कोरोना पर विजय के लिए नो मास्क, नो मूवमेन्ट को मूल मंत्र बनाना होगा : गहलोत

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमन्त्री अशोक गहलोत ने वैश्विक महामारी कोरोना की दूसरी लहर के बढने से बने हालातों पर चिंता जताते हुए कहा है कि इस पर विजय पाने के लिए नो मास्क, नो मूवमेन्ट को मूल मंत्र बनाना होगा।

गहलोत ने आज मुख्यमन्त्री निवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से मेयर, डिप्टी मेयर, लोकल बॉडीज़ के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष एवं सीईओ, कमिश्नर, ईओ, वरिष्ठ चिकित्सा विशेषज्ञों, संबंधित विभागों के उच्च अधिकारियों, जिला स्तर के अधिकारियों, हेल्थ ऑफिसर्स के साथ बैठक में यह बात कही।

उन्होंने कहा कि कोरोना से जो हालात बन गए हैं उन पर मास्क, सोशल डिस्टैंसिंग जैसे कोविड प्रोटोकॉल का पालन कर ही विजय प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए हमें नो मास्क नो मूवमेन्ट को अपना मूलमंत्र बनाना होगा। कई देशों में आमजन ने प्रोटोकॉल का पालन कर ही कोविड को हराया है।

उन्होंने कहा कि कोरोना के सम्बन्ध में चाहे हम अस्पतालों में चिकित्सा सुविधाएं कितनी भी बढ़ा लें, जब तक कोरोना संक्रमण बढ़ने से रुकेगा नहीं (संक्रमण चैन नहीं टूटेगी) हम सफल नहीं हो सकेंगे। जनता प्रोटोकॉल का पूर्ण रूप से पालन करे तभी हम कोविड की रफ्तार थाम सकेंगे।

उन्होंने कोरोना की दूसरी घातक लहर पर नियंत्रण के लिए राज्य सरकार ‘नो मास्क-नो एन्ट्री’ से एक कदम आगे बढ़कर पूरी सख्ती के साथ प्रदेश में ‘नो मास्क-नो मूवमेन्ट’ अभियान चलाएगी। संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए यह जरूरी हो गया है कि बिना मास्क के कोई भी घर से बाहर न निकले।

गहलोत ने कहा कि जीवन रक्षा के लिए राज्य सरकार द्वारा चलाए जा रहे इस अभियान के साथ-साथ कोविड प्रबंधन में नगरीय निकायों के जनप्रतिनिधियों, स्वच्छता कर्मियों और इन संस्थाओं के तमाम कार्मिकों की अहम भूमिका है।