राजस्थान बजट : शिक्षा क्षेत्र में 77 हजार पदों पर नियुक्तियाेंं की सौगात

rajasthan education minister vasudev devnani
rajasthan education minister vasudev devnani

अजमेर। शिक्षा एवं पंचायतीराज राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी ने सोमवार को राज्य विधानसभा में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे द्वारा प्रस्तुत बजट को सर्वांगीण विकास का ऎतिहासिक बजट बताया। उन्होंने कहा कि यह राजस्थान का ऎसा बजट है जिसमें सभी वर्गों के कल्याण को ध्यान में रखते हुए चहुमुखी विकास पर ध्यान दिया गया है।

उन्होंने बजट में किसानों के लिए 50 हजार तक कर्जमाफी की घोषणा, युवाओं को रोजगार प्रदान किए जाने की घोषणाओं को ऎतिहासिक बताते हुए कहा कि इससे राजस्थान का दीर्घकालीन विकास होगा। अजमेर जिला भी विकास के पथ पर अग्रसर होगा।

शिक्षा राज्यमंत्री देवनानी ने सोमवार को राज्य बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह बजट शिक्षा के क्षेत्र में अभूतपूर्व है। उन्हाेंने बजट में शिक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता देकर की गई मुख्यमंत्री की बजट घोषणओं के लिए उनका आभार भी जताया।

उन्होंने कहा कि शिक्षा क्षेत्र के अन्तर्गत 77 हजार 100 रिक्त पदों पर भर्ती की मुख्यमंत्री की बजट घोषणा युवाओं के लिए सौगात है। उन्होंने कहा कि इससे शिक्षा विभाग में शिक्षकों एवं अन्य कार्मिकों के की कमी की पूर्ति ही नहीं होगी बल्कि युवाओं को बड़े स्तर पर रोजगार भी मिल सकेगा।

इसके अलावा उन्होंने बजट मे विभिन्न श्रेणी के 1 हजार 832 विद्यालयों को क्रमोन्नत किये जाने की घोषणा को भी बेहद महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने कहा कि इसका विद्यार्थियों को वृहद स्तर पर लाभ मिलेगा। राजस्थान देश के अग्रणी शिक्षा राज्यों में उभरकर सामने आएगा।

देवनानी ने कहा कि यह ऎसा बजट है जिसमें विद्यार्थियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा, शैक्षिक उन्नयन के साथ ही विद्यार्थियों के स्वास्थ्य पर भी विशेष ध्यान दिया गया है।

उन्हाेंने कहा कि बजट के अन्तर्गत मिड-डे-मील योजना में पहली बार राजकीय प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों केे विद्यार्थियों को सप्ताह में तीन बार दूध पोषाहार उपलब्ध करवाए जाने की पहल की गयी है।

उन्होंने 250 करोड़ की इस योजना को देशभर में अनूठी बताते हुए कहा कि विद्यालय अध्ययनरत बच्चों के स्वास्थ्य और पोषण की दृष्टि से यह अत्यधिक महत्वपूर्ण और अनुकरणीय पहल है।

शिक्षा राज्य मंत्री ने कहा कि विद्यालयों में आधारभूत सुविधाओं के विकास को भी बजट में विशेष प्राथमिकता दी गई है। उन्होंने बजट में 1 हजार 163 आदर्श विद्यालयों में 3 हजार 379 कक्षा कक्ष एवं शौचालय निर्माण के लिए 360 करोड़ की राशि उपलब्ध कराने की बजट घोषणा को महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने कहा कि इससे राज्य के विद्यालयों का आधारभूत सुदृढ़ीकरण होगा।

उन्होंने बजट में 10 वीं बोर्ड की परीक्षा में 85 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाली 200 छात्राओं को और 12वीं की विज्ञान, कला, वाणिज्य परीक्षा में 85 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वली प्रत्येक संवर्ग की 200-200 कुल 600 बालिकाअेां को स्कूटी प्रदान करने की घोषणा की भी सराहना की तथा कहा कि बालिका शिक्षा को प्रोत्साहन की दृष्टि से यह बेहद महत्वपूर्ण है।

देवनानी ने कहा कि बीसलपुर बांध में पानी की आवक बढ़ाने के लिए 6 हजार करोड़ की लागत वाली ब्रह्ममणी-बनास परियोजना अजमेर जिले की पेयजल समस्या के निराकरण के लिए वरदान साबित होगी।

जिले के नगरीय क्षेत्रों में मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान के द्वितीय चरण एवं ग्रामीण क्षेत्र में अभियान के तृतीय चरण में करोड़ों रूपए के विकास कार्य कराए जाएंगे। इसी तरह पेयजल समस्या के समाधान हेतु प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में आवश्यकतानुसार अधिकतम 100 हैंडपंप स्वीकृत किए जा सकेंगे।

उन्होंने कहा कि अजमेर जिले में एक नंदी गौशाला को गौसंरक्षण एवं संवर्धन निधि से 50 लाख तक का अनुदान मिलेगा। जवाहरलाल नेहरू चिकित्सालय में नवीन कैथ लैब के लिए करोड़ों रूपए की लागत से कार्य कराए जाएंगे। अजमेर में एक करोड़ 15 लाख की लागत से एंजियोजेट थ्रोमबैकटोमी सिस्टम की स्थापना और एक करोड़ 20 लाख की लागत से 8 वैंटीलेटर्स की स्थापना की जाएगी।

देवनानी ने कहा कि अजमेर के सभी स्थानीय निकाय क्षेत्र में करोड़ों रूपए की लागत से विकास कार्य करवाए जाएंगे। अजमेर पुष्कर के बीच वैकल्पिक टरनल का निर्माण 55 करोड़ रूपए की लागत से कराया जाएगा। अजमेर में महर्षि दयानन्द सरस्वती स्मारक एवं संग्रहालय निर्माण पर 25 करोड़ रूपए खर्च किए जाएंगे।

देवनानी ने राज्य के विभिन्न जिलों में 19 स्मारकों के संरक्षण एवं पुनरूद्धार कार्य के अन्तर्गत अजमेर को भी सम्मिलित किए जाने की मुख्यमंत्री की घोषणा की सराहना की तथा कहा कि इस बजट में 33 करोड़ 25 लाख रूपए व्यय कर स्मारकों के संरक्षण से अजमेर के भी पर्यटन एवं सांस्कृतिक विकास को गति मिलेगी।

इसके साथ ही बजट में अन्य स्थानों सहित अजमेर में श्रीसेन महाराज, पुष्कर में भगवान श्री परशुराम के नए पेनोरमा के कार्यों की 10 करोड़ की बजट घोषणा को भी महत्वपूर्ण बताया।

उन्होंने 4 स्मार्ट शहरों के अन्तर्गत अजमेर में बिल्डिंग प्लान प्रपोजल को ‘3 डी बिल्डिंग इन्फ्रास्ट्रक्चर मॉडल‘ आधारित किए जाने की बजट घोषणा के लिए भी आभार जताया। उन्होंने कहा कि बजट में 2 हजार करोड़ के प्रस्तावित ‘परवन-अकावद पेयजल परियोजना‘ से अजमेर जिले के विशेष रूप से किशनगढ़ के गाँवों को पीने के पानी की समुचित सुविधा मिल सकेगी।