राष्ट्रीय कवि संगम : श्रीराम काव्यपाठ राष्ट्रीय प्रतियोगिता का श्रीगणेश

अजमेर। राष्ट्रीय कवि संगम अजमेर की ओर से श्रीराम काव्यपाठ राष्ट्रीय प्रतियोगिता का श्रीगणेश रविवार को ऑनलाइन मां सरस्वती व राम दरबार के समक्ष दीप प्रज्जवलन के साथ हुआ।

डॉ. पूनम पांडे ने सरस्वती वंदना जाऊं तोरे चरण कमल पर वारी…कार्यक्रम का आगाज किया। अंशिता शर्मा ने भगवान राम पर आधारित गीत पायो जी मैने राम रतन धन पायो… की प्रस्तुति दी। महामंत्री नरेन्द्र कुमार भारद्वाज ने सभी निर्णायकगण व प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए प्रतियोगिता की पूर्ण जानकारी दी व इसका प्रसारण यू-ट्यूब व फेसबुक के ऑनलाइन पॉर्टल पर किया गया।

संयोजक लव गोयल जानकारी देते हुए बताया कि श्रीराम काव्य पाठ प्रतियोगिता में श्रीराम की महिमा, उदारता, शक्ति और शील सौंदर्य का वर्णन कवि, रचनाकार द्वारा लिखित कविताओं को प्रस्तुत करते हुए दीक्षा मंगलानी ने रचनाकार कवि लोकेश इंदौरा की रचना कथा एक सन्यासी की, सेवक जिसका बंजरगी वो राम वो राम है…. की औजस्वी प्रस्तुत दी।

मानमल लोढ़ा ने सारा जग है प्रेरणा, भाव सिर्फ राम है…, जगप्रकाश मंजुल ने राम राज्यीभिषेक का वर्णन करते हुए पैदल ही प्रभु चले प्रभु रामपुरी में… की प्रस्तुति दी। उर्मिला शर्मा ने राम नाम की महिमा अपार जिसने जपा है जय श्रीराम… रचना पढ़ी, प्रकाश चंद निर्दोष ने सुप्रसिद्ध कवि हरिओम पंवार की रचना की प्रस्तुति देते हुए मैं एक सौगन्ध खाता हूं राम मिलेगे मर्यादा से जीने में की प्रस्तुति दी।

संस्था के अध्यक्ष ललित कुमार शर्मा ने प्रतिभागियों व निर्णायकों को धन्यवाद देते हुए कहा कि अधिक से अधिक जुड़कर अपना कविता पाठ करें एवं नए कवि व रचनाकार अपनी प्रतिभा को जन साधारण के समक्ष लाए। सभी श्रीराम के चरणों में काव्य रूपी अपनी प्रस्तुति को अर्पित करते हुए भगवान श्रीराम का आशिर्वाद प्राप्त करें। निर्णायक सुप्रसिद्ध साहित्यकार व रचनाकार गंगाधर शर्मा, केके शर्मा ने प्रतिभागियों के उज्जवल भविष्य की कामना की।

उपाध्यक्ष कंवल प्रकाश किशनानी ने बताया कि 2 अगस्त को दोपहर 2 बजे से अन्य प्रतिभागियों को जोड़कर ऑनलाइन प्रतियोगिता जारी रहेगी। कविता में रूचि रखने वाले काव्य प्रतियोगिता में अधिक से अपना नाम, आयु, एक पासपोर्ट आकार का नवीन फोटो, घर का पता, मोबाइल और व्हाट्सएप का नम्बर संयोजक 9214435610, 9828067253, 9829083650, 9413719090 को दी जा सकती है। जिसमें किसी भी प्रकार की आयु सीमा का बंधन नहीं है।

जिले भर के 60 प्रतिभागियों ने अपनी प्रविष्टि सुनिश्चित कर ली है। जिला प्रांत व राष्ट्रीय स्तर पर चरणबद्ध प्रतियोगिता में विजेताओं को नगद पुरस्कार दिए जाएंगे व सभी प्रतिभागियों को ऑनलाइन प्रमाण पत्र देने की भी संस्था द्वारा प्रावधान किया गया है।