राजस्थान में कांग्रेस का महंगाई को लेकर केन्द्र सरकार के खिलाफ धरना-प्रदर्शन

Verified Apps to watch T20 World Cup 2022 Live Stream

जयपुर। राजस्थान में कांग्रेस ने महंगाई को लेकर केन्द्र सरकार के खिलाफ आज राजधानी जयपुर सहित विभिन्न जिलों में धरना-प्रदर्शन कर गिरफ्तारियां दी।

केन्द्र सरकार की गलत नीतियों से देश में बढ़ती महंगाई एवं बेरोजगारी को लेकर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा के नेतृत्व में कांग्रेस नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने जयपुर में सिविल लाईन्स फाटक पर प्रदर्शन किया तथा राजभवन का सांकेतिक घेराव करते हुए सामूहिक गिरफ्तारी दी।

इस अवसर पर डोटासरा ने कांग्रेसजनों को संबोधित करते हुए कहा कि आज देश में अराजकता का माहौल है, महंगाई एवं बेरोजगारी चरम पर है जिससे उद्वेलित होकर पूरे देश में केन्द्र सरकार की गलत नीतियों के विरोध में कांग्रेस पार्टी द्वारा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी एवं कांग्रेस नेता राहुल गांधी के नेतृत्व में देश, प्रदेश, जिला एवं ब्लॉक स्तर पर विरोध-प्रदर्शन किया गया है।

उन्होंने कहा कि देश में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) का शासन आने से पूर्व नरेन्द्र मोदी को जब प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया गया था तब मोदी महंगाई एवं बेरोजगारी को घटाने के बड़े-बड़े दावे किए थे।

उन्होंने कहा कि लेकिन प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी ने जनता से किए गए वादों को भुला दिया है तथा देश की जनता सत्तर साल का हिसाब मांगने वाले लोगों से अब आठ साल में महंगाई एवं बेरोजगारी पर केन्द्र सरकार से जवाब मांग रही है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के चुने हुए जनप्रतिनिधि संसद में महंगाई पर चर्चा करना चाहते हैं, मोदी सरकार को जनता से किए वादे याद दिलाकर आठ साल का हिसाब मांगना चाहते हैं, किन्तु मोदी सरकार महंगाई एवं बेरोजगारी के मुद्दे पर चर्चा नहीं करना चाहती है।

उन्होंने कहा कि आम आदमी की मूलभूत आवश्यकता की वस्तुओं की जिस प्रकार मूल्य वृद्धि हुई है उससे आम आदमी के घर का बजट गड़बड़ा गया है। उन्होंने कहा कि माताओं और बहिनों को गैस का सिलेण्डर भरवाने में कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है तथा बच्चों को दूध-दही खिलाने में भी मुश्किल हो रही है।

उन्होंने कहा कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) शासन के दौरान अन्तरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें चरम पर होने के बावजूद करों का पुर्नभरण कर पेट्रोल-डीजल के दामों में मूल्य वृद्धि को रोकने में सफलता पाई गई थी तथा जनता पर महंगाई का बोझ नहीं पड़ने दिया गया था। उन्होंने कहा कि आज के हालात में महंगाई के कारण लोगों का जीना दूभर हो गया है।

डोटासरा ने कहा कि इस कारण कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने आज देशभर में प्रदर्शन कर केन्द्र की मोदी सरकार को चेतावनी दी हैं कि देश में अविलम्ब महंगाई कम की जाए नहीं तो वर्ष 2024 में केन्द्र की सत्ता से विदाई के लिए तैयार रहे। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा आज भाई को भाई से लड़ा रही है, संवैधानिक संस्थाओं का दुरूपयोग कर महंगाई एवं बेरोजगारी जैसे मूल मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाने का कार्य कर रही है।

डोटासरा ने कहा कि संप्रग शासन के दौरान पेट्रोल की कीमत 70 से 72 रूपए थी जो आज बढक़र 100 रूपए से अधिक हो गई है। उन्होंने कहा कि पेट्रोल के दामों में 35 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है, डीजल के दाम 36 से 40 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है, एलपीजी गैसे सिलेण्डर के दाम 125 प्रतिशत बढ़ गए हैं, अरहर दाल 22 प्रतिशत, सोयाबीन तेल 76 प्रतिशत, सरसों तेल 59 प्रतिशत, चाय के दामों में 40 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

उन्होंने कहा कि दो करोड़ नौकरियां प्रतिवर्ष देने का वादा कर शासन में आई मोदी सरकार बेरोजगारी कम करने में असफल रही है। कोरोना महामारी के दौरान निजी क्षेत्र में कार्यरत लाखों लोगों की नौकरियां चली गई तथा आज भारत में बेरोजगारी दर 21 प्रतिशत से बढक़र 45 प्रतिशत हो गई है, लेकिन केन्द्र सरकार जनता के इन मुद्दों पर कार्य करने की बजाये आम जनता की आवाज उठाने वाले विपक्ष को डराने, धमकाने का काम कर रही है।

उन्होंने कहा कि विपक्ष के नेताओं पर झूठे मुकद्में दर्ज किए जा रहे हैं, ईडी, सीबीआई, इनकम टैक्स का दुरूपयोग कर दहशत का वातावरण केन्द्र सरकार द्वारा बनाया जा रहा है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि हिन्दु-मुस्लिम, भारत-पाकिस्तान के नारे लगाकर केन्द्र सरकार अपना कुशासन चला रही है जिससे देश में अराजकता का माहौल बना गया है तथा कोई भी व्यक्ति स्वयं को सुरक्षित महसूस नहीं कर रहा है।

उन्होंने कहा कि गरीब आदमी को दो वक्त की रोटी जुटाने में संघर्ष करना पड़ रहा है तथा बीमार को ईलाज नहीं मिल रहा है, मजदूर को मजदूरी नहीं मिल रही है, उद्योगपति गलत जीएसटी के कारण उचित लाभ प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं एवं किसानोंं को उनकी उपज का उचित मूल्य प्राप्त नहीं हो रहा है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार की गलत नीतियों के कारण पूरे देश का तंत्र विफल हो चुका है, किन्तु मोदी सरकार केवल धार्मिक उन्माद फैलाकर पुन: सत्ता में आने के लिए कार्य कर रही है।

डोटासरा ने कहा कि देशभर के कांग्रेस कार्यकर्ता मोदी सरकार के तानाशाहीपूर्ण रवैये से बिना डरे जनता के मुद्दे उठाते रहेंगे तथा जिस प्रकार मोदी सरकार को भूमि अधिग्रहण बिल के संशोधन तथा तीन काले कृषि कानून वापस लेने पड़े उसी प्रकार केन्द्र की भाजपा सरकार को अपने गलत नीतियों को वापस लेकर आटा, दूध, दही जैसी मूलभूत आवश्यकता की वस्तुओं पर लगाये गये जीएसटी को वापस लेना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ता वर्ष 2024 में भाजपा को केन्द्र सरकार से हटाकर ही दम लेंगे।

जयपुर में आयोजित प्रदर्शन में मुख्य रूप से राज्य सरकार के मंत्री डॉ. महेश जोशी, परसादीलाल मीणा, हेमाराम चौधरी, सुखराम विश्नोई, प्रतापसिंह खाचरियावास, गोविन्दराम मेघवाल, विधायक मदन प्रजापत, प्रीति शक्तावत, आलोक बेनीवाल, गोपाल मीणा, अमित चाचाण, हाकम अली, पदमाराम मेघवाल एवं मनोज मेघवाल तथा कई बोर्डों के अध्यक्ष एवं कई पूर्व सांसद एवं पूर्व विधायक सहित कई नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने भाग लिया।

इसी तरह प्रदेश में जोधपुर, अजमेर, उदयपुर, नागौर, सीकर सहित अन्य जिला मुख्यालयों पर कांग्रेस नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन करते हुए सामूहिक गिरफ्तारी दी।