शिक्षक की मारपीट से छात्र की मौत मामले में जल्द न्याय मिलेगा : गहलोत

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जालौर के सायला थाना क्षेत्र में एक निजी स्कूल में शिक्षक द्वारा मारपीट के कारण छात्र की मृत्यु को दुखद बताते हुए कहा है कि पीड़ित परिवार को जल्द से जल्द न्याय दिलवाना सुनिश्चित किया जाएगा।

गहलोत ने कहा कि मृतक के परिजनों को पांच लाख रुपये सहायता राशि मुख्यमंत्री सहायता कोष से दी जाएगी। उन्होंने कहा कि आरोपी शिक्षक के विरुद्ध हत्या एवं अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति एक्ट की धाराओं में प्रकरण पंजीबद्ध कर गिरफ्तारी की जा चुकी है।

मामले के त्वरित अनुसंधान एवं दोषी को जल्द सजा के लिए प्रकरण को केस ऑफिसर स्कीम में लिया गया है। पीड़ित परिवार को जल्द से जल्द न्याय दिलवाना सुनिश्चित किया जाएगा।
उधर भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डा सतीश पूनियां ने कहा कि पीड़ित परिवार की सहायता कर दोषियों पर शीघ्र कार्यवाही करनी चाहिए।

डा पूनियां ने कहा कि जालोर जिले में नौ वर्ष के विद्यार्थी इंद्र मेघवाल की ऐसी क्या गलती थी कि उसे पीटकर गहरे जख्म दिए, जिससे उसकी मौत हो गई। इसका जिम्मेदार कौन है। मुख्यमंत्रीजी आपके शासन में एक वंचित वर्ग का छात्र सुरक्षित नहीं है।

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि जालोर में मासूम इंद्र की हत्या बेहद दुखद एवं निंदनीय है। देश को आजाद हुए भले ही 75 वर्ष हो गए लेकिन कुछ लोगों की मानसिकता अब भी बदली नहीं है। राजे कहा कि मैं राजस्थान को शर्मसार करने वाली इस घटना के दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करते हुए जल्द से जल्द इंद्र को न्याय दिलाने की मांग करती हूं।

पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा कि जालौर के निजी स्कूल में एक छात्र के साथ शिक्षक द्वारा की गई मारपीट से छात्र की मृत्यु होना झकझोर देने वाली घटना है। इस भयानक घटना की जितनी निंदा की जाए वह कम है। समाज में व्याप्त इन कुरीतियों को हमें ख़त्म करना ही होगा।

उल्लेखनीय है कि जालोर जिले के सायला थाना क्षेत्र के सुराणा गांव में एक निजी स्कूल में गत 20 जुलाई को छात्र इंद्र मेघवाल ने स्कूल में शिक्षक की मटकी से पानी पीने पर शिक्षक छैल सिंह ने छात्र के साथ मारपीट कर दी। बच्चे की हालत गंभीर होने पर उसे इलाज के लिए अहमदाबाद ले जाया गया जहां उसकी शनिवार को मृत्यु हो गई।