राष्ट्रमंडल खेलों में रानी को भारतीय हॉकी टीम की कमान

Rani commands Indian team in Commonwealth Games
Rani commands Indian team in Commonwealth Games

SABGURU NEWS नई दिल्ली। अनुभवी स्ट्राइकर रानी चार अप्रेल से आस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में शुरू होने जा रहे राष्ट्रमंडल खेलों में 18 सदस्यीय भारतीय सीनियर महिला हॉकी टीम की कप्तानी करेंगी जबकि गोलकीपर सविता को टीम का उपकप्तान बनाया गया है।

हॉकी इंडिया (एचआई) ने बुधवार को राष्ट्रमंडल खेलों के लिए 18 सदस्यीय टीम की घोषणा की। भारत को टूर्नामेंट के पूल ए में रखा गया है जहां उसके साथ मलेशिया, वेल्स, इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका अन्य मजबूत टीमें शामिल हैं। भारतीय महिलाएं पांच अप्रेल को वेल्स के खिलाफ अपने अभियान की शुरूआत करेंगी।

भारतीय टीम की कप्तानी स्ट्राइकर रानी को सौंपी गई है जबकि गाेलकीपर सविता के कंधाें पर उपकप्तानी का जिम्मा रहेगा जाे दक्षिण काेरिया दाैरे में अाराम के बाद टीम में लाैट रही हैं। गाेलकीपराें में सविता के अलावा रजनी इतिमारपू पर भी पाेस्ट संभालने का जिम्मा रहेगा।

रक्षापंक्ति में अनुभवी दीपिका, सुनीता लाकड़ा, दीप ग्रेस एका, गुरजीत कौर और सुशीला चानू पुखरमबम मोर्चा संभालेंगी जबकि मोनिका, नमिता, लिलिमा मिंज को मिडफील्ड संभालने की जिम्मेदारी दी गयी है। दक्षिण अफ्रीका दौरे से लौट रहीं रानी, वंदना कटारिया, पूनम रानी विपक्षी टीमों पर हमला करेंगी।

विश्व में 10वें नंबर की टीम भारत को हालांकि टूर्नामेंट में अपने से शीर्ष रैंक वाली टीमों की चुनौती का सामना करना होगा। विश्व की दूसरे नंबर की इंग्लैंड, चौथे नंबर की न्यूजीलैंड और पांचवें नंबर की आस्ट्रेलिया उसके सामने होंगी। हालांकि कोच हरेंद्र सिंह ने उम्मीद जताई है कि दक्षिण कोरिया में पांच मैचों की सीरीज़ जीतकर लौटी भारतीय टीम के हौंसले काफी बुलंद हैं और वह गोल्ड कोस्ट में अच्छा प्रदर्शन करेगी।

जूनियर पुरूष विश्व विजेता टीम के कोच हरेंद्र ने कहा कि हम इन्हीं खिलाड़ियों के साथ काफी लंबे समय से खेलते आ रहे हैं और 2017 में एशिया कप में हमारी जीत से साफ है कि टीम में काफी एकजुटता है और खिलाड़ियों में अच्छा समन्वय है। टीम ने दक्षिण कोरिया में भी अच्छा प्रदर्शन किया है जो उससे ऊंची रैंक की टीम थी। हमारा मनोबल काफी ऊंचा है और हम गोल्ड कोस्ट में पोडियम फिनिश के लक्ष्य के साथ जा रहे हैं।

टीम में अनुभवी गोलकीपर सविता को शामिल करने पर खुशी जताते हुए कोच ने कहा कि महिला खिलाड़ी अभी ओमान में गोलकीपिंग की ट्रेनिंग कर रही हैं। उन्होंने कहा कि सविता टीम का अभिन्न हिस्सा हैं और गोलपोस्ट पर उनका अनुभव हमारे लिये बहुत अहम है। सविता ने देश के लिये 200 मैच खेले हैं और बड़े टूर्नामेंटों में उनका प्रदर्शन काफी उपयोगी रहा है। इसलिये हमें उनकी वापसी से बहुत खुशी है।

भारतीय महिला हॉकी टीम ने वर्ष 2002 में हुए राष्ट्रमंडल खेलों में इंग्लैंड को 3-2 से हराकर स्वर्ण पदक जीता था जबकि 2006 में आस्ट्रेलिया से फाइनल में हारकर रजत पदक जीता था। लेकिन इसके बाद वर्ष 2010 और 2014 में टीम का प्रदर्शन खास नहीं रहा और वह पांचवें पायदान तथा क्रमश: क्वार्टरफाइनल तक ही पहुंची।

लेकिन कप्तान रानी ने भरोसा जताया है कि टीम 2002 और 2006 के प्रदर्शन को दोहरा पाएगी। 23 वर्षीय खिलाड़ी ने कहा कि हम कोरिया से जीतने के बाद अच्छी लय में आस्ट्रेलिया जा रहे हैं। हमने भले ही पिछले दो संस्करणों में अच्छा प्रदर्शन नहीं किया लेकिन इस बार हम पोडियम फिनिश करेंगे। टीम में अच्छे खिलाड़ी हैं।

टीम इस प्रकार है-

गोलकीपर- सविता (उपकप्तान), रजनी इतिमारपू।
डिफेंडर- दीपिका, सुनीता लाकड़ा, दीप ग्रेस एका, गुरजीत कौर, सुशीला चानू पुखरमबम।
मिडफील्डर- मोनिका, नमिता टोपो, निक्की प्रधान, नेहा गोयल, लिलिमा मिंज।
फारवर्ड- रानी (कप्तान), वंदना कटारिया, लालरेमसियामी, नवजोत कौर, नवनीत कौर, पूनम रानी।