सोशल मीडिया पर तस्वीरें शेयर करने और सुंदर दिखने की होड़ से सौंदर्य उद्योग की चांदी

अहमदाबाद। सोशल मीडिया पर अपनी सेल्फी और अन्य तस्वीरें शेयर करने की बढ़ती प्रवृत्ति तथा अपने बेहतर दिखने की होड़ जैसे कारणों ने देश में सौंदर्य उद्योग को जबरदस्त उछाल दी है और पिछले मात्र 3 ही सालों में इसका कारोबार लगभग दस गुना बढ़ गया है। इसके आने वाले पांच साल में और दस गुना बढ़ने का अनुमान है।

बाल, नाखून, चेहरे, त्वचा आदि को सुंदर बनाने तथा मोटापा कम करने जैसी बातों से जुड़े इस उद्याेग के एक जाने माने विशेषज्ञ तथा पेशे से चिकित्सक डाक्टर दर्शन तनरेजा ने आज यह जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक लोग अब बेहतर से बेहतर दिखना चाहते हैं। इसके लिए वे अत्याधुनिक तकनीक वाले सैलून और वेलनेस सेंटर का उपयोग करने लगे हैँ। अनचाहे बाल निकालने के लिए अब फ्रॉस्ट कूल टेक्नोलॉजी जैसी लेजर आधारित तकनीक का धड़ल्ले से इस्तेमाल कर रहे हैं।

युवाओं में कुछ साल पहले तक दाढ़ी मूछें साफ रखने का चलन था पर अब उनमें दाढ़ी रखने और इसे कई तरीकों से संवारने का चलन इतना बढ़ गया हैै कि कई ब्रांड केवल इसी के इर्दगिर्द काम कर रहे हैं। नाखून की सज्जा के भी अनगिनत नए तरीके और तकनीक का अब इस्तेमाल लोग कर रहे हैं।

हेयर स्टाइल यानी केश सज्जा को लेकर भी लोगों में काफी सजगता है। लोग अपने आप को बेहतर से बेहतर दिखाना चाहते हैं ताकि सोशल मीडिया पर बात-बात पर शेयर की जाने वाली उनकी तस्वीरें भी लोगों को अच्छी और आकर्षक लगें। देश में युवाओं की बड़ी आबादी ने भी इन बातों को बढ़ावा दिया है।

डा़ तलरेजा ने कहा कि सुंदर दिखने तथा सोशल मीडिया पर अपनी तस्वीरे शेयर करने की होड़ ने सौंदर्य उद्योग को जबरदस्त उछाल दी है। इसके कारोबार में देश भर में पिछले मात्र तीन साल में ही औसतन 10 गुने की वृद्धि हुई है। अकेले गुजरात में इसका आकार इस दौरान लगभग 250 करोड़ से बढ़ कर 2500 करोड़ से भी अधिक का हो गया है। अकेले अहमदबाद शहर में ही यह 300 से 400 करोड़ का हो गया है।

द हैपी लिविंग तथा द हैपी लिविंग इम्पिरिया नाम के दो अत्याधुनिक ब्यूटी सैलून के संस्थापक और निदेशक डा तलरेजा, जो वीएलसीसी से भी लंबे समय तक जुड़े रहे हैं, ने कहा कि आने वाले पांच साल में इसमें और दस गुने की वृद्धि का अनुमान है।