रावत-राजपूत महासभा के तीन दिवसीय मेवाड़ मंथन शिविर का समापन

उदयपुर/राजसमंद। राजस्थान रावत-राजपूत महासभा का प्रदेश स्तरीय त्रिदिवसीय मंथन शिविर का सोमवार को सोहम विला हेरिटेज व्यू में समापन हुआ।

महासभा के प्रदेशाध्यक्ष नाथू सिंह चौहान घाटा की अध्यक्षता तथा संरक्षक मंडल सदस्य एवं पूर्व प्रदेशाध्यक्ष एडवोकेट नंदकिशोरसिंह चौहान के सान्निध्य में हुए शिविर के दौरान रावत-राजपूत महासभा भवन उदयपुर में महासभा पदाधिकारियों का भव्य स्वागत किया गया।

महासभा प्रदेश कार्यकारिणी का विस्तार करते हुए डॉ विक्रमपाल सिंह काछबली को प्रदेश महामंत्री तथा नव मनोनीत प्रदेश जनरल ऑडिटर नारायण सिंह आपावत को नियुक्ति पत्र सौपा गया।नरेंद्र सिंह बामनहेड़ा को नवयुवक मंडल का प्रदेश संयोजक बनाया गया।

प्रदेश जनरल ऑडिटर नारायण सिंह आपावत ने समाज को विकास पथ पर ले जाने के लिए एकजुटता से रहने, संगठन विस्तार में सभी को जोड़े रखने की बात कही। प्रदेशाध्यक्ष नाथूसिंह घाटा ने मंथन शिविर में कहा कि महासभा कार्यकारिणी विस्तार में क्षेत्र व गौत्रीय संतुलन के साथ सक्रिय समाजसेवियों को प्राथमिकता रहेगी। उन्होंने जमीनी परिप्रेक्ष के साथ हाईटेक महासभा बनाने का आह्वान किया। आगामी मंथन शिविर जम्मू कश्मीर में रखने हेतु सहमति बनी।

इस अवसर पर मुख्य चुनाव अधिकारी एडवोकेट टीकम सिंह चौहान, प्रदेश प्रवक्ता जसवंत सिंह मण्डावर, पूर्व प्रदेश वरिष्ठ महामंत्री संतोष सिंह थुनीथाक, प्रदेश उपाध्यक्ष नारायण सिंह सेंदड़ा, मनोज सिंह ककेडिया, सुरजीत सिंह काछबली, मनोहर सिंह फुलाद, किशन सिंह कलालिया, राजेन्द्र सिंह मण्डावर, विमल सिंह कानियाना आदि उपस्थित थे। संचालन प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष मोहन सिंह भूरियाखेड़ा ने किया। आभार प्रदेश महामंत्री डॉ विक्रमपाल सिंह ने जताया।