरपोर्ट की स्थापना करवाई।

13. पुष्कर में नवीन कॉलेज का नवीन भवन निर्माण प्रगतिरत एवं कॉलेज चालू कराया।

14. पौराणिक आस्था केन्द्र बुढा पुष्कर का विकास राशि राशि 906 लाख से प्रगतिरत हैं।

15. राशि 61.97 लाख से 20 हैक्टेयर भूमि पर पुष्कर में दुर्लभ जडीबूटियों के हर्बल गार्डन की स्थापना कराई।

16. वन्य जीवों के संरक्षण हेतु 58 हैक्टेयर भूमि पर राशि 10 करोड़ की लागत का बॉयोलॉजिकल पार्क स्वीकृत कराया।

17. रूपनगढ में राशि 250‌ करोड रूपए की लागत का ग्रीन टेक मेगा फूड पार्क की स्थापना कराई।

18. पुष्कर घाटी में महाराणा प्रताप स्मारक की स्थापना कराई।

19. राशि 450 करोड से क्षेत्र में सैकडों गुणवत्ता पूर्ण सडकों का निर्माण करा सडकों का जाल बिछाया।

20. राशि 50 करोड से 27.20 किमी अजमेर-पुष्कर एनएच 89 का विस्तार कराया।

21. पुष्कर मे शहरी गौरव पथ के निर्माण हेतु राशि 2 करोड स्वीकृत कराए।

22. 115 विद्यालयों को अक्षय पात्र की सूची में सम्मिलित करा विद्यार्थियों को गुणवत्ता व पोष्टिकतायुक्त भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है।

23. राशि 325 लाख से कायड विश्राम स्थली में आरसीसी के 2 यात्री शेड व सीवरेज डिस्पोजल हेतु सीवर लाईन का उन्नयन कराया।

24. विधायक मद मे राशि 10.50 करोड एवं सांसद मद में लगभग 4 करोड से विभिन्न विकास कार्य प्रगतिरत।

25. महर्षि दयानन्द सरस्वति विश्वविद्यालय में एक सभागार व रिमोट सेंसिंग विभाग हेतु भवन निर्माण हेतु राशि 20 करोड स्वीकृत कराई और महर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्यालय, अजमेर में राशि 30.600 लाख से (6 पैसेन्जर) लिफ्ट निर्माण करवाया गया।

26. तीर्थ राज पुष्कर को सालासर धाम से जोडने हेतु 10 किमी सिंगल वे सडक का चौडाईकरण स्वीकृत कराया।

27. नरवर नई ग्राम सेवा सहकारी समिति।

28. महिला सहकारी समिति लिमिटेड रूपनगढ में अन्नपूर्णा भण्डार केन्द्र की स्थापना।

29. पं.दीनदयाल उपध्याय विद्युत्तिकरण योजना में गांव-गांव, ढाणी-ढाणी का विद्युत्तीकरण कराया-ग्राम डूमाडा, पुष्कर सिटी, रिको रूपनगढ, भदूण, जाजोता, सिणगारा हेतु नवीन 33/11 केवी के जीएसएस और ग्राम भूडोल व देवनगर हेतु नवीन 33 केवी के जीएसएस स्वीकृत। पुष्कर शहर की केवी की 6.5 किमी और एलटी की 12 किमी अण्डरग्राउण्ड केवल डलवाकर पुष्कर के प्रमुख मार्गों को पोल लेस बनाने हेतु राशि 10 करोड रूपए स्वीकृत कराए।

30. गांव-गांव, ढाणी-ढाणी बीसलपुर पाईप लाइन पहुंचाई – राशि 5047 लाख एवं 4786 लाख की दो वृहद् पेयजल परियोजना स्वीकृत करा कार्य करवाया। इसके अलावा गगवाना व बीर में घर घर नल कनेक्शन स्वीकृत, बीसलपुर की पाईप लाईन से वंचित पुष्कर विधान सभा क्षेत्र के 84 गांव और 150 ढाणियों में 800 किमी बीसलपुर की नवीन पाईप लाईन डलवा कर ग्रामीणों और मवेशियों की पेयजल की गंभीर समस्या का निराकरण करवाया गया। जिनमें नवीन 55 उच्च जलाशयों का और 04 नवीन पम्पिंग स्टेशनो का निर्माण करवाया गया तथा सावित्री पहाडी पर 4.5 लाख लीटर मीटर स्टेजिंग क्षमता के उच्च जलाशय का निर्माण कराया।

31. महिला एवं बाल विकास के कार्यों को सर्वोच्चता प्रदान की- पुष्कर में वार्ड 3 व 5, चाचोटिया की ढाणी, धोतियों की ढाणी, सराना, नानगा की ढाणी, बड़लिया में नवीन आंगनबाड़ी केन्द्र स्वीकृत कराये। आंगनबाड़ी केन्द्र सेंदरिया, नांद-2 और रूपनगढ प्रथम को आदर्श आंगनबाडी केन्द्र के रूप में विकसित कराया। बावड़ी, रसूलपुरा-2, पुष्कर-9, गगवाना 3 व 4, घूघरा, कायड-1, निटूटी-1, रूपनगढ में 4, करकेडी में 2, चाचियावास में 2, उंटडा, मुहामी, चांदियावास, दांता में 2, भूडोल-3, सेन्दरिया, बीर, जाटिया-2, कालेढा, नाडाढाणी और बलवंता में 2 आंगनबाडी केन्द्रो का भवन निर्माण व मरम्मत कार्य कराया।

32. उच्चत्तम चिकित्सा सेवाएं उपलब्ध कराई। झाग, नोसल, रोडावास, सींगला, देदूला बाडिया, डूंगरियाखुर्द, मजीतिया, बलवंता, हाशियावास, खोडा गणेश, मानपुरा की ढाणी, पदमपुरा, सराणा, भदूण, रूपनगढ, करकेडी, डूमाडा, गोडियावास, रसूलपुरा, हटूण्डी, नरवर मे नवीन चिकित्सा संस्थान बनाने की स्वीकृति जारी कराई गई। ग्राम सेंदरिया में नवीन राजकीय स्वास्थ्य केन्द्र खोलने की स्वीकृति जारी करवाई गई, योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा अनुसंधान केन्द्र बनवाया गया। पीएचसी सराधना और करकेडी को आदर्श पीएचसी एवं वेलनेस सेन्टर के रूप में चयनित करवाया गया। राशि 10 करोड से चिकित्सा संस्थानो के नवीन भवनो का निर्माण कराया।

33. शिक्षा की अलख जगाई- ग्राम भदूण, कानस, पालरा, नवां, भैरवाई, ढेर की ढाणी, निटूटी, थल, बडगांव, दांता, मगरा, मुहामी, रसूलपुरा, गगवाना, कायड, छातडी, गनाहेडा, रामपुरा, लेसवा, नांद, बांसेली, देवनगर, दौराई, डुमाडा, मसीना, सोमलपुर, भांवता, हटूण्डी, किशनपुरा, तिलोरा, मायापुर, कडैल, खोरी, होकरा के विद्यालयों को कमोन्नत सुचारू संचालन कराया गया। परीक्षार्थियों की सुविधा हेतु उंटडा, पनेर, सोमलपुर और हटूण्डी में नवीन बोर्ड परीक्षा केन्द्र स्वीकृत कराये गये। लगभग 13 करोड से विद्यालयो के नवीन भवनो, कक्षाकक्षो, मुत्रालयों-शौचालयों का निर्माण व विद्युत्त व पेयजल सुविधाये उपलब्ध कराई गई।

34. पशुओ की उचित चिकित्सा एवं संरक्षण हेतु आवश्यक संसाधन स्वीकृत कराये नवीन पशु चिकित्सा उपकेन्द्र गनाहेडा, कानस, भूडोल, भदूण, अमरपुरा, गोडियावास, बीर, पनेर, घुघरा और भांवता में स्वीकृत। पशु चिकित्सा उपकेन्द्र बुबानी को पशु चिकित्सालय में कमोन्नत सुचारू संचालन कराया गया। पशु औषधालय केन्द्र अरडका को पशु चिकित्सालय कमोन्नत सुचारू चालू कराया गया।

35. राशि 5064 लाख से अरड़का, सराधना में उप तहसील, पुष्कर व रूपनगढ में तहसील व उपखण्ड कार्यालय, पुष्कर में डाक बंगला, कॉलेज, खेल स्टेडियम, पशुधन आरोग्य चल ईकाई, अजमेर में तहसीलदार व उपखण्ड अधिकारी निवास, सराधना मे पुलिस चौकी, रूपनगढ में उपकोष कार्यालय एवं पुष्कर बाईपास पर डीआईजी रजिस्ट्रेशन व स्टॉम्प कार्यालय, कांकरिया भूणाबाय में महिला बाल विकास विभाग कार्यालय, कांकरिया भूणाबाय में कन्स्ट्रक्शन ऑफ फोरेन्सिक लैब आदि के नवीन भवनो का निर्माण स्वीकृत करा सुचारू कार्य प्रारम्भ कराया गया। कांकरिया भूणाबाय में आरआरआईटी होस्टल अजमेर में 20 कमरो का, आरआरआईटी अजमेर में कांन्फ्रेन्स हॉल का, देवस्थान विभाग, अजमेर के अस्टिटेन्ट कमीशनर कार्यालय में चार दीवारी का, माईनिंग ऑफिस भवन के विस्तार का, हाई सिक्यूरिटी जेल में आधुनिक बन्दी मुलाकात कक्ष का, पुष्कर बाईपास पर जनाना अस्पताल अजमेर में जननी सुरक्षा वार्ड का, अस्पताल में रिनोवेशन एवं मरम्मत का, अस्पताल की चार दिवारी को ऊंचा करने का निर्माण करावाया।