भारतीय रेल के स्वच्छता रैंकिंग में राजस्थान ने बाज़ी मारी

भारतीय रेल के स्वच्छता रैंकिंग में राजस्थान ने बाज़ी मारी
भारतीय रेल के स्वच्छता रैंकिंग में राजस्थान ने बाज़ी मारी

नयी दिल्ली । भारतीय रेल के स्वच्छता रैंकिंग में उतर पश्चिम रेलवे जोन और उसके अंतर्गत राजस्थान के स्टेशनों ने बाज़ी मारी है। ए-1 श्रेणी में देश के सबसे स्वच्छ रेलवे स्टेशनों में जोधपुर नंबर एक और जयपुर नंबर दो पर आया है जबकि ए श्रेणी में मारवाड़ और फुलेरा को क्रमश: पहला एवं दूसरा स्थान हासिल हुआ है।

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने आज यहां रेल भवन में आयोजित एक संक्षिप्त कार्यक्रम में भारतीय गुणवत्ता नियंत्रण परिषद द्वारा वर्ष 2018 के लिए किये गये स्वच्छता सर्वेक्षण की रिपोर्ट जारी की। उन्होंने यह भी ऐलान किया कि स्वच्छता सर्वेक्षण के दायरे में ए-1 और ए श्रेणी के 407 स्टेशनों के अलावा 600 अौर स्टेशन भी शामिल किये जाएंगे तथा स्वच्छता सर्वेक्षण वार्षिक की बजाय छमाही हुआ करेगा।

रेल मंत्री ने कहा कि रेलवे स्टेशनों के स्वच्छता सूचकांक में कुल मिलाकर औसतन 18 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गयी है। इसी प्रकार से 90 प्रतिशत से अधिक अंक हासिल करने वाले स्टेशनों की संख्या 39 रही है जबकि गत वर्ष यह आंकड़ा शून्य था। अस्सी प्रतिशत से अधिक अंक पाने वाले स्टेशन गत वर्ष के 90 से बढ़कर 161 हो गये हैं।

गोयल ने बताया कि ए-1 श्रेणी में नंबर एक जोधपुर, नंबर दो जयपुर और नंबर तीन तिरुपति रहा जबकि ए श्रेणी में नंबर एक मारवाड़, नंबर दो फुलेरा और नंबर तीन वारंगल रहा। जोन के मामले में उत्तर पश्चिम रेलवे नंबर एक और दक्षिण मध्य रेलवे नंबर दो रहा है। उन्होंने कहा कि राजस्थान के प्रदर्शन से पर्यटन उद्योग को लाभ होगा।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि सबसे खराब प्रदर्शन उत्तर मध्य रेलवे का रहा है। गत वर्ष 15 वें स्थान पर रहा उत्तर मध्य रेलवे इस साल 16वें स्थान पर रहा है। उन्होंने कहा कि रेल मंत्रालय उसके कारणों की समीक्षा करेगा और उत्तर मध्य रेलवे को पूरी सहायता देगा।