पेट्राेल अाैर डीजल की बढ़ती कीमतों पर राहुल गांधी ने साइकिल पर राेड़ शाे किया

पेट्राेल अाैर डीजल की बढ़ती कीमतों पर राहुल गांधी ने साइकिल पर राेड़ शाे किया
पेट्राेल अाैर डीजल की बढ़ती कीमतों पर राहुल गांधी ने साइकिल पर राेड़ शाे किया

मेलूर, कर्नाटक | कर्नाटक विधानसभा मतदान के लिए जैसे .जैसे समय नजदीक आ रहा है राजनीतिक पार्टियां मतदाताओं को लुभाने के लिए कोई भी अवसर नहीं चूकना चाहती हैं। इसी सिलिसले में आज कांग्रेस अध्यक्ष राहुल ।गांधी ने साइकिल पर सवार हाेकर राेड़ शाे कर केन्द्र सरकार को महंगाई विशेषकर देश में पेट्राेल अाैर डीजल की कीमताें में बेतहाशा वृद्धि काे लेकर घेरा

12 मई को कर्नाटक में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए बेंगलुरु से हेलीकाॅप्टर से पहुंचे राहुल ने राेड़ शो के दाैरान खास ताैर पर तैयार की गयी बस से यात्रा की अाैर सडक किनारे खड़े हजाराें लाेगाें के नाराें के बीच कुछ दूर साइकिल पर सवार होकर संपर्क साधा 1साइकिल पर सवार होकर रोड़ शो करने के दाैरान राहुल की सुरक्षा में लगी एसपीजी को भीड़ संभालने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी अाैर सुरक्षाकर्मी इस दाैरान साथ-साथ दाैड़ते दिखे। राेड़ शाे के दाैरान महिलाअाें ने रसाेई गैस की कीमत में वृद्धि के खिलाफ खाली सिलेंडराें के साथ विराेध प्रदर्शन भी किया।

एक बैलगाड़ी पर चढकर उपस्थित भीड़ काे संबाेधित करते हुए गांधी ने अाराेप लगाया कि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में पेट्राेलियम मूल्याें में गिरावट जारी है, लेकिन माेदी सरकार ईंधन के दामों में निरंतर बढोतरी कर रही है। उन्हाेंने सवाल किया कि यह सारा पैसा जा कहां रहा है?प्रधानमंत्री नरेंद्र माेदी की कड़ी अालाेचना करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने अाराेप लगाया कि वे (माेदी) मुख्यमंत्री सिद्दारामैया के खिलाफ गलत अाराेप लगाने में जुटे हैं। बार-बार झूठ बाेलकर वे उसे सच साबित करने पर तुले हैं। इस तरह वे जनता काे बेवकूफ बना रहे हैं. लेकिन कर्नाटक की जनता बड़ी समझदार है। वह जानती है कि भाजपा क्या है? उसने पिछले पांच साल के दाैरान सिद्दारामैया सरकार के कामकाज काे देखा है। उन्होंने कहा“ अाप (माेदी) चुनाव अभियान के दाैरान सिर्फ झूठ बाेलने के लिए कर्नाटक अाये हैं। गांधी ने कहा कि अापने पिछले चार साल के दाैरान अपनी सरकार के कामकाज काे कभी नहीं देखा अाैर अाप 2014 में सत्ता में अाने पर एक भी संकल्प पूरा करने में नाकाम रहे। ”

कांग्रेस अध्यक्ष ने यह भी अाराेप लगाया कि माेदी न सिर्फ वादे के अनुरुप काम करने में नाकाम रहे, बल्कि देश से धन लूटकर बाहर ले जाने की भी अापने अनुमति दी। एक तरह अापने लूटने वालाें काे बाहर भागने की अनुमति दी अाैर फिर वापस अाकर राष्ट्र काे लूटने वाले रेड्डी बंधुअाें काे टिकट देकर विधानसभा में पहुंचने का भी माैका दिया। उन्हाेंने कहा कि चुनाव प्रचार के दाैरान येदियुरप्पा सरकार की 2008 से 2013 के कार्यकाल की नाकामी पर श्री मोदी ने कुछ नहीं कहा। भाजपा के पहले मुख्यमंत्री (येदियुरप्पा) भ्रष्टाचार के अाराेप में जेल गए। इसके बाद भाजपा शासन में मुख्यमंत्री बदलते रहे।

गांधी ने यह अाराेप भी लगाया कि श्री माेदी ने लगातार तीन बरसों तक राज्य में सूखे के हालात होने के बावजूद किसानों का कर्ज माफ न करके राज्य के किसानों काे धाेखा दिया। उन्हाेंने कहा कि माेदी ने राष्ट्रीय बैंकाें से किसानाें के कर्ज माफ करने पर विचार नहीं किया, जबकि उस दाैरान किसानाें का बुरा हाल था, उल्टे उन्हाेंने 15 उद्याेगपतियाें द्वारा लिए 2,50,000 कराेड रुपए के कर्ज माफ कर दिए। वहीं सिद्दारामैया ने मेरी अपील पर 8 दिनाें के भीतर सहकारी संस्थाअाें से किसानाें के 8,000 रुपए के कर्ज माफ कर दिये थे। गांधी येदुयुरप्पा को कर्नाटक का अब तक के सबसे भ्रष्ट मु‌ख्यमंत्री बताते हुए जनता से अपील की कि क्या अाप उस सरकार को चुनेंगे जाे अारएसएस या नागपुर से नियंत्रित हाेती है या उसे जो कांग्रेस के साथ काम करती है, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सिद्धांताें से संचालित हाेती है। उन्हाेंने कहा, ‘अापकाे फैसला लेना है कि अाप एक सांप्रदायिक सरकार चाहते हैं या एक धर्मनिरपेक्ष सरकार।’ गांधी ने अाराेप लगाते हुए कहा कि माेदी तब भी चुप रहे जब उनके एक कैबिनेट मंत्री ने कहा कि संविधान में बदलाव के लिए भाजपा सत्ता में अायी है। ‘उन्हें अब भी इस पर जवाब देना बाकी है। उन्हें अपने मंत्री से बयान वापस लेने की बात कहनी चाहिए।’