जम्मू कश्मीर में आज सुरक्षा कारणों से रेल सेवाएं स्थगित की

जम्मू कश्मीर में आज सुरक्षा कारणों से रेल सेवाएं स्थगित की
जम्मू कश्मीर में आज सुरक्षा कारणों से रेल सेवाएं स्थगित की

श्रीनगर | जम्मू कश्मीर में आज सुरक्षा कारणों से लगातार दूसरे दिन रेल सेवाएं स्थगित रही। अलगावादियों ने आज यहां शोपियां मुठभेड़ केे विरोध में हड़ताल का आह्वान किया है।

रेलवे अधिकारी ने को बताया, “पुलिस के निर्देशानुसार रेल सेवा को आज भी स्थगित रखा गया है।”उत्तर कश्मीर में श्रीनगर-बडगाम और बारामूला के बीच चलने वाली, दक्षिण कश्मीर में बडगाम-श्रीनगर-अनंतनाग-काजीगुड से जम्मू क्षेत्र में बेनीहाल की रेल सेवाओं को स्थगित रखा गया है। अधिकारियों ने कहा कि रेलवे विभाग पुलिस की सलाह पर यात्रियों की सुरक्षा और रेलवे कर्मचारियों की सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता दी है। उन्होंने कहा इससे पूर्व प्रदर्शन के दौरान पथराव की घटना से रेलवे को भारी नुकसान हुआ है और रेल के डिब्बे और रेलवे स्टेशन तथा लाइटों काे क्षति पहुंचायी गयी थी।

इससे पहले शनिवार को श्रीनगर के पुराने शहर में पुलिस के वाहन से एक युवा की मौत हो जाने के विरोध में रविवार को अलगावादियों की हड़ताल को ध्यान में रखते हुए रेल सेवा को स्थगित रखा गया था। इस महीने तीसरी बार रेल सेवाएं स्थगित की गयी हैं। पिछले महीने घाटी में नौ बार रेल सेवाएं स्थगित की गयी थी। कश्मीर विश्वविद्यालय (केयू) के सहायक प्रोफेसर से आतंकवादी बने और हिजबुल मुजाहिदीन (एचएम) के एक शीर्ष कमांडर सहित पांच आतंकवादी कल शोपियां में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारे गये थे। मुठभेड़ के दौरान सुरक्षा बलों और प्रदर्शनकारियों की झड़प में पांच युवाओं की मौत हो गई थी और 30 अन्य लोग घायल हो गये थे।

पुलिस महानिदेशक डॉ. एस पी वैद ने हालांकि एक बार फिर से लोगों से अपील की है कि वे सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ के स्थान पर न जाएं। संयुक्त प्रतिरोध नेतृत्व में शामिल सैयद अली शाह गिलानी, मीरवाइज मौलवी उमर फारक और मोहम्मद यासीन मलिक ने आज हड़ताल का आह्वान किया है। संयुक्त प्रतिरोध नेतृत्व ने शोपियां और चट्टाबल में मारे गये लोगों के विरोध में लोगों से सिविल सचिवालय की ओर मार्च करने को कहा है।