राहुल गांधी ने कभी देवागौड़ा का अपमान नहीं किया : कांग्रेस

Rahul Gandhi never abused Devegowda, Modi should apologies: Anand Sharma

बेंगलुरु। कांग्रेस ने जनता दल (सेकुलर) के नेता तथा पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा के बारे में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की ओर से अभद्र टिप्पणी करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आरोप को गलत बताते हुए कहा कि गांधी ने पूर्व प्रधानमंत्री काे लेकर कभी अपमानजक बात नहीं की।

कांग्रेस प्रवक्ता आनंद शर्मा ने कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस के मुख्यालय में यहां आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष ने हाल के चुनाव के दौरान कभी देवगौड़ा का नाम तक नहीं लिया है और न ही उनके बारे में गलत शब्द बोले हैं। गांधी ने हाल के चुनाव के दौरान एक जगह जद एस को भारतीय जनता पार्टी की बी टीम करार दिया था और गौड़ा के नेतृत्व वाले दल को ‘जनता दल संघ परिवार’ बताया था।

उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी ने कर्नाटक चुनाव के बाद की राजनीतिक संभावनाओं को ध्यान में रखते हुए देवेगौड़ा के साथ नजदीकी साधने का प्रयास कर रहे है। उन्होंने मांग की कि गांधी पर लगाए गए झूठे आरोप के लिए मोदी को कांग्रेस अध्यक्ष से माफी मांगनी चाहिए।

मोदी ने उड्डुपी में कल चुनावी सभा को संबोधित करते हुए आरोप लगाया था कि कांग्रेस अध्यक्ष अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल करते हैं और उन्होंने देवेगौड़ा के लिए गलत शब्दों का इस्तेमाल किया है जबकि वह पूर्व प्रधानमंत्री का इतना सम्मान करते हैं कि वह जब भी उनसे मिलने आते हैं तो खुद आदर के साथ उनकी गाड़ी का दरवाजा तक खोलते हैं।

शर्मा ने कहा कि कांग्रेस को मालूम है कि देवेगौडा देश के वरिष्ठ नेता और पूर्व प्रधानमंत्री हैं। हम हमेशा उनका आदर करते हैं लेकिन मोदी ने राजनीतिक लाभ लेने के लिए झूठ बोला और राहुल गांधी पर अभद्र टिप्पणी करने का आरोप लगाया।

मोदी सरकार पर अर्थव्यवस्था की स्थिति को लेकर तीखा हमला करते हुए उन्होंने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था की तस्वीर बहुत खराब है लेकिन उसे साफ दिखाने के लिए सिर्फ लीपापोती की जा रही है। सरकार के दावे हकीकत से बहुत दूर हैं। देश में नोटबंदी लागू किए जाने के बाद बडे स्तर पर लोगों की नौकरी गई है। निर्यात तेजी से घट रहा है और औद्योगिक साख दर छह दशक के निचले स्तर पर आ गई है।

कांग्रेस नेता ने कहा कि मोदी ने विद्युतीकरण को लेकर भी झूठ बोल रहे हैं और दावा कर रहे हैं कि देश के सभी गांवों में बिजली पहुंच चुकी है जबकि वास्तविकता यह है कि 22.4 करोड़ घरों में से अभी 4.3 करोड़ घरों में बिजली के कनेक्शन नहीं हैं।