जलदाय मंत्री महेश जोशी के बेटे के खिलाफ रेप केस दर्ज, गिरफ्तारी कभी भी संभव

जयपुर। राजस्थान के जलदाय मंत्री महेश जोशी के बेटे रोहित जोशी के खिलाफ बलात्कार मामले में दिल्ली के सदर बाजार पुलिस थाने ने सोमवार को कार्रवाई शुरू कर दी है। महिला पुलिस अधिकारी को जांच सौंपी है।

बतादें कि रविवार को सदर बाजार पुलिस थाने में जीरो नंबरी एफआईआर दर्ज कर सवाईमाधोपुर महिला थाने को भेजने का फैसला किया था, लेकिन सोमवार को पूरे मामले में नया मोड़ आ गया। अब दिल्ली पुलिस ने खुद मामले की जांच करेगी।

दिल्ली पुलिस सोमवार को पीड़ित युवती के मजिस्ट्रेट के सामने 164 के बयान दर्ज करा चुकी हैं। युवती का पहले ही दिल्ली के हिंदूराव हॉस्पिटल में मेडिकल करवा लिया था। ऐसे में रोहित जोशी की गिरफ्तारी दिल्ली पुलिस जयपुर से कभी भी कर सकती है।

रोहित जोशी के खिलाफ रेप, अननेचुरल सेक्स, ब्लैकमेलिंग, मारपीट करने सहित गंभीर आराेपों में सात धाराओं 376, 377, 366, 312, 506, 509 के तहत मुकदमा दर्ज हुआ है। युवती का पहले ही दिल्ली के हिंदूराव हॉस्पिटल में मेडिकल करवा लिया था।

FIR दर्ज होने से कोई भी दोषी नहीं हो जाता : डोटासरा

राजस्थान के कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा ने राज्य के जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री महेश जोशी के पुत्र रोहित जोशी पर दुष्कर्म के दर्ज मामले में कहा है कि केवल एफआईआर दर्ज होने से कोई भी दोषी नहीं हो जाता है।

डोटासरा आज प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि मंत्री का बेटा हो या मेरा बेटा, जो भी जांच में दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस मामले में जांच अधिकारी जांच करेगा और जांच के बाद वह जो भी नतीजा आएगा, उसके आधार पर कार्यवाही होगी।

उन्होंने कहा कि हम बीजेपी की तरह नहीं है जो अपने नेताओं का बचाव करें। उन्होंने कहा कि केंद्रीय गृह राज्यमंत्री मंत्री के बेटे को ग़लत तथ्य पेश करके ज़मानत ले ली लेकिन बाद में न्यायालय ने उसे वापस जेल भेज दिया। उसके बावजूद भाजपा ने तो न तो मंत्री पर कार्रवाई की और न ही उसके बेटे पर कार्रवाई की और नहीं इस बारे में कोई बयान दिया।