राजस्थान कांग्रेस का आरोप पत्र जारी, भाजपा पर वादाखिलाफी का अारोप

जयपुर। राजस्थान में कांग्रेस ने भारतीय जनता पाटी पर किसानों, युवाओं, बेरोजगारों, छात्रों, महिलाओं और नौकरीपेशा लोगाें को दिखाए गए सपनों के साथ विश्वासघात करने, भ्रष्टाचार बढ़ाने तथा घुसपैठियों के खिलाफ ठोस कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाते हुए दावा किया कि लोकतांंत्रिक समाजवादी और धर्म निरपेक्ष मूल्यों वाली उनकी पार्टी की सरकार सत्ता में आने पर जनता के सपनों को पूरा करेगी।

प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट ने आज यहां केन्द्र एवं राज्य सरकार के खिलाफ आरोप पत्र जारी कर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर भी दाे करोड़ युवाओं को रोजगार देने, विदेशों से काला धन लाकर हर नागरिक के खाते में 15 लाख रुपए जमा कराने के वायदें को भुलाने का आरोप लगाते हुये कहा कि काला धन वापस लाना तो दूर बैंक में पड़ा सफेद धन विजय माल्या जैसे व्यापारी लेकर विदेशों में भाग गए।

राज्य की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद का स्थायी तंत्र विकसित करने, 15 लाख नौकरी, 24 घंटे सिंगल फेस और आठ घंटे थ्री फेस बिजली देने के वादे याद दिलाते हुए आरोप पत्र में कहा गया है कि 90 प्रतिशत फसल न्यूनतम समर्थन मूल्य पर नहीं खरीदी जाने से कर्ज में डूबे सौ से अधिक किसानों ने आत्महत्या कर ली।

इसी तरह 15 लाख युवाओं को नौकरी देने के बारे में भी मुख्यमंत्री के पास कोई जवाब नहीं है। बिजली देने का वादा भी थोथा साबित हुआ। आरोप पत्र में नोटबंदी और जीएसटी का जिक्र करते हुये कहा गया है कि गैस पेट्रोल अौर डीजल की महंगाई के कारण पहले से ही परेशान व्यापारियों का व्यापास खत्म हो गया।

स्कूल कालेजों में शिक्षक नहीं होने से छात्र निराश है वृद्ध एवं गरीबों को सामाजिक कल्याण की योजनाओं का लाभ नहीं मिल रहा। समझौते की पालना नहीं होने से कर्मचारी निराश है।

प्रदेश पर 3 लाख दस हजार करोड़ रुपए का कर्ज होने का आरोप लगाते हुए कहा कि मुख्यमंत्री के राज्य को बीमारु से बाहर निकालने के दावे के बावजूद कर्ज के ब्याज के पेटे 21412 करोड़ रुपए प्रतिवर्ष भरना पड़ रहा है। राज्य को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने के प्रयास भी नहीं किए गए। पेट्रोल डीजल पर 4 प्रतिशत की कमी चार साल बाद की गई जिससे जनता की जेब से 8 हजार करोड़ रुपए निकल गए। केन्द्रीय योजनाओं में भी बजट घटाया गया कृषि विकास दर भी वर्ष 2013 -14 में 8.94 प्रतिशत के मुकाबले वर्ष 2017 में 3.95 प्रतिशत रह गई।

नोटबंदी के कारण कृषि पर बुरा असर पड़ने दावा करते हुए पायलट ने कहा कि भाजपा सरकार ने भी इसे स्वीकार किया है तथा सकल घरेलु उत्पाद में कृषि का योगदान 28 से 24 प्रतिशत रह गया। किसानों को यूरिया भी नहीं मिल रहा तथा नकली बीज दिए जा रहे है।

आरोप पत्र में सवा करोड़ युवाओं को कौशल प्रशिक्षण देने के वायदे पर 2.95 लाख युवाओं को प्रशिक्षण देने, संविदा कर्मियों, विद्याथी मित्रों, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को नियमित नहीं करने तथा सहायिका आशा सहयोगिनी के 12 हजार से अधिक पद रिक्त छोड़ने तथा पुलिस कर्मियों मत्रांलियक कर्मचारियों के एक लाख से अधिक के पद रिक्त छोड़ने का आरोप लगाया गया।

घेरलू बिजली में 70 प्रतिशत तक बढोतरी करने, गांव ढाणियों में पेयजल नहीं पहुंचाने, सड़कों का जीर्णोद्धार नहीं करने तथा जयपुर में मेट्रो का कार्य पूर्ण नहीं करने का आरोप भी लगाया गया है।

आरोप पत्र में खान आवंटन घाेटाला तथा अवैध बजरी खनन में भी सरकार की भूमिका पर संदेह व्यक्त किया गया है। इसके अलावा बाड़मेर में रिफानरी का काम ठप करने अजमेर-सवाई माधोपुर मार्ग सहित कई रेल लाइनों का काम रोकने के भी आरोप लगाए गए है।

घुसपैठियों को बाहर भेजने के भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बयान को थोथा बताते हुए आरोप पत्र में दावा किया गया है कि कांग्रेस ने जहां 82 हजार 728 घुसपैठियों ने वापस भेजे वहीं भाजपा सरकार ने 18 सौ 22 घुसपैठियों को ही वापस भेजा।