एंजियोप्लास्टी के बाद अशोक गहलोत को राहत, आराम की सलाह

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को सीने में दर्द होने पर शुक्रवार को सुबह जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां एंजियोप्लास्टी के बाद चिकित्सकों ने उन्हें तीन दिन आराम की सलाह दी है।

एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ.सुधीर भंडारी ने आज बताया कि गहलोत को एक दो दिन से सीने में दर्द की शिकायत थी। कल रात से सुबह तक उनका तीन बार ईसीजी किया गया जो सामान्य रहा।

इसके बाद भी दर्द होने पर उन्हें एसएमएस में भर्ती कराकर सीटी एंजियो कराया गया। उन्होंने बताया कि उनकी धमनियों की जांच की गयी तो एक धमनी में 90 प्रतिशत अवरोध पाया गया। इसके बाद एंजियोप्लास्टी की गई जिसके बाद उन्हें आराम है। फिलहाल उन्हें तीन दिन आराम की सलाह दी गई है।

उधर, गहलोत के अस्वस्थ होने की जानकारी मिलते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित राज्य के प्रमुख नेताओं ने उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि वह श्री गहलोत के शीघ्र और पूरी तरह से स्वस्थ होने की कामना करते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी श्री गहलोत के जल्द स्वस्थ होने की कामना की। उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा कि वह गहलोत के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करते हैं।

कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने कहा कि ‘हम सभी, ईश्वर से आपके शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करते हैं।’ प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा ने भी ट्वीट करके उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की।

इसके अलावा सचिन पायलट ने ट्विट करके कहा कि मैं ईश्वर से आपके शीघ्र स्वास्थ्य लाभ एवं दीर्घायु जीवन की कामना करता हूं। भाजपा के बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने भी मुख्यमंत्री के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की दुआ की। उन्होंने कहा कि वह गहलोत के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करते हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने भी मुख्यमंत्री गहलोत की कुशलक्षेम पूछी। उन्होंने चिकित्सकों से बातचीत करके उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली। उन्होंन ट्विट किया कि वह ईश्वर से गहलोत के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की प्रार्थना करती हैं। इसके अलावा राजेंद्र राठौड़, कैबिनेट मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास सहित अन्य नेताओं ने भी उनके शीघ्र स्वथ होने की कामना की।

गहलोत पोस्ट कोविड सिंड्रोम से पीड़ित- बुलेटिन

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पोस्ट कोविड सिंड्रोम से पीड़ित हैं और यह हृदय संबंधी जटिलता, पोस्ट-कोविड समस्या का ही एक हिस्सा प्रतीत होता है।

एसएमएस मेडिकल कॉलेज, जयपुर के प्रिंसिपल डा सुधीर भंडारी द्वारा आज शाम जारी बुलेटिन में कहा कि गहलोत को छाती में दर्द था तथा पीठ और दाहिने हाथ में भारीपन के असामान्य लक्षण थे। उनका ईसीजी नॉर्मल था। उनके असामान्य लक्षण के साथ उन्हें कार्डियक वर्क-अप की सलाह दी गई है।

डा भंडारी ने बताया कि एक अनुशासित मरीज की तरह गहलोत ने सभी जांचों के लिए सहमति व्यक्त की और कहा कि मैं समस्त ईलाज एसएमएस अस्पताल में करवाना चाहूंगा क्योंकि एसएमएस के डॉक्टरों और चिकित्सा व्यवस्था में उनका अत्यधिक विश्वास है।

नई शुरू की गई आरजीएचएस योजना के तहत उन्हें एक आम आदमी के रूप में पंजीकृत किया गया एवं उनकी सिटी एंजियोग्राफी की गई जिसमें मुख्य धमनियों में से एक धमनी में 90 प्रतिशत अवरुद्ध पाया गया था। गहलोत ने स्वयं के शीघ्र स्वस्थ होने के लिए मिलने वाली सभी शुभकामनाओं के लिए आभार व्यक्त किया है।