खेतों से लेकर मंडी तक किसानों की खुशहाली के लिए किया काम : वसुंधरा राजे

rajasthan gaurav yatra 2018 : CM Vasundhara Raje addressing at sadulshahar in ganganagar
rajasthan gaurav yatra 2018 : CM Vasundhara Raje addressing at sadulshahar in ganganagar

सादुलशहर (गंगानगर)। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि हमारी सरकार ने किसानों की बेहतरी के लिए खेतों से लेकर मंडी तक काम किया है।

राजे ने शनिवार को गौरव यात्रा के तहत गंगानगर जिले के लालगढ़ जाटान और सादुलशहर में आमसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि हमारे किसान भाई अपनी मेहनत से राज्य का नाम पूरे देश में रोशन कर रहे हैं। लिहाजा उनकी खुशहाली हमारी जिम्मेदारी है।

उन्होंने कहा कि सरकार ने खेत से लेकर मंडी तक किसानों को राहत देने में कोई कसर नहीं छोड़ी। उन्होंने कहा कि सरकार ने नहरी तंत्र को सुदृढ़ करके अंतिम छोर तक के खेतों तक तक पानी पहुंचाने का प्रयास किया। इन प्रयासों से इंदिरा गांधी नहर तथा गंगनहर क्षेत्र में दो लाख 30 हजार हैक्टेयर से अधिक भूमि पर सिंचाई की सुविधा मुहैया हुई है।

राजे ने कहा कि 200 करोड़ रूपए की लागत से गंगनहर में नहर के किनारों की मरम्मत का काम पूरा होने के बाद से 91 हजार 510 हैक्टेयर भूमि में अतिरिक्त सिंचाई की सुविधा उपलब्ध हुई है। इसी प्रकार 290 करोड़ रूपए की लागत से इस क्षेत्र में 467 पक्के खालों के निर्माण किया गया इससे एक लाख 18 हजार हैक्टेयर से अधिक भूमि सिंचित होगी।

उन्होंने कहा कि 51 करोड़ रूपए की लागत से भांखड़ा नांगल परियोजना में 86 पक्के खालों के निर्माण से 25 हजार 943 हैक्टेयर भूमि को लाभ मिला है। इसके अलावा भी बीएडीपी, एमजेएसए एवं मनरेगा में भी पक्के खालों के निर्माण से पांच हजार हैक्टेयर भूमि को लाभ मिला है।

राजे ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गंगानगर जिले के सूरतगढ़ से ही मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना शुरू की थी जो आज किसानों के लिए वरदान बन गई है। इस योजना से गंगानगर में करीब तीन लाख किसानों को लाभ मिला है।

उन्होंने कहा कि पहले 50 प्रतिशत फसल खराबे पर ही किसानों को मुआवजा मिलता था। हमारी मांग पर केन्द्र सरकार ने पूरे देश में अब 33 प्रतिशत खराबे पर मुआवजे का प्रावधान किया है। जिसका लाभ राज्य के लाखों किसानों को मिला। किसानों का ऋण माफ किया गया, उनके लिए बिजली की दरें नहीं बढ़ाई गईं, और उन्हें सस्ती बिजली मुहैया कराने के लिए 33 हजार करोड़ रूपए की सब्सिडी दी गई।

उन्होंने कहा कि राज्य में पहली बार 30 लाख किसानों को राहत देते हुए नौ हजार करोड़ रूपए का कर्जा माफ किया गया। सादुलशहर विधानसभा क्षेत्र में 50 करोड़ सहित पूरे गंगानगर जिले में 370 करोड़ रूपए का कृषि ऋण माफ किया गया। इस साल के अंत तक किसानों को सहकारी बैंकों के माध्यम से 80 हजार करोड़ रूपये तक का कृषि ऋण मुहैया करा दिया जाएगा।

राजे ने कहा कि गंगानगर में 90 जनता जल योजनाएं पुनः शुरू करवाकर पंचायतों को सौंप दी गईं हैं। शेष 130 जनता जल योजनाएं शुरू करने के लिए राशि स्वीकृत कर दी गई है। उन्होंने कहा कि ततासर गांव में तीन करोड़ 30 लाख रूपए की लागत से लागू की गई पेयजल योजना से पांच गांवों को लाभ मिलेगा। गंगानगर और सादुलशहर में सड़कों के विकास के लिए 20 करोड़ रूपये की राशि स्वीकृत की गई है।

सादुलशहर के विकास के लिए धन की कमी नहीं है, और जरूरत पड़ने पर और राशि स्वीकृत की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्थानीय खेल प्रतिभाओं को निखारने के लिए लालगढ़ जाटान में जल्द ही हैंडबॉल एकेडमी खोली जाएगी। इससे यहां के हैंडबॉल खिलाड़ियों को आगे बढ़ने के अवसर मिलेंगे और नए खिलाड़ी तैयार होंगे।

इससे पहले राजे ने गंगानगर में दिव्यांग बच्चों से मुलाकात की। इस अवसर पर नगरीय विकास मंत्री श्रीचंद कृपलानी, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री बाबूलाल वर्मा, खान राज्य मंत्री सुरेन्द्र पाल सिंह, पंचायतीराज एवं ग्रामीण विकास राज्यमंत्री धनसिंह रावत, सांसद निहाल चंद, विधायक और पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी, गुरजंट सिंह और अन्य जनप्रतिनिधि मौजूद थे।