ऋण की किश्त चुकाने से और तीन महीने की राहत

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के कारण लॉकडाउन के मद्देनजर रिजर्व बैंक ने ऋण की किश्त चुकाने से तीन महीने की और राहत देने की घोषणा की है।

केन्द्रीय बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने मौद्रिक नीति समिति की बैठक के लिए गए निर्णयों की जानकारी देते हुए आज कहा कि कर्ज की किश्ते चुकाने में राहत को अगस्‍त तक बढ़ाने का फैसला किया गया है। पूरे देश में लॉकडाउन की अवधि 31 मई तक बढ़ाए जाने के मद्देनजर केंद्रीय बैंक ने यह निर्णय लिया है।

दास ने कहा कि रेपो दर और रिवर्स रेपो दर में 40 आधार अंकों की कमी किए जाने के साथ ही कर्ज चुकाने में भी राहत देने की अवधि बढ़ाई गई है। पहले भी तीन महीने की मई तक की छूट दी गई थी।

आरबीआई ने मार्च से लेकर मई तक सभी सावधि ऋण के भुगतान पर तीन महीने की छूट दी थी। तीन और महीनों के लिए राहत मिलने से अब अगस्त तक भुगतान करना जरूरी नहीं होगा।

रेपो दर में 40 आधार अंकों की कटाैती, ऋण सस्ते होने की उम्मीद