54 अरब राम नाम महामंत्रों की परिक्रमा संग कला का संगम

ram naam maha mantra parikrama mahatva 20017-18 at azad park ajmer
ram naam maha mantra parikrama mahatva 20017-18 at azad park ajmer

अजमेर। आजाद पार्क में बनाई गई अयोध्या नगरी में श्रीराम नाम महामंत्रों की परिक्रमा के दूसरे दिन सोमवार को भी हजारों श्रद्धालुओं ने परिक्रमा के साथ भक्ति और आध्यात्म का आनंद लिया। सुबह 6:15 बजे प्रभातफेरी के बाद विधिवत परिक्रमा प्रारंभ हो गई। देर शाम तक रामभक्त ने आध्यात्म की गंगा में गोते लगाते रहे।

परिक्रमा महोत्सव के दूसरे दिन भक्तों ने संत कृष्णानन्द महाराज के प्रवचनों का भक्तिपूर्ण माहौल में श्रवण किया। महाराज ने भगवान राम की महिमा बताते हुए कहा कि जिसे हम भगवान मानकर पाने के जतन करते रहते हैं वह राम तो हर जगह विध्मान है।

भगवान कभी खोता नहीं, वह गुम होने वाली वस्तु नहीं है जिसे ढूंढा जाए, यह जीव यानी मानव है जो खुद संसार की माया में खो जाता है। मनुष्य यदि खुद को पहचान ले तो समझों उसने प्रभु को पा लिया। राम को पाने के यूं तो कई तरीके हैं, इनमें सबसे सरल मार्ग उसकी भक्ति करना है। भगवान के भक्त बन जाओं तो समझो उसे पाने की आधी दूरी तय हो गई।

महाराज ने कहा कि परमात्मा को पाने के लिए ही यह मानव शरीर मिला है। हर सांस में राम, सूर्य के प्रकाश में राम, धरा में राम, आकाश में राम, हर जगह राम ही बसा है। बस, भक्त एक बार सच्चे मन से आहवान तो करें, प्रभु प्रकट हो जाएंगे।

उन्होंने एक प्रसंग का उदाहरण देते हुए कहा कि भगवान राम की एक खूबी यह रही है कि उनके भक्त को उनके पास नहीं जाना पडता, वे खुद भक्त तक पहुंचते हैं। राम के जीवन चरित्र के अध्ययन से पता चलता है कि जिस जगह और जहां कहीं भक्त ने उन्हें याद किया वे खुद उस जगह पहुंचे हैं। महाराज ने कहा कि अजमेर के लोगों का सौभाग्य है कि सबकों यहां भगवान राम के 54 अरब हस्तलिखित नाम की परिक्रमा करने का अवसर मिला है। यहां तो राम 54 अरब स्वरूपों में साक्षत विराजित हैं।

सहसंयोजक उमेश गर्ग ने बताया कि श्रीराम नाम महामंत्र परिक्रमा समारोह समिति के तत्वावधान और श्री मानव मंगल सेवा न्यास व श्रीराम नाम धन संग्रह बैंक के सहयोग से आजाद पार्क में परिक्रमा का आयोजन 15 जनवरी तक रहेगा। परिक्रमा के दौरान भक्तजन सुन्दरकाण्ड पाठ और संतजनों के प्रवचन भी प्रतिदिन होंगे। इस दौरान भक्तजन श्रीराम नाम के हस्तलिखित महामंत्रों की परिक्रमा का लाभ ले सकेंगे।

खास बात यह है कि इस बार 54 अरब हस्तलिखित राम नाम महामंत्रों की महापरिक्रमा का अवसर मिल रहा है। परिक्रमा स्थल पर ही भारत स्वाभिमान ट्रस्ट व पतंजलि योग समिति के तत्वावधान में सुबह 6 बजे से 7ः30 बजे तक निशुल्क योग और प्राणायाम कराया जा रहा है।

सोमवार मध्यान्ह 2ः30 बजे श्री पवनपुत्र मानस मण्डल के लखन सिंह भाटी व साथियों की ओर से सुन्दरकाण्ड पाठ की संगीतमय प्रस्तुति दी गई। इसके पश्चात संत कृष्णानन्द महाराज ने अपने प्रवचनों से श्रृद्धालुओं को निहाल किया। प्रवचनों पश्चात समाज में उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवी अतुल दुबे और स्वास्थ्य सेवाएं देने वाले पूरण सिंह चौहान का सम्मान किया गया।

महाआरती के दौरान रामनाम बैंक के संस्थापक बालकृष्ण पुरोहित, सहसंयोजक कंवल प्रकाश किशनानी, महेन्द्र जैन मित्तल, समिति के सुरेश शर्मा, शिवरतन वैष्णव, विनीत लोहिया समेत बडी संख्या में गणमान्य लोग मौजूद रहे।

महाआरती के बाद विविधा-अजमेर कत्थक कला केन्द्र की दृष्टि रॉय व साथियों द्वारा भगवान राम को समर्पित नृत्य नाटिका की मनमोहक प्रस्तुति दी गई। इस अवसर पर कार्यक्रम में राजेश सोनी, गोकुल धाम की कनोडिया यजमान रहे। मंच संचालन वृतिका शर्मा ने किया।

मंगलवार 2 जनवरी के  कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे पुष्पा जयसवाल व साथियों की ओर से सुन्दरकाण्ड पाठ की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5ः30 बजे गनाहेड़ा पुष्कर के दिव्य मुरारी बापू प्रवचन करेंगे। इस दौरान उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों आदि सम्मान किया जाएगा तथा महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे भगवान राम को समर्पित आप और हम व नाट्यवृन्द संस्था द्वारा नाट्य मंचन होगा साथ ही इस्कॉन मंदिर की ओर से संकीर्तन की प्रस्तुति दी जाएगी। इस अवसर पर कार्यक्रम में रमेश मोटवानी, सुमित खेतावत, आनन्द प्रकाश अरोड़ा, गोपाल शशि गुप्ता और हनुमान श्रेया यजमान रहेंगे।

बुधवार 3 जनवरी के कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे राधे सर्वेश्वर मण्डल के पुष्पा, मुकेश व साथियों की ओर से सुन्दरकाण्ड पाठ होगा। शाम 5ः30 बजे राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के क्षेत्रीय कार्यवाह हनुमान सिंह राठौड़ उद्बोधन से श्रृद्धालुओं को निहाल करेंगे। उद्बोधन के बाद उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों आदि का सम्मान किया जाएगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे भगवान राम को समर्पित वृंदगान में डॉ. नासिर मदनी व उनके शिष्य द्वारा प्रस्तुति दी जाएगी। इस कार्यक्रम में महेन्द्र जैन मित्तल, अशोक कुमार टांक, धर्मेश जैन और जगदीश भाटिया यजमान रहेंगे।

गुरूवार 4 जनवरी के कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे अमृतवाणी मानस मण्डल की लता तायल व साथियों की ओर से सुन्दरकाण्ड पाठ की संकीर्तन की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5 बजे हित रस धारा हिंसार के हित अम्बरीश महाराज के प्रवचन होंगे। महाआरती के पश्चात शाम 7ः30 बजे भगवान राम को समर्पित भजनामृत गंगा में गोविन्द माहेश्वरी, गिरीराज मित्र मण्डल परिवार (एलन केरियर इंस्टीट्युट) कोटा द्वारा सुंदर भजनों की प्रस्तुति दी जाएगी।

शुक्रवार 5 जनवरी के कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे श्री कृपालु मानस मण्डल के सम्भाजी व साथियों द्वारा सुन्दरकाण्ड पाठ होगा। शाम 5ः30 बजे राजगढ़ भैरवधाम के मुख्य उपासक चम्पालाल महाराज प्रवचनों से श्रृद्धालुओं को निहाल करेंगे। इसके बाद उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों आदि का सम्मान होगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे भगवान राम को समर्पित स्वराजंलि में आरोहम – गंधर्व महाविद्यालय के आनन्द वैद्य प्रस्तुति देंगे। इस कार्यक्रम में पूरनचन्द अनिल राजकुमार गर्ग, अशोक मुकेश शिवराज विजय, तारा देवी साहू और मनोज नानकानी यजमान रहेंगे।

शनिवार 6 जनवरी के कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे गणेश मानस मण्डल के कैलाश शर्मा व साथियों द्वारा सुन्दरकाण्ड पाठ की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5ः30 बजे चित्रकुट धाम पुष्कर के पाठकजी महाराज के प्रवचन होंगे। इसके बाद समाजसेवियों सहित अन्य का सम्मान किया जाएगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे भगवान राम को समर्पित ‘एक शाम राम के नाम’ कार्यक्रम की प्रस्तुति दी जाएगी। इस कार्यक्रम में सीताराम बंसल, कृष्ण अवतार बंसाली, सुरेन्द्र कुमार, अजय वर्मा और गोविन्द खटवानी यजमान रहेंगे।

रविवार 7 जनवरी के कार्यक्रम

सुबह 9 बजे गायत्री परिवार की ओर से गायत्री यज्ञ का आयोजन किया जाएगा। मध्यान्ह 2ः30 बजे श्री श्याम शरणागत मण्डल के डॉ. स्वतंत्र शर्मा व साथियों द्वारा सुन्दरकाण्ड पाठ की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5ः30 बजे विश्व हिन्दू परिषद के केन्द्रीय मंत्री उमाशंकर का उद्बोधन होगा। उद्बोधन समाज में उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों आदि सम्मान ​किया जाएगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे पं. रामलाल माथुर संगीत महाविद्यालय और कला अंकुर संस्थान की ओर से भगवान राम को समर्पित ‘सुर सरिता’ कार्यक्रम की प्रस्तुति दी जाएगी। इस कार्यक्रम में डॉ. कमला गोखरू, अमित, कैलाशचन्द खण्डेलवाल, दीपा नारीभाई टिक्यानी और गोपाल शर्मा चोयल यजमान रहेंगे।

सोमवार 8 जनवरी के कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे श्रीराम मानस मण्डल के देवेन्द्र कुमार झा व साथियों द्वारा सुन्दरकाण्ड पाठ की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5ः30 बजे संन्यास आश्रम के अधिष्ठाता स्वामी शिवज्योतिषानन्द महाराज प्रवचनों से श्रृद्धालुओं को निहाल करेंगे। इसके बाद उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों आदि सम्मान होगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे भगवान राम को समर्पित कवि सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा। कवि सम्मेलन में भीलवाड़ा से वीर रस के कवि योगेन्द्र शर्मा, कवि डॉ. वृजेश माथुर, प्रदीप गुप्ता, अशोक पंसारी, अमिता टंडन, पूजा गौड़ और मुस्कान कोटवानी अपनी कविताओं से माहौल को भक्तिमय बनाएंगे। इस अवसर पर कार्यक्रम में एडवोकेट बबिता टांक, कन्हैयालाल, हरीश शर्मा और किशन हरवानी यजमान रहेंगे।

मंगलवार 9 जनवरी के  कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे जय अम्बे महिला मण्डल के अनिता नरचल व साथियों द्वारा सुन्दरकाण्ड पाठ की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5ः30 बजे रामनिवास धाम भीलवाड़ा के जगदगुरू श्री रामदयाल महाराज के प्रवचन होंगे। इसके बाद समाजसेवियों सहित अन्य का सम्मान किया जाएगा।महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे भगवान राम को समर्पित श्री सर्वेश्वर संकीर्तन मण्डल द्वारा ‘एक शाम किशोरी जी के नाम’ में अशोक तोषनीवाल अपनी प्रस्तुति देंगे। इस कार्यक्रम में शंकरलाल बंसल, शिवशंकर फतेहपुरिया, रमाकान्त बाल्दी और राधेश्याम गर्ग यजमान रहेंगे।

बुधवार 10 जनवरी के कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे तुलसी जयंती समारोह समिति की उषा गुप्ता व साथियों की ओर से सुन्दरकाण्ड पाठ होगा। शाम 5ः30 बजे वैशाली नगर स्थित प्रेमप्रकाश आश्रम के ओमप्रकाश शास्त्री प्रवचनों से श्रृद्धालुओं को निहाल करेंगे। इसके बाद उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों आदि का सम्मान होगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे तानसेन संगीत महाविद्यालय की ओर से भगवान राम को समर्पित ‘इन्द्रधनुष’ कार्यक्रम की प्रस्तुति दी जाएगी। इस कार्यक्रम में विजय गुप्ता, सरदारमल जैन, जितेन्द्र खण्डेलवाल, राधाकिशन आहूजा और रमेश चेलानी यजमान रहेंगे।

गुरूवार 11 जनवरी के  कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे श्रीकांत जांगिड़ व साथियों की ओर से सुन्दरकाण्ड पाठ की संगीतमय प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5ः30 बजे ‘श्री राम जय राम जय जय राम’ का सामूहिक पाठ होगा। इसके बाद समाजसेवीयों सहित अन्य का सम्मान किया जाएगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे किशनगढ़ की फ्यूजन एकेडमी की ओर से भगवान राम को समर्पित ‘नवांकुर’ कार्यक्रम की प्रस्तुति दी जाएगी। इस कार्यक्रम में गिरधारी मंगल, कैलाश डीडवानिया, चेतनराज सर्राफ और अनिष मोयल यजमान रहेंगे।

शुक्रवार 12 जनवरी के कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे समस्त मानस मण्डल के आचार्य संतोष नाथ व साथियों की ओर से सुन्दरकाण्ड पाठ की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5ः30 बजे ‘श्री राम जय राम जय जय राम’ की प्रस्तुति दी जाएगी। इसके बाद समाज में उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों सहित अन्य का सम्मान किया जाएगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे कत्थक कला केन्द्र निदेशक नृत्यांगन स्मिता भार्गव भगवान राम को समर्पित ‘नृत्याजंलि’ कार्यक्रम की प्रस्तुति देंगी। इस अवसर पर कार्यक्रम में प्रवीण कुमार जैन, गोपाल गोयल कांच वाले, पवन फतेहपुरिया और तेजेश देवेश्वर प्रसाद गुप्ता यजमान रहेंगे।

शनिवार 13 जनवरी के कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे श्रीराम राज्य मण्डल व साथियों द्वारा सुन्दरकाण्ड पाठ की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5ः30 बजे श्री शांतानन्द उदासीन आश्रम पुष्कर के महंत हनुमानराम उदासीन महाराज प्रवचनों से श्रृद्धालुओं को निहाल करेंगे। इसके बाद उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों आदि का सम्मान किया जाएगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे सप्तक परिवार द्वारा भगवान राम को समर्पित ‘वन्देमातरम्’ कार्यक्रम की प्रस्तुति दी जाएगी। इस कार्यक्रम में ओम प्रकाश मंगल, किशनचन्द बंसल, विष्णु प्रकाश गर्ग और गौरांग किशनानी यजमान रहेंगे।

रविवार 14 जनवरी के कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे रामानुज संकीर्तन मण्डल के लक्ष्मण पण्डित व साथियों की ओर से सुन्दरकाण्ड पाठ की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5ः30 बजे उदयपुर के पुष्करदास महाराज प्रवचन करेंगे। इसके बाद उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों आदि का सम्मान होगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे संस्कृति द स्कूल और निनाद संगीत अकादमी द्वारा भगवान राम को समर्पित ‘उद्भव’ कार्यक्रम की प्रस्तुति दी जाएगी। इस कार्यक्रम में अशोक पंसारी, श्याम बंसल, गोकुल अग्रवाल, अनिल गर्ग और सुरेश चारभुजा यजमान रहेंगे।

परिक्रमा में इनका भी मिलेगा सान्निध्य

54 अरब हस्त लिखित रामनाम महामंत्रों की महापरिक्रमा के दौरान सलेमाबाद निम्बार्कपीठ श्रीश्री निम्बार्क पीठाधीश्वर जगदगुरू श्री श्यामशरण देवाचार्य महाराज, पाली स्थित जाडन आश्रम शिक्षा एवं शोध संस्थान ओम श्री अलखपुर जी सिद्धपीठ परम्परा के पीठाधीश्वर विश्वगुरू स्वामी महेश्वरानन्दपुरी महाराज, रेवसापीठ के पीठाधीश स्वामी राघवाचार्य महाराज और जोधपुर के गोवत्स राधाकिशन महाराज का श्रृद्धालुओं को आशीर्वाद और सान्निध्य प्राप्त होगा।

15 जनवरी को होगा परिक्रमा विश्राम

54 अरब हस्तलिखित रामनाम महामंत्रों की महापरिक्रमा का समापन सोमवार 15 जनवरी को पूर्णाहूति के साथ होगा। कार्यक्रम में मध्यान्ह 3 बजे से शाम 6 बजे तक अयोध्या नगरी (आजाद पार्क) में मुख्य वक्ता बद्रीकाश्रम पीठ के जगदगुरू शंकराचार्य श्री स्वरूपानन्द महाराज के कृपा पात्र शिष्य स्वामी प्रज्ञानन्द महाराज रहेंगे। वे परिक्रमा में पधारे सभी श्रृद्धालुओं को प्रवचन करेंगे। इस अवसर पर राष्ट्र की सुरक्षा में तैनात सजग प्रहरियों के नाम 45 मिनट तक महामंत्र श्री राम जय जय राम का अखण्ड सामूहिक जाप किया जाएगा। समापन समारोह और पूर्णाहूति के यजमान रमेश चन्द्र अग्रवाल, अखिलेश गोयल और कुणाल जैन रहेंगे।