अलवर के मृतक छात्रों के दो दोस्त हिरासत में, सुसाइड के पीछे बेरोजगारी

अलवर। राजस्थान में अलवर जिले अरावली विहार थाना क्षेत्र में रेलवे ट्रैक पर ट्रेन के आगे छलांग लगाने पर तीन छात्रों की मौत और एक छात्र गंभीर रूप से घायल होने के मामले में पुलिस उनके दो दोस्त राहुल मीणा और संतोष मीणा से पूछताछ कर रही है।

पुलिस पूछताछ में सामने आया है कि चारों दोस्त जिंदगी से ऊब गए थे और नौकरी नहीं लग रही थी। इसलिए परेशान होकर चार दोस्तो ने ट्रेन के आगे छलांग लगा ली जबकि राहुल और संतोष डर के कारण पीछे हट गए थे अौर वापस कमरे पर गए। इसके बाद मौके पर गए और घायल अभिषेक को अस्पताल में भर्ती कराया। इसके बाद स्थानीय लोगों के साथ ट्रैक पर पड़े शवों को मौके पर ढूंढने में लग गए और पुलिस को बुलाया।

मृतकों के दोस्ताें ने बताया कि वे सभी नाैकरी नही लगने से परेशान थे इसके बाद चारों छात्रों ने एक साथ ट्रेन के आगे छलांग लगा ली थी। इससे मनोज, सत्यनारायण और ऋतुराज मीणा की ट्रेन से कटने से मौत हो गई जबकि अभिषेक गंभीर रूप से घायल हो गया। जिसका जयपुर में इलाज चल रहा है।

इस घटना के प्रत्यक्षदर्शी और मृतक छात्रों के दोस्त राहुल मीणा का कहना है कि मंगलवार रात को उसके पास सत्यनारायण उर्फ ड्यूटी का फोन आया था और उसने शांतिकुंज आने के लिए बोला था मैं अपने कमरे से पैदल-पैदल शांतिकुंज रेलवे ट्रैक के पास पहुंचा था, वहां पर मनोज सत्यनारायण ऋतु राज ऋषि अभिषेक और संतोष सिगरेट पीते हुए मिले थे।

इसके बाद सत्यनारायण ने कहा कि हम जीवन से ऊब चुके हैं और नौकरी नहीं लगी है इस वजह से हताश हो गए हैं, ना तो हम घर जाकर खेती कर सकते हैं और ना ही हमारी नौकरी लग रही है अब जीवन में क्या कर पाएंगे हम तो मरना चाहते हैं। उसके बाद मैंने उनको समझाने की भी कोशिश की कि यह मजाक करने का समय नहीं है।

दोस्तों ने कहा कि जिस पटरी पर बैठे हैं इस पर ट्रेन आने वाली है और इसके बाद सभी दोस्त रेलवे ट्रैक पर जाकर बैठ गए वहां सिगरेट पीते रहे और बाती बातों में काफी समय गुजर गया था। इसके बाद मैंने उनसे कहा कि मैंने सुबह से कुछ नहीं खाया है और भूख लगी है इसलिए घर जाकर खाना खाऊंगा इस पर अभिषेक बोला मेरे पास एटीएम कार्ड है चिंता मत कर।

इसी बीच ट्रेन की आवाज आई सत्यनारायण में अपने परिजनों से बात की और मनोज ऋतुराज अभिषेक भी दूर खड़े होकर मोबाइल पर बात करने लग गए थे। इसके बाद चारों ने भागकर ट्रेन के सामने कूदकर आत्महत्या कर ली। इस घटना के बाद वह डर गए थे और कमरे पर पहुंच कर मृतक के भाई को इसकीं सूचना दी थी। इसके बाद मृतक के भाई और कुछ अन्य लोग वहां पर पहुंचे और घटनास्थल पर पुलिस को सूचना दी तो मृतकों के शव क्षत विक्षत अवस्था मे थे।

अलवर के पुलिस अधीक्षक राजेन्द्र सिंह ने बताया कि चार छात्र ट्रैन से कट गए थे। इसमे पुलिस की प्रारंभिक जांच में मामला आत्महत्या का लग रहा है। मृतकों के साथ मौजूद दो लड़कों से पूछताछ की जा रही है। उसमें नौकरी नहीं लगने से परेशान होने की बात सामने आई है। मामले की निष्पक्ष जांच की जा रही है।

पूर्व केन्द्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जितेंद्र सिंह ने तीन छात्रों की मौत के बारे में कहा है युवाओं को रोजगार नही मिल रहा है। इससे युवा हताश हो रहे है। भाजपा सरकार युवाओं को रोजगार देने में नाकामयाब रही है। इस मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए।