राजस्थान : 6 जिलों में जिला परिषद एवं पंचायत समिति सदस्यों के चुनाव की घोषणा

जयपुर। राज्य निर्वाचन आयोग ने प्रदेश के छह जिलों के जिला परिषद एवं पंचायत समिति सदस्यों के आम चुनाव की गुरूवार को घोषणा कर दी। चुनाव आयुक्त पीएस मेहरा ने बताया कि तीन चरणों में होने वाने चुनाव के लिए 26 अगस्त, 29 अगस्त और एक सितंबर को मतदान होगा, जबकि चार सितंबर को संबंधित जिला मुख्यालयों पर मतगणना करवाई जाएगी।

चुनाव कार्यक्रम की घोषणा के साथ ही इन सभी छह जिला भरतपुर, दौसा, जयपुर, जोधपुर, सवाईमाधोपुर एवं सिरोही के जिला परिषद एवं पंचायत समिति निर्वाचन क्षेत्रों में आदर्श आचरण संहिता के प्रावधान तुरन्त प्रभाव से लागू हो गए हैं, जो चुनाव प्रक्रिया समाप्ति तक लागू रहेंगे।

मेहरा ने बताया कि चुनाव प्रक्रिया में सम्मिलित इन छह जिलों में कुल 77 लाख 94 हजार तीन सौ मतदाता पंजीकृत हैं, जिनमें से 41 लाख 23 हजार 30 पुरुष, 36 लाख 71 हजार 246 महिलाएं तथा 24 अन्य मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे। उन्होंने बताया कि छह जिलों के 200 जिला परिषद सदस्य, 1564 पंचायत समिति सदस्य, छह जिला प्रमुख, उप जिला प्रमुख एवं 78 प्रधान, उप प्रधानों के लिए चुनाव होना है।

उन्होंने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए सब प्रकार की चुनावी रैली, आम सभाओं पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। उम्मीदवार केवल पांच समर्थकों के साथ घर-घर जाकर जनसंपर्क कर सकेंगे।

उन्होंने कहा कि वर्तमान हालात को देखते हुए मतदान के समय में बढ़ोतरी करते हुए मतदान का समय प्रातः 7.30 बजे से शाम 5.30 बजे तय किया गया है। इसके साथ ही नाम निर्देशन पत्रों को प्रस्तुत करने के लिए भी उम्मीदवार को एक दिन अतिरिक्त दिया गया है, ताकि भीड़ से बचते हुए आवेदन किया जा सके।

चुनाव आयुक्त ने बताया कि तीनों चरणों के चुनाव के लिए 11 अगस्त को अधिसूचना जारी होगी। नाम निर्देशन पत्र 16 अगस्त तीन बजे तक प्रस्तुत किए जा सकेंगे। नाम निर्देशन पत्रों की संवीक्षा 17 अगस्त को की जाएगी, जबकि 18 अगस्त अपरान्ह तीन बजे तक नाम वापस लिए जा सकेंगे। नाम वापसी के तुरंत बाद चुनाव प्रतीकों का आवंटन एवं चुनाव लड़ने वाले अभ्यर्थियों की सूची का प्रकाशन कर दिया जाएगा।

उन्होंने बताया कि प्रमुख, प्रधान का चुनाव छह सितंबर (सोमवार) को जबकि उप प्रमुख, उप प्रधान का चुनाव सात सितंबर (मंगलवार) को होगा। उन्होंने बताया कि मतदान, मतगणना एवं अन्य कार्य के लिए समस्त चरणों के लिए लगभग 65 हजार कार्मिकों का नियोजन किया जाएगा।