कांग्रेस मुक्त भारत का सपना पूरा करने में गहलोत की होगी महत्वपूर्ण भूमिका : पूनियां

जयपुर। राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने कांग्रेस को देश से पूरी तरह मुक्त होने के कगार पर बताते हुए कहा है कि आने वाले विधानसभा चुनावों में दो राज्य भी कांग्रेस मुक्त हो जाएंगे और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत राजस्थान सहित पूरे देश में कांग्रेस मुक्त भारत में महत्वपूर्ण कारक बनेंगे।

डा पूनियां ने गहलोत के बयान पर पलटवार करते हुए अपने बयान में आज यह बात कही। उन्होंने कहा कि कांग्रेस देश से पूरी तरह मुक्त होने के कगार पर है, दो राज्यों में ही इनकी सरकारें हैं, जो आने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस मुक्त हो जाएंगे।

उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के मामले में केन्द्र सरकार की संवैधानिक संस्था जांच कर रही है तो इससे अशोक गहलोत और कांग्रेस के नेताओं को दिक्कत क्या है। उन्होंने कहा कि देश में अराजकता फैलाने के बजाय कांग्रेस नेताओं को लोकतंत्र में विश्वास रखना चाहिए, जांच में सब स्पष्ट हो जाएगा।

उन्होंने कहा कि गांधी खानदान की भक्ति में अशोक गहलोत क्यों भूल जाते हैं कि देश पर आपातकाल कांग्रेस की तत्कालीन सरकार ने थोपी थी और देश में भ्रष्टाचार की जननी कांग्रेस है।

उन्होंने कहा कि अशोक गहलोत स्वयं भी प्रदेश में भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने में अव्वल हैं, इनकी मौजूदगी में एक कार्यक्रम में शिक्षकों ने स्वीकार किया था कि शिक्षा विभाग में पैसे लेकर तबादले होते हैं और इससे भी आगे बढ़कर रीट पेपर लीक महाघोटाला कांग्रेस सरकार के ही संरक्षण में हुआ है, कांग्रेस से जुड़ी हुई संस्था राजीव गांधी स्टडी सर्किल के लोगों का हाथ इस महाघोटाले में है, जिन्हें बचाने का काम मुख्यमंत्री कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि भाजपा सड़क से लेकर सदन तक रीट पेपर लीक मामले की सीबीआई जांच की मांग कर रही है, इस मामले के तार कांग्रेस सरकार में बैठे बडे लोगों से जुडे हुए हैं, अशोक गहलोत में नैतिकता बची है तो इस मामले की जांच सीबीआई से करवाने का साहस दिखाएं, जिससे सभी सरगनाओं के चेहरों से नकाब उतर जाएगा और प्रदेश के युवाओं को न्याय मिल सकेगा।

रीट सहित कई परीक्षाओं के पेपर लीक, किसान कर्जमाफी, महिला सुरक्षा, बेरोजगारी भत्ता, बिगड़ी कानून व्यवस्था, बिजली कटौती, बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था, सरकारी अस्पतालों में दवाओं की किल्लत, पेट्रोल-डीजल पर सर्वाधिक वैट आदि गहलोत सरकार की बडी विफलताएं हैं, जिनसे ध्यान भटकाने के लिए वह भाजपा एवं संवैधानिक संस्थाओं पर झूठे आरोप लगा रहे हैं।

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार के शासन में पंथ और मजहब की राजनीति हो रही है, रामनवमी के जुलूसों पर प्रतिबंध लगाया गया, लगभग 17 जिलों में धारा 144 लगाई गई, यह कांग्रेस का असली चेहरा है।