रोहित शर्मा का शतक बेकार, आस्ट्रेलिया 34 रन से जीता

Rohit Sharma's century is worthless, Australia win by 34 runs
Rohit Sharma’s century is worthless, Australia win by 34 runs

सिडनी। उपकप्तान रोहित शर्मा (133 रन) की शतकीय पारी भी भारत को आस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज के पहले मुकाबले में शनिवार को जीत नहीं दिला सकी और मेहमान टीम 34 रन से पराजित हो गई।

आस्ट्रेलिया ने टॉस जीतने के बाद पहले बल्लेबाज़ी करते हुए निर्धारित 50 ओवरों में पांच विकेट पर 288 रन बनाए थे जिसके जवाब में भारतीय टीम निर्धारित ओवरों में नौ विकेट खोकर 254 रन ही बना सकी। इस हार के साथ भारत तीन मैचों की सीरीज में 0-1 से पिछड़ गई है।

भारतीय पारी में केवल दो ही बल्लेबाजों ने जुझारूपन दिखाया और ओपनर रोहित ने 133 रन तथा मध्यक्रम के विकेटकीपर बल्लेबाज़ महेंद्र सिंह धोनी ने 51 रन बनाए। शिखर धवन और अंबाटी रायुडू शून्य पर आउट हुए तथा कप्तान विराट कोहली केवल तीन रन ही बना पाए। भारत के नौ में छह बल्लेबाज़ दहाई के आंकड़े तक भी नहीं पहुंच सके।

आस्ट्रेलिया के लिए मात्र अपना पांचवां वनडे खेल रहे मध्यम तेज़ गेंदबाज जाए रिचर्डसन ने 10 ओवर में घातक और किफायती गेंदबाज़ी करते हुए भारत के 26 रन देकर सर्वाधिक चार विकेट निकाले। उन्होंने कप्तान विराट कोहली, रायुडू, दिनेश कार्तिक और रवींद्र जडेजा के विकेट लिए और मैन ऑफ द मैच रहे।

पदार्पण खिलाड़ी जेसन बेहरेनड्रॉफ ने 10 ओवर में 39 रन पर दो विकेट और मार्नस स्टोइनिस ने 66 रन पर दो विकेट निकाले। पीटर सिडल को 48 रन पर एक विकेट हाथ लगा। आस्ट्रेलिया ने अपनी बेहतरीन गेंदबाज़ी से पूर्व संतोषजनक बल्लेबाज़ी भी जिसके लिए उस्मान ख्वाजा ने 59 रन, शॉन मार्श ने 54 रन और पीटर हैंड्सकोंब ने 73 रन की अर्धशतकीय पारियां खेलीं।

टेस्ट सीरीज में 2-1 की जीत के साथ इतिहास रचने वाली भारतीय टीम सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर खेले गए पहले वनडे में लय से भटकी नज़र आई और लक्ष्य का पीछा करते हुए उसकी शुरूआत खराब रही। टीम में लौटे स्टार बल्लेबाज़ धवन पहली ही गेंद पर बेहरेनड्रॉफ की गेंद पर पगबाधा होकर पवेलियन लौट गए जबकि कप्तान विराट ने भी निराश किया और आठ गेंदों में तीन रन ही बनाए। वह पदार्पण गेंदबाज रिचर्डसन की गेंद पर स्टोइनिस के हाथों कैच हुए और भारत के चार रन पर दो अहम विकेट गंवा दिए।

भारत को तीसरा झटका चौथे ओवर में चार रन के स्कोर पर ही लग गया जब रिचर्डसन ने रायुडू को शून्य पर पगबाधा कर दिया। इसके बाद रोहित और विकेटकीपर धोनी ने मोर्चा संभाला और चौथे विकेट के लिए 137 रन की महत्वपूर्ण साझेदारी की। भारतीय टीम पटरी पर लौटती नजर आ रही थी कि बेहरेनड्रॉफ ने धोनी को पगबाधा कर भारत को करारा झटका दे दिया।

धोनी ने अपना 68वां अर्धशतक बनाया और इस पारी के दौरान उन्होंने भारत की ओर से 10 हजारी वनडे रन भी पूरे कर लिए। धोनी ने 96 गेंदों पर 51 रन में तीन चौके और एक छक्का लगाया। धोनी ने धीमी शुरूआत की और उनका पहला बाउंड्री शॉट छक्का था। उन्होंने फिर गति पकड़ी और रोहित के साथ एक अच्छी शतकीय साझेदारी की लेकिन उनके आउट होते ही भारतीय पारी की लय बिगड़ गई।

कार्तिक 21 गेंदों में 12 रन बनाने के बाद रिचर्डसन की गेंद को स्टम्प्स पर खेल गए जबकि जडेजा ने आठ रन बनाने के बाद रिचर्डसन की गेंद पर शाॅन मार्श काे कैच थमा दिया। भारत का पांचवां विकेट 176 और छठा विकेट 213 के स्कोर पर गिरा। रोहित के रहते भारत को जीत की उम्मीद बनी हुयी थी लेकिन उनके 46वें ओवर में 221 के स्कोर पर आउट होते ही भारतीय उम्मीदें टूट गयीं। रोहित का विकेट स्टोइनिस ने लिया।

भारतीय उपकप्तान ने अपने 50 रन 62 गेंदों में और 100 रन 110 गेंदों में पूरे किए। यह रोहित का 22वां वनडे शतक था। भुवनेश्वर ने 23 गेंदों में नाबाद 29 रन बनाए और भारत जीत से काफी दूर रह गया।

इससे पहले ख्वाजा, मार्श और हैंड्सकोंब के अर्धशतकों की मदद से आस्ट्रेलिया ने 50 ओवर में पांच विकेट के नुकसान पर 288 रन बनाये। ख्वाजा ने 59 रन, शॉन ने 54 रन और हैंड्सकोंब ने 73 रन की अर्धशतकीय पारियां खेलीं। इसके अलावा स्टोइनिस ने नाबाद 47 रन का योगदान दिया।

आस्ट्रेलियाई टीम ने पहले बल्लेबाजी का फैसला तो किया लेकिन उसकी शुरूआत खराब रही और कप्तान आरोन फिंच को तेज गेंदबाज़ भुवनेश्वर ने मात्र छह रन के निजी स्कोर पर बोल्ड कर भारत को पहला विकेट दिला दिया। बायें हाथ के बल्लेबाज ख्वाजा ने दूसरे विकेट के लिए एलेक्स कारी के साथ 33 रन जोड़े। कारी को चाइनामैन गेंदबाज़ कुलदीप यादव ने रोहित के हाथों कैच कराकर 41 रन पर आस्ट्रेलिया के दो अहम विकेट निकाल लिए। कारी ने 31 गेंदों में पांच चौके लगाकर 24 रन बनाए।

ख्वाजा ने फिर मार्श के साथ तीसरे विकेट के लिए महत्वपूर्ण 92 रन की साझेदारी करते हुए आस्ट्रेलिया को 100 के पार पहुंचाया। ख्वाजा ने अपने वनडे करियर का पांचवां शतक लगाया लेकिन लेफ्ट आर्म स्पिनर रवींद्र जडेजा ने उन्हें पगबाधा कर इस साझेदारी को तोड़ा। ख्वाजा ने 81 गेंदों की पारी में छह चौके लगाकर 59 रन बनाए।

हैंड्सकोंब ने फिर मार्श के साथ चौथे विकेट के लिए 35 गेंदों में तेजी से 53 रन जोड़े। कुलदीप की गेंद पर मार्श बड़ा शॉट लगाने के चक्कर में मोहम्मद शमी को कैच दे बैठे और 54 रन बनाकर आउट हुए। उन्होंने 70 गेंदों की पारी में चार चाैके लगाए।

हैंड्सकोंब और स्टोइनिस ने फिर 47वें ओवर तक आस्ट्रेलिया को 254 के संतोषजनक स्कोर तक पहुंचाया। दोनों ने पांचवें विकेट के लिये 68 रन की दूसरी बड़ी साझेदारी की। भारतीय गेंदबाजों के लिये सिरदर्द बन चुके हैंड्सकोंब 73 रन पर भुवनेश्वर का शिकार बने। उन्होंने 61 गेंदों में छह चौके और दो छक्के लगाये और 47वें ओवर में भुवी की गेंद पर धवन ने उन्हें एक्सट्रा कवर बाउंड्री के पास लपक पांचवां विकेट निकाल मेहमान टीम को राहत दी।

हालांकि स्टोइनिस आखिरी तक टिके रहे और कई बेहतरीन बड़े शॉट्स खेले। उन्होंने 43 गेंदों में दो चौके और दो छक्के लगाए और नाबाद 47 रन की पारी खेली। स्टोइनिस ने ग्लेन मैक्सवेल के साथ छठे विकेट के लिए अविजित 34 रन जोड़े। मैक्सवेल ने नाबाद 11 रन बनाए।

तेज गेंदबाज़ भुवनेश्वर आखिरी ओवर में महंगे साबित हुए और 18 रन लुटा बैठे। भुवनेश्वर और कुलदीप ने 10-10 ओवर की गेंदबाजी में 66 और क्रमश: 54 रन देकर दो दो विकेट लिए जबकि जडेजा को 48 रन पर एक विकेट मिला। भुवी ने मैच के 19वें ओवर में अपने 100 विकेट की उपलब्धि भी पूरी कर ली।