व्यक्तिगत घृणा के पीड़ित राहुल देश को पहुंचा रहे हैं नुकसान : भाजपा

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी के लंदन में दिए गए विवादास्पद बयान की तीखी आलोचना करते हुए आज कहा कि गांधी लगातार साबित कर रहे हैं कि वह एक नितांत अपरिपक्व नेता हैं जो व्यक्तिगत घृणा से पीड़ित हो कर देश को ही नुकसान पहुंचा रहे हैं।

भाजपा के प्रवक्ता गौरव भाटिया ने आज पार्टी के केन्द्रीय कार्यालय में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में राहुल गांधी द्वारा लन्दन में ‘भारत के खिलाफ’ दिए गए बयान पर तीखा प्रहार करते हुए कहा कि गांधी एक अपरिपक्व, पार्ट टाइम पोलिटिशियन और नफ़रत भरे नेता है, उनके वक्तव्य से स्पष्ट है कि राहुल गांधी देश के साथ गद्दारी कर रहे हैं।

भाटिया ने कहा कि ऐसा लगता है कि राहुल गांधी लन्दन में आइडियाज फॉर इण्डिया के बदले आइडियाज फॉर डिस्ट्रॉइंग इण्डिया पर भाषण दे रहे हों। राहुल गांधी और उनका पूरा कुनबा जानबूझकर देश के खिलाफ बयान देकर भारत को बदनाम करने की कोशिश में लगे रहते हैं। वे लोग आदतन अपराधी हैं। नफरत भरे लोग जब पार्ट टाइम राजनीति करते हैं तो उनका असली चेहरा सबके सामने आ जाता है।

उन्होंने कहा कि गांधी जैसे एक लाख नेता भी नफ़रत भरकर आएंगे तब भी देश की 135 करोड़ जनता उनको नेस्तनाबूद कर देगी। यह सिर्फ भाजपा की आवाज नहीं है बल्कि 135 करोड़ भारतीयों की यह बुलंद आवाज आप तक लंदन में भी पहुंचेगी।

भाटिया ने कहा कि गांधी का यह वक्तव्य बताता है कि कांग्रेस पार्टी 1984 से केरोसन तेल लेकर चली आ रही है। 84 के सिख नरसंहार में कांग्रेस पार्टी के नेता ही केरोसन तेल छिडक रहे थे। कांग्रेस के एक बड़े नेता ने कहा था कि जब बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती हिलती है। सिख नरसंहार पर कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा का कहना है कि हुआ तो हुआ। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की मानसिकता आज भी वैसी ही है।

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने आज राजीव गांधी की तस्वीर के साथ ट्वीट किया कि एक बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती हिलती है। भाटिया ने कहा कि जब धरती हिलती है तो कुछ हजार लोग मार दिए जाते हैं। ऐसी सोच वाली कांग्रेस पार्टी और राहुल गांधी 8 साल विपक्ष में रहने पर हाथ में केरोसन तेल लेकर चिंगारी भड़काने की नीति पर चल रहे हैं।

गांधी को भाजपा से सीख लेने की नसीहत देते हुए भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी विपक्ष में दशकों रही लेकिन हमेशा सकारात्मक विपक्ष की भूमिका निभाई। विपक्ष में रहते हुए हमने सत्तारूढ़ दल कांग्रेस की खामियों को जरुर उजागर किया, किन्तु सत्ता पाने की लालसा नहीं रखी। सत्ता पाने के लिए देश और देश की छवि को कभी नुकसान नहीं पहुंचाया। जबकि गांधी विदेशी धरती पर भारत की सभी अच्छाइयों को छुपाकर सिर्फ और सिर्फ देश की बुराई करते हैं।

भाटिया ने कहा कि जिस मुल्क पाकिस्तान को अपना देश चलाने के लिए भीख का कटोरा लेकर विदेशी मुल्कों की ओर देखना पड़ रहा है, जिस देश में आजादी के बाद से अधिकांश समय तानाशाह ने हुकूमत की है उस आतंकी मुल्क पाकिस्तान से भारत की तुलना करना निरर्थक है। भारत महान था, भारत महान है और भारत महान रहेगा।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत आज पूरे विश्व को दिशा दे रहा है, चाहे पर्यावरण का मामला हो या आतंकवाद नियंत्रण का, भारत ने 100 से ज्यादा देशों को कोरोनारोधी वैक्सीन देकर वसुधैव कुटुम्बकम को चरितार्थ किया है।

उन्होंने कहा कि तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी आपातकाल लगा कर लोकतंत्र का गला घोंटा था जो देश के लोकतंत्र में काला अध्याय है। कांग्रेस पार्टी और उनका परिवार देश के सुप्रीम कोर्ट, संवैधानिक संस्थान सहित चौथा स्तंभ मीडिया और ईवीएम पर विश्वास न करते हुए निरंतर सवाल उठाते रहते हैं। क्या राहुल गांधी का यही लोकतंत्र है? आज आलम यह है कि देश की जनता का भी कांग्रेस पर से विश्वास उठ गया है। अभी दो महीने पहले उत्तर प्रदेश में भाजपा ने एक ऐतिहासिक जीत हासिल की, जबकि कांग्रेस पार्टी के 399 प्रत्याशियों में से 387 की जमानत जब्त हो गई।

भाटिया ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री मोदी से गांधी नफरत करते हैं यह जग जाहिर है लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि आप भारत के खिलाफ अनर्गल शब्द का इस्तेमाल करें। गांधी की विदेश नीति की जानकारी पर तंज कसते हुए भाटिया ने कहा कि राहुल गांधी की राजनीति ऐसी है मानो कोई पीएचडी करना चाहता है किन्तु किताबों से नफरत है और और वो नर्सरी भी पास नहीं किया हो। गांधी विदेश नीति की एबीसीडी भी नहीं जानते है लेकिन इस पर अनर्गल बयान देते रहते हैं।

गांधी ने लद्दाख की तुलना यूक्रेन से की। यह खुद में दिखाता है कि उन्हें भारत की ताकत का पता नहीं है और ना ही विदेश नीति का ज्ञान है। गांधी ने यह तुलना कर देश के वीर सैनिकों का भी अपमान किया है, जो कभी नहीं धुलने वाला पाप है। यह सर्वविदित है कि हमारे सेना के वीर कर्नल संतोष बाबू ने देश की धरती के लिए शहादत दी। भारतीय सेना की ताकत ने चीन को पीछे धकेल दिया, जो चीनी सेना खुद को सबसे ताकतवर मानती है।

देश की तीव्र विकास की चर्चा करते हुए भाटिया ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में आज भारत तेजी से आगे बढ़ रहा है। कांग्रेस और राहुल गाँधी साकारत्मक विपक्ष की भूमिका निभाएंगे तो ठीक है, यदि नहीं निभाएंगे तब भी भारत का विकास तीव्र गति से होगा। देश में 195 करोड़ वैक्सीन डोज देकर लोगों को सुरक्षा कवच दिया गया।

कोविड महामसरी के दौरान एक ओर विकसित देश जहां कमजोर साबित हुए वहीं दूसरी ओर, भारत और मजबूत होकर उभरा। प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में कोराना काल में 80 करोड़ भारतीयों को मुफ्त अन्न दिया गया ताकि कोई भूख न सोए। उज्ज्वला योजना के तहत 11 करोड़ माता-बहनों को मुफ्त गैस सिलिंडर दिया गया। स्वच्छता अभियान के तहत 11 करोड़ घरों में नि:शुल्क शौचालय बनवाए गए। गांधी इसकी चर्चा विदेश में करते तो अच्छा होता। दुर्भाग्य से राहुल गांधी को नफरत का मोतियाबिन्द हो गया है। विपक्ष का यह कतई मतलब नहीं है कि अपनी व्यक्तिगत नफरत की आंधी से देश को नुकसान पहुंचाए।