राजस्थान में नामांकन शुरु होते ही राजनीतिक सरगर्मियां तेज

जयपुर। राजस्थान में आगामी 7 दिसम्बर को हो रहे विधानसभा चुनाव के लिए सोमवार से नामांकन पत्र दाखिल करने की प्रक्रिया शुरू हाेने के साथ ही राजनीतिक सरगर्मियां तेज हो गई। 

राज्य की दो सौ विधानसभा सीटों के लिए हो रहे चुनाव के लिए प्रमुख राजनीतिक दलों में भारतीय जनता पार्टी ने अपने 131 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर दी। जबकि कांग्रेस में उम्मीदवारों के नामों को लेकर गहन चिंतन मनन का दौर जारी है और अभी भी इस काम में एक- दो दिन वक्त लग सकता है।

भाजपा की आेर से घोषित नामों में देखकर लगता नहीं है कि पार्टी ने उम्मीदवारों के चयन में कोई निश्चित मापदंड अपनाए हैं। इस सूची में मुस्लिम उम्मीदवार नहीं है जिससे लगता है कि पार्टी चुनाव में हिन्दू कार्ड खेलेगी। मौजूदा विधायक हबीबुर्ररहमान का टिकट काट दिया गया है और मंत्री युनूस खान उम्मीदवारी पर तलवार लटकी हुई है।

भाजपा ने वंशवाद से परहेज नहीं किया तथा 11 नेताओं के रिश्तेदारों को टिकट दिया गया है। पार्टी ने माैजूदा विधायकों की नाराजगी से बचने के लिए उनके बेटे भतीजों को मैदान मे उतार दिया। इनमें सुंदर लाल के बेटे कैलाश मेघवाल, नंदलाल मीणा के बेटे हेमंत, कैलाश भंसाली के भतीजे अतुल और गुरजंट सिंह के पोते गुरमित सिंह बराड़ शामिल हैं।

साथ ही सांवरलाल के बेटे राम स्वरुप लाम्बा, धर्मपाल चौधरी के बेटे मंजीत, दिगंबर सिंह के बेटे शैलेष सिंह को टिकट दिया गया है। पूर्व विधायक देवी सिंह भाटी की बहू पूनम कंवर, भैरुलाल के पोते गोविंद प्रसाद, रामसहाय के पोते राम विलास और कुंजीलाल के बेटे राजेन्द्र मीणा भी मैदान में है।

हालांकि केंद्रीय नेतृत्व ने कमजोर प्रदर्शन के आधार पर मौजूदा 3 मंत्रियों और 23 विधायकों के टिकट काट दिए जबकि 85 मौजूदा विधायकों पर फिर दांव लगाया है और इस सूची के अनुसार 25 नए चेहरों को मैदान में उतारा है।

विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल उम्रदराज होने के बावजूद शाहपुरा से टिकट लेने में कामयाब रहे, इसी तरह पिछली बार टिकट से वंचित किए गए पूर्व मंत्री मदन दिलावर को रामगजमंडी (एससी) से मौका दिया गया है।

इधर, कांग्रेस उम्मीदवारों के नामों के घोषणा को लेकर सभी की निगाहें दिल्ली पर टिकी है और वहां कांग्रेस मुख्यालय पर बैठकों का दौर जारी है। राज्य के दोनों बड़े नेता अशोक गहलोत और सचिन पायलट दिल्ली में उम्मीदवारों की सूची को अंतिम रुप देने मे लगे है। कांग्रेस केन्द्रीय चुनाव समिति की बैठक में नामों पर सहमति बनने के बाद आज कल में नामों की घोषणा किए जाने की संभावना है।