REET 2017 अध्यापक लेवल द्वितीय का परिणाम घोषित

अजमेर। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित अध्यापक पात्रता परीक्षा रीट-2017 लेवल द्वितीय का मंगलवार शाम को परिणाम घोषित कर दिया गया। परिणाम बोर्ड की अधिकारिक वैबसाइट  rajeduboard.rajasthan.gov.in पर देखा जा सकता है।

बोर्ड के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार उच्च न्यायालय द्वारा रीट परीक्षा के लेवल द्वितीय पेपर लीकेज मामले में दायर याचिका को खारिज कर देने के बाद बोर्ड ने इस परीक्षा का परिणाम घोषित कर दिया जिसमें दो लाख 53 हजार 239 अभ्यर्थी पात्र घोषित किए गए।

परीक्षा परिणाम 34़ 63 प्रतिशत रहा। इस परीक्षा में सात लाख 31 हजार 323 अभ्यर्थियों ने भाग लिया। इसके लिए आठ लाख चार हजार 126 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था।

परीक्षा में तीन लाख 42 हजार 140 पुरूष परीक्षार्थी प्रविष्ठ हुए, जिनमें से एक लाख 43 हजार 87 पात्र घोषित किये गये। इसी तरह परीक्षा में तीन लाख 89 हजार 283 महिला परीक्षार्थियों ने भाग लिया जिनमें एक लाख 10 हजार 152 उत्तीर्ण रहीं।

न्यायालय द्वारा याचिका खारिज किए जाने के बाद राज्य में अब शिक्षकों की 28 हजार पदों पर भर्ती का रास्ता खुल गया। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने रीट 2017 लेवर द्वितीय के परिणाम पर लगी रोक हटाने के न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि यह सरकार के साथ अभ्यर्थियों के छोटे प्रयासों की बड़ी जीत है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने तथा किए गए वादों को निभाने के लिए संकल्पित एवं प्रतिबद्ध हैं।

शिक्षा राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी ने भी न्यायालय के इस निर्णय का स्वागत करते हुए कहा कि रीट अभ्यर्थियों के लिए यह बेहद महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि इससे प्रदेश में शिक्षकों के 28 हजार पदों पर शीघ्र भर्ती हो सकेगी।

उन्हाेंने बताया कि बोर्ड द्वारा रीट का परीक्षा परिणाम जारी कर देने के साथ ही निदेशक प्रारंभिक शिक्षा द्वारा शिक्षकों के 28 हजार पदों पर भर्ती की प्रक्रिया भी प्रारंभ कर दी गई है। अध्यापक लेवल द्वितीय के 28 हजार पदों पर रीट परीक्षा 2017 में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को नियुक्ति प्रक्रिया में सम्मिलित किया जाएगा।

देवनानी ने बताया कि रीट परीक्षा 2017 का आयोजन बोर्ड द्वारा गत 11 फरवरी को किया गया था। उल्लेखनीय है कि परीक्षा के एक घंटा पहले जी सीरीज का पेपर सोशल मीडिया पर लीकेज हो जाने का मामला सामने आने के बाद कमलेश कुमार द्वारा इस संबंध में न्यायालय में याचिका दायर की गई थी और इस मामले में सुनवाई के पश्चात न्यायालय ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था जो मंगलवार को सुना दिया।