कांग्रेस के चिन्ह पर जीतने वाले विधायक सरकार के साथ खड़े हों : अशोक गहलोत

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलाेत ने बागी विधायकों से कहा है कि वे कांग्रेस के चुनाव चिन्ह पर जीते हैं, लिहाजा उन्हें राज्य सरकार के साथ खड़े होना चाहिए।

गहलोत ने गुरुवार को जारी बयान में कहा कि विधायकदल की बैठक तो लगातार होती रहती है, दुर्भाग्यवश हमारे जो साथी गुड़गांव के मानेसर में बैठे हैं उन्हें सरकार का साथ देना चाहिए। सबको पता है कि राज्य में किस प्रकार का राजनीतिक माहौल बना हुआ है। ऐसे वक्त में जो कांग्रेस के चुनाव चिन्ह पर जीतकर आए हैं, वे लोग अलग जाकर बैठ जाएं, यह उचित नहीं है।

उन्होंने कहा कि अगर कोई नाराजगी है तो वे अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी, 24 अकबर रोड में आकर बात करते, पर इतने दिनों से वे वहां बैठे हुए हैं, उन्हें बैठकों में आना चाहिए। उन्होंने कहा कि विधानसभा का सत्र बुला लिया गया है, लिहाजा उनका कर्तव्य है कि वे भाजपा की गोद में न खेलकर जनता को सरकार के साथ में खड़े दिखें।

उन्हाेंने कहा कि यह पूरी तरह बीजेपी की तैयारियां हैं, बीजेपी ने वहां पर इंतजाम किए हुए हैं, उन्हीं की पुलिस है, उन्हीं के घेरे में वे बंद हैं, वहां कोई आना चाहे तो नहीं आ सकता है। गहलोत ने कहा कि यह पूरा खेल भाजपा का है। क्योंकि वहां एसओजी जाती है तो वहां उन्हें प्रवेश नहीं करने दिया जाता। भाजपा को जनता कभी माफ नहीं करेगी।

उन्होंने कहा कि भाजपा को चाहिए कि सरकार गिराने के इरादा छोड़े क्योंकि इससे लोकतंत्र कमजोर होगा। जनता के जीवन को बचाना है, उसके लिए सबको लगना चाहिए। जनता का जीवन कैसे बचे। विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट आ रही है जो बहुत ही गंभीर है। आने वाले वक्त में कोरोना बहुत ज्यादा फैल सकता है, हमें उसकी चिंता है, इसलिए मैं रोज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग करता हूं। अभी परसों ही 350 करोड़ रुपए गरीबों के खातों में डाले हैं, तमाम तरह की दवाइयां महंगी हैं, मैंने कहा- गरीब से गरीब आदमी का इलाज भी पूरा होना चाहिए और दूसरी तरफ हमारी सरकार को गिराने के लिए ही षड्यंत्र हो रहे हैं।

गहलोत ने कहा कि उन्होंने खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काे टेलीफोन किया करके उन्हें राजस्थान की स्थिति से अगवत कराया। उन्होंने कहा कि उन्हें खुशी है कि राज्यपाल ने उनकी बात को मानते हुए सत्र बुलाया है। अगर 21 दिन देंगे तो खरीद फरोख्त बढ़ेगी, यह पूरा खेल देरी करने का इसलिए होता है, क्योंकि भाजपा ने खरीद फरोख्त करने का ठेका ले रखा है।

हमारी खुद की पार्टी के कुछ नेताओं ने ठेका ले रखा था, उनके जरिए खरीद फरोख्त हुई जो सबको मालूम है। इरादे क्या हैं सबको मालूम है, कई लोग कहते हैं हम बीजेपी में नहीं जाएंगे, बीजेपी में नहीं जाओगे तो थर्ड मोर्चा बनाओ। स्पष्ट है कि आप कांग्रेस छोड़ रहे हो।

गहलोत ने कहा कि कानून उसके लिए क्या कहता है। उच्चतम न्यायालय का फैसला क्या है सबको मालूम है कि कोई व्यक्ति अगर पार्टी छोड़ना चाहता है तो उसके लिए क्या प्रावधान हैं। फिर भी कानून की लड़ाई लड़कर आप विलम्ब करवा रहे हो, तो मैं समझता हूं के ये तमाम चीजों से जनता भलीभांति अवगत है। उन्होंने कहा कि कर्नाटक, मध्यप्रदेश के बाद जिस रूप में राजस्थान में हमला किया गया है, राजस्थान में उनको मुंह की खानी पड़ेगी और यहां हमारी एकजुटता है, लिहाजा हमारी सरकार पूरे पांच साल तक चलेगी।